10 अंक का ही रहेगा मोबाइल नंबर, 11 की कोई योजना नहीं : ट्राई !    महाराष्ट्र, गुजरात के समुद्री तट से 3 जून को टकरा सकता है चक्रवात, अलर्ट जारी !    मन्नार की खाड़ी में मिली रंग बदलने वाली दुर्लभ मछली! !    भारत के साथ सीमा गतिरोध : नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक !    किसी विपक्षी नेता को कोविड अस्पताल जाना पड़ता तो व्यवस्थाओं पर न उठाते सवाल : योगी !    ऑस्ट्रेलियाई पीएम मॉरिसन ने किया ट‍्वीट...मोदी के साथ समोसे खाना चाहूंगा! !    जानवरों में एंथ्रेक्स वायरस : कॉर्बेट टाइगर रिजर्व ने जारी किया अलर्ट !    आईसीएसई के परीक्षार्थियों को भी सेंटर बदलने की अनुमति !    पीओके में सभी शिविर, लांच पैड आतंकियों से भरे : ले.जन. राजू !    सेना ने पूर्वी लद्दाख में टकराव के कथित वीडियो को किया खारिज !    

लोकतंत्र में आवाज उठाना कोई जुल्म नहीं : प्रियंका

Posted On February - 13 - 2020

अाजमगढ़ में बुधवार को सीएए, एनआरसी के खिलाफ धरने पर बैठीं मुस्लिम महिलाओं से मिलने पहुंचीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी एक बच्ची से बात करते हुए। -प्रेट्र

आजमगढ़, 12 फरवरी (एजेंसी)
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में अपनी पार्टी को मजबूत करने की अपील करते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने जेल में बंद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनकारियों के परिजनों से बुधवार को मुलाकात की। प्रियंका ने कहा कि लोकतंत्र में आवाज उठाना कोई जुल्म नहीं है।
केन्द्र और उत्तर प्रदेश में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकारों पर प्रियंका ने संविधान तोड़ने का प्रयास करने का आरोप मढा। उन्होंने दोनों ही सरकारों को गरीब विरोधी और जन विरोधी करार दिया। बिलरियागंज में अपनी एसयूवी की छत से जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आपके साथ जो हुआ, वह गलत है और अन्याय है।
प्रियंका ने कहा कि कांग्रेस शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ खड़ी होगी। उन्होंने कहा, ‘मैंने महिलाओं के बारे में सुना। मैं बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, लखनऊ और वाराणसी गयी और उन जगहों पर गयी, जहां पुलिस और प्रशासन ने अत्याचार किया। मैं यहां की रिपोर्ट लूंगी। मैं उन पुलिस वालों के नाम भेजूंगी, जिन्होंने अत्याचार किया है।’ लोगों को संबोधित करने से पहले प्रियंका उन प्रदर्शनकारियों के परिजनों से मिलीं, जो 4 फरवरी को सीएए विरोधी प्रदर्शन में शामिल हुए थे। प्रियंका से मिलने वाली एक महिला ने कहा कि हमने उन्हें पूरी बात बतायी। हम चाहते हैं कि हमारे नेता ताहिर मदनी और जिनके खिलाफ झूठे मुकदमे लगाये गये, उन्हें रिहा किया जाए। इससे पहले, सुबह प्रियंका ने ट्वीट किया, ‘लोकतंत्र में आवाज उठाना जुल्म नहीं है और मेरा कर्तव्य है कि जिनके साथ जुल्म हो रहा है, मैं उनके साथ खड़ी हूं।’
प्रियंका ने ट्वीट के साथ एक फोटो भी लगाया है, जिसमें कैफी आजमी का शेर है, ‘सब उठें, मैं भी उठूं, तुम भी उठो, तुम भी उठो। कोई खिड़की इसी दीवार में खुल जाएगी।’


Comments Off on लोकतंत्र में आवाज उठाना कोई जुल्म नहीं : प्रियंका
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.