ॐ आकार के द्वीप पर विराजमान ओंकारेश्वर !    पार्वती का तप !    महाशिवरात्रि : 117 साल बाद दुर्लभ संयोग !    अनुभवों से बदलें आदतें !    शहद रखे आपको फिट !    मोर के पंख !    सृष्टि के विकास का सार अर्धनारीश्वर !    व्रत-पर्व !    अंजाम !    अनुशासन का पाठ !    

कांग्रेस की हार कोरोना जैसी त्रासदी : जयराम रमेश

Posted On February - 14 - 2020

कोच्चि, 13 फरवरी (एजेंसी)
दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार की तुलना ‘कोरोना वायरस की तरह अनवरत त्रासदी’ से करते हुए वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा है कि पार्टी को सख्ती से अपना पुनरावलोकन करना चाहिए। यह टिप्पणी ऐसे समय आई है, जब पार्टी के एक अन्य वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने भी दिल्ली चुनाव में हार के परिप्रेक्ष्य में पार्टी को पुनर्जीवित करने के लिए ‘सर्जिकल’ कार्रवाई का आह्वान किया है।
पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश (65) ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘कांग्रेस नेताओं को अपना पुनरावलोकन करना होगा। कांग्रेस को यदि प्रासंगिक होना है तो उसे स्वयं का पुनरावलोकन करना होगा। अन्यथा, हम अप्रासंगिकता की ओर बढ़ रहे हैं। हमें अहंकार छोड़ना होगा, छह साल से सत्ता से दूर होने के बावजूद हममें से कई लोग कई बार ऐसे बर्ताव करते हैं जैसे हम अब भी मंत्री हैं।’ रमेश के अनुसार स्थानीय नेताओं को प्रोत्साहन देना होगा और आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा, ‘हमारे नेतृत्व के स्वभाव और शैली को बदलना होगा।’
दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम के संबंध में रमेश ने आरोप लगाया कि भाजपा ने दिल्ली के शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में जारी प्रदर्शन का इस्तेमाल मतों के ‘ध्रुवीकरण’ के लिए किया। उन्होंने कहा, ‘भले ही भाजपा नहीं जीती, लेकिन परिणाम कांग्रेस के लिए भी एक त्रासदी हैं।’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘कांग्रेस के लिए यह कोरोना वायरस की तरह एक अनवरत त्रासदी है।’ कांग्रेस नेता ने दावा किया कि दिल्ली के चुनाव परिणाम ने केंद्रीय मंत्री अमित शाह की शैली वाली राजनीति को खारिज किया है। उन्होंने कहा, ‘यह (चुनाव परिणाम) उनके मुंह पर करारा तमाचा है और इसने प्रचार अभियान में इस्तेमाल की गई भाषा तथा तरकीबों को खारिज कर दिया।’

एनआरसी के खिलाफ भी आंदोलन करे ‘शाहीन बाग’
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा कि अगर शाहीन बाग के लोगों को लगता है कि उनसे उनकी नागरिकता ले ली जाएगी तो उन्हें राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ आंदोलन चलाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं समझ नहीं पा रहा कि शाहीन बाग में लोग क्यों विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। क्या वो चिंतित हैं कि उनकी नागरिकता उनसे ले ली जाएगी। ऐसा है तो उन्हें एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ आंदोलन करना चाहिए। वे केवल सीएए के खिलाफ प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं।’ एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, ‘मैं उनकी भावनाओं को समझता हूं। शुरू में चार दिन, पांच दिन (विरोध चला)… लेकिन एक वक्त बाद मुझे लगता है कि शाहीन बाग को बनाए रखकर इसने भाजपा के हितों को पूरा किया है। शाहीन बाग ने सांप्रदायिक मुसलमानों के हित को भी पूरा किया है।’ नागरिकता कानून में संशोधन करने के लिए रमेश ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए दावा किया कि इसे धर्म के आधार पर लोगों को बांटने के लिए लाया गया।


Comments Off on कांग्रेस की हार कोरोना जैसी त्रासदी : जयराम रमेश
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.