हथीन 10 बांग्लादेशी मिलने से हड़कंप !    सीबीएसई : 11वीं में अब ‘अप्लाइड मैथ्स’ का भी विकल्प !    बीएस-4 मानें कोर्ट का आदेश : केंद्र !    बिना सब्सिडी गैस सिलेंडर 61.5 रुपये सस्ता !    चीन ने लक्षण मुक्त मामलों का किया खुलासा !    महामारी के 10 हॉटस्पॉट !    अभिनेता एंड्रियू जैक की कोरोना से मौत !    जम्मू-कश्मीर : समूह-4 तक की नौकरियां होंगी आरक्षित !    विप्रो व अजीम प्रेमजी फाउंडेशन देंगे 1125 करोड़ !    यूबीआई और ओबीसी का पीएनबी में विलय !    

अब नही होंगे फेल !

Posted On February - 15 - 2020

सीबीएसई बोर्ड की मुख्य परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। इस बार पैटर्न में बदलाव के साथ साथ बोर्ड मार्कशीट से फेल और कंपार्टमेंट जैसे शब्द हटाने पर विचार कर रहा है। हालांकि अभी यह प्रस्ताव विचाराधीन है कि 10वीं और 12वीं की मार्कशीट में फेल और कंपार्टमेंट शब्द इस्तेमाल नहीं होंगे, बल्कि इनकी जगह कोई दूसरा शब्द प्रयोग किया जाएगा ।
यह दूसरा शब्द क्या होगा, इसके बारे में संबंध स्कूलों के प्राचार्यों से सुझाव मांगे गये हैं। सुझाव आने पर इसी सत्र के रिजल्ट में यह नया शब्द जोड़ा जा सकता है।
यानी अब सीबीएसई बोर्ड में परीक्षा में पास और फेल दोनों छात्रों का रिजल्ट जारी करेगा।
जो छात्र या छात्रा दो विषय में फेल हो जाते हैं, उन्हें कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होना पड़ता है। लेकिन जो छात्र या छात्रा पास नहीं होंगे, उन्हें अंकपत्र तो दिया जाएगा लेकिन उसमें फेल शब्द नहीं लिखा रहेगा बल्कि कोई नया शब्द गढ़ा जायेगा।
बोर्ड का कहना है कि फेल या असफल होने की स्थिति में बच्चा डिप्रेशन की स्थिति तक पहुंच सकता है। उसे लगने लगता है कि अब वो आगे भविष्य में कुछ नहीं कर पाएगा। ऐसे में बच्चों को उत्साह देने की जरूरत है। इसलिए एक ऐसा प्रस्ताव रखा गया है कि अंकपत्रिका में फेल शब्द को बदलकर कोई दूसरा शब्द लिखा जाए, जिससे बच्चों पर कोई नकारात्मक असर न पड़े।
सवालों का भी बदलेगा पैटर्न
सीबीएसई के मुताबिक साल 2024 तक परीक्षा का पूरा पैटर्न बदल जाएगा । परीक्षा में सवाल रटने पर नहीं सोचने पर आधारित होंगे । इसकी शुरुआत चालू सत्र में दसवीं की परीक्षा से कर दी गई है। इससे पहले भी बोर्ड कह चुका है कि 10वीं और 12वीं के प्रश्न पत्र पैटर्न में बड़े बदलाव करने जा रहा है। दरअसल यह कदम का उद्देश्य बच्चों में क्रिएटिविटी, रचनात्मक और विश्लेषणात्मक सोच को बढ़ावा देना है। अब साल 2023 तक बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं में रचनात्मक, विश्लेषणात्मक सोच पर आधारित होंगी। यानी ये सवाल किताबी ज्ञान से अलग होंगे और बच्चों में रचनात्मकता और समझ को बढ़ावा देंगे । नये बदलावों के मुताबिक प्रश्नपत्र में 20 फीसदी सवालों को बहुविकल्पीय और 10 फीसदी को रचनात्मक बनाया जाएगा।
सभी सवालों के 33 फीसदी हिस्से में छात्रों को इंटरनल ऑप्शन मिलेगा।
हो सकता है कि अब जल्द ही या मौजूदा सत्र के रिजल्ट में फेल की जगह नॉट-क्वालीफाई या इसके जैसे अन्य शब्द प्रयोग किये जाएं।
प्रक्रिया को बेहतर बनाने की कोशिश
CBSE अपने इवैल्यूएशन प्रोसेस को एरर फ्री बनाने की कोशिश कर रहा है। इस सत्र से ही बदलाव की शुरुआत हो चुकी है। आगे चलकर बोर्ड और कुछ बदलाव करने पर विचार कर रहा है। अब 12वीं की 2020 में होने वाली वार्षिक परीक्षाओं में मैथ्स, फिजिक्स, केमिस्ट्री, अकाउंट, सोशियोलॉजी, इकोनॉमिक्स, बिजनेस स्टडीज, साइकोलाजी आदि विषयों में लॉन्ग आंसर प्रश्नों की संख्या में कमी लाई जाएगी। इन विषयों में प्रश्नों के पहले से ज्यादा विकल्प दिए जाएंगे। इससे विद्यार्थियों को प्रश्न पत्र हल करने में सुविधा मिलेगी। ऑब्जेक्टिव प्रश्न ज्यादा आने से हल करने में समय कम लगेगा। ऐसे में बिना प्रेशर के अधिक क्रिएटिव आंसर लिखने के लिए सोचने का समय मिलेगा। इससे छात्रों के लिए परीक्षा में अच्छे अंक पाना आसान हो जाएगा। 10वीं की इस साल होने वाली सालाना परीक्षा पैटर्न में हिंदी, अंग्रेजी, होम साइंस, गणित, संस्कृत, साइंस और सोशल साइंस के सब्जेक्ट में शोर्ट आंसर प्रश्नों की संख्या में कमी होगी। प्रश्नों के पहले से ज्यादा विकल्प होंगे।
इन पर भी दें ध्यान
बोर्ड पहले ही साफ कर चुका है कि अब हर विषय के पेपर में 1 नंबर वाले 25 फीसदी बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे। वहीं, जिन विषयों में प्रैक्टिकल नहीं होते हैं, उनमें इस बार से इंटरनल असेसमेंट लिया जाएगा। ये इंटरनल असेसमेंट 20 अंकों का होगा। 10वीं कक्षा में पास होने के लिए हर सब्जेक्ट में प्रैक्टिकल व थ्योरी में मिलाकर 33 प्रतिशत अंक लाने होंगे। 12वीं के स्टूडेंट्स को पास होने के लिए प्रैक्टिकल, थ्योरी और इंटरनल असेसमेंट में अलग-अलग 33 फीसद अंक लाने होंगे। 12वीं परीक्षा में 70 अंक वाले विषय में 23 और 80 अंक वाले विषय में 26 अंक लाना जरूरी होगा।
CBSE Board की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार CBSE बोर्ड कक्षा 10वीं के मेन पेपर्स के एग्जाम 26 फरवरी 2020 से शुरू हो रहे हैं। ये परीक्षाएं 18 मार्च 2020 तक चलेंगी। 12वीं के मुख्य विषयों की परीक्षाएं 22 फरवरी से शुरू होंगी जो 30 मार्च 2020 तक जारी रहेंगी।


Comments Off on अब नही होंगे फेल !
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.