सृष्टि के विकास का सार अर्धनारीश्वर !    व्रत-पर्व !    अंजाम !    अनुशासन का पाठ !    बच्चों की इमोशनल सेहत भी संभालें !    सामग्री की क्षति के लिए डाक विभाग ज़िम्मेदार !    परेशानी का सबब न बने प्यार !    स्मृतियों के दंश और क्षमा !    जोश में एकता कपूर !    फ्लैशबैक !    

थ्रिलर और गंभीर सब्जेक्ट पसंद

Posted On February - 15 - 2020

विक्रम भट्ट

धर्मपाल

बॉलीवुड में ‘फरेब’, ‘राज़’, ‘गुलाम’, ‘1920’, ‘आवारा पागल दीवाना’, ‘शापित’, ‘हॉन्टेड’, ‘1921’ और ‘राज़ 3’ जैसी फिल्में देने वाले भट्ट कैंप के निर्देशक एक बार फिर अपनी थ्रिलर फिल्म ‘हैक्ड’ को लेकर चर्चा में हैं। विक्रम भट्ट की इस फिल्म को दर्शकों ने खूब पसंद भी किया है। इनकी वेब सीरीज़ ‘माया-2’ का ट्रेलर आ चुका है। पेश है इनसे बातचीत के अंश—
‘हैक्ड’ साइबर क्राइम पर बनी है। इस विषय को चुनने की वजह?
हमेशा से मेरी फिल्मों में दर्शकों को हॉरर कहानियां नज़र आई हैं। इस नई थ्रिलर में हमने डिजिटल और सोशल मीडिया की दुनिया के स्याह पक्ष को उभारने की कोशिश की है। मेरी एक फ्रेंड के साथ ऐसी घटना घटी थी। एक लड़का उनके पीछे इस कदर पड़ गया था और उनका जीना मुश्किल हो गया था। उस हैकर ने मेरी दोस्त का वाई-फाई हैक कर लिया था, इसके बाद लैपटॉप, मोबाइल और यहां तक कि स्मार्ट टीवी भी हैक कर लिया। इसी घटना ने मुझे साइबर क्राइम पर फिल्म बनाने को प्रेरित किया।
आगे किस तरह के प्रोजेक्ट पर काम करने की योजना है?
फिलहाल मैं ओटीटी प्लेटफॉर्म पर काम कर रहा हूं। हमारी एक वेब सीरीज़ माया का पिछला सीज़न हिट रहा था। अब माया -2  भी आ रहा है। यह सीरीज़ 30 मई से डिजिटल प्लेटफॉर्म पर स्ट्रीम होगी।
आपकी नज़र में टारगेट ऑडियंस कौन हैं?
जिन लोगों को हॉरर या थ्रिलर फिल्में देखना पसंद है, वे टारगेट ऑडियंस हैं। हैक्ड भी अलग तरह की फिल्म है, जिसकी कहानी साइबर क्राइम के इर्द-गिर्द घूमती है।
थ्रिलर फिल्में बनाना कितना चुनौतीपूर्ण काम है?
थ्रिलर फिल्में बनाना चुनौतीपूर्ण काम होता है और इस बात से मैं इनकार नहीं करता। लेकिन हम अपने कलाकारों और तकनीकी कर्मचारियों के साथ कड़ी मेहनत करते हैं ताकी फिल्म बेहतरीन बनाई जा सके।
आपकी नज़र में दूसरी थ्रिलर फिल्मों से अलग कैसे है हालिया रिलीज़ हैक्ड ?
फिल्म आज के दौर की साइबर क्राइम गतिविधियों पर आधारित है। आज हर कोई साइबर क्राइम का शिकार है। इसका सब्जेक्ट सोच समझकर रखा गया जो बताता है कि किस तरह ऑनलाइन माध्यम से किसी व्यक्ति को कितना नुकसान हो सकता है।
टीवी कलाकारों को जगह देने की कैसे सूझी?
‘हैक्ड’ को कुछ अच्छे कलाकारों की ज़रूरत थी। दर्शकों को इनका काम पसंद भी आया है।
ओटीटी के भविष्य पर आश्वस्त हैं ?
दरअसल यह उनके लिये है जो टेकसेवी हैं और जिन्हें मसाला कंटेंट के साथ गंभीर सब्जेक्ट की भी समझ है। यह अलग तरह का वर्ग है। ‘माया-2’ की कहानी पर वह कहते हैं कि यह आकर्षक है और इसका प्लॉट भी कुशलता से बुना गया है। हमें पूरी उम्मीद है कि बाकी सीरीज़ की तरह इसे भी दर्शक ज़रूर पसंद करेंगे।


Comments Off on थ्रिलर और गंभीर सब्जेक्ट पसंद
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.