नहीं रहे आजाद हिंद फौज के सिपाही छोटूराम !    कोल्ड बेस्ट पीसी कंपनी का स्टाॅक जब्त !    एटीएम काटकर साढ़े 7.50 ले गये बदमाश !    पाक में पीपीपी विधायक की गोली मारकर हत्या !    पंचायत चुनाव लड़ने को तैयार, नेताओं को करें रिहा : नेकां !    जोजिला सुरंग के डिजाइन में हो सकता है बदलाव !    पहाड़ों पर सैटेलाइट फोन से मिलेगी तत्काल चिकित्सा !    आंगनवाड़ी वर्करों को भी पेंशन देने पर विचार !    हिमाचल के 8 जिलों में बिजली गिरने का अलर्ट !    अब तक जौहरी के इस्तीफे को नहीं मिली मंजूरी !    

पटेल को मंत्रिमंडल में नहीं चाहते थे नेहरू

Posted On February - 14 - 2020

नयी दिल्ली, 13 फरवरी (एजेंसी)
क्या सरदार वल्लभभाई पटेल 1947 में जवाहरलाल नेहरू की पहली कैबिनेट सूची में शामिल थे? इस सवाल पर गुरुवार को इस समय बहस तेज हो गई, जब विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक किताब का हवाला देते हुए दावा किया कि नेहरू अपने मंत्रिमंडल में पटेल को नहीं चाहते थे। दूसरी ओर कांग्रेस नेताओं के साथ ही इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने इस दलील का खंडन किया और विदेश मंत्री की आलोचना की।
जयशंकर ने बुधवार रात एक वरिष्ठ नौकरशाह वीपी मेनन की जीवनी के अनावरण से संबंधित एक पोस्ट की थी। मेनन ने पटेल के बेहद करीब रहकर काम किया था। जयशंकर ने कहा कि किताब ने ‘सच्चे ऐतिहासिक व्यक्तित्व के साथ बहुप्रतीक्षित न्याय किया है। किताब से पता चला कि नेहरू 1947 में अपने मंत्रिमंडल में पटेल को नहीं चाहते थे और उन्हें मंत्रिमंडल की पहली सूची से बाहर रखा था। निश्चित रूप से इस पर काफी बहस की गुंजाइश है।’
जयशंकर के इस ट्वीट पर गुहा की तरफ से तीखी प्रतिक्रिया आई, जिन्होंने कहा, ‘यह एक मिथक है, जिसे प्रोफेसर श्रीनाथ राघवन ने पूरी तरह ध्वस्त कर दिया है।’ गुहा ने तीखे लहजे में लिखे गए ट्वीट में कहा, ‘आधुनिक भारत के निर्माताओं के बारे में फर्जी खबरों, और उनके बीच झूठी प्रतिद्वंद्विता को बढ़ावा देना, विदेश मंत्री का काम नहीं है। उन्हें इसे भाजपा के आईटी सेल पर छोड़ देना चाहिए।’
इसके जवाब में विदेश मंत्री ने कहा कि कुछ विदेश मंत्री किताबें पढ़ते हैं और कुछ प्रोफेसरों के लिए भी ये एक अच्छी आदत हो सकती है। ‘ऐसे में मैं चाहूंगा कि मेरे द्वारा कल जारी हुई किताब जरूर पढ़नी चाहिए।’
बहस यहीं नहीं खत्म हुई। गुहा ने एक अगस्त 1947 को नेहरू द्वारा पटेल को लिखा गया एक पत्र पोस्ट कियाजिसमें में नेहरू ने आजाद भारत के अपने पहले मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए पटेल को आमंत्रित किया है, और पत्र में नेहरू ने पटेल को अपने मंत्रिमंडल का सबसे मजबूत स्तंभ बताया है। गुहा ने ट्विटर पर पूछा, ‘कृपया, क्या कोई इसे जयशंकर को दिखा सकता है।’ कांग्रेसी नेता शशि थरूर और जयराम रमेश ने भी इस बयान के चलते जयशंकर को आड़े हाथों लिया।


Comments Off on पटेल को मंत्रिमंडल में नहीं चाहते थे नेहरू
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.