नेहा की चेतावनी! !    चैनल चर्चा !    ऐसा हो आइडियल होम ऑफिस !    गोलियों की बोलियां !    हिंदी फीचर फिल्म : हावड़ा ब्रिज !    टूथ ज्वैलरी खुलकर हंसिए !    स्प्रिंग सीज़न में फैशन !    हेलो हाॅलीवुड !    सिल्वर स्क्रीन !    पार्टी अनुशासन का ध्यान रखें कार्यकर्ता : राठौर !    

बीरेंद्र सिंह का इस्तीफा मंजूर, हरियाणा से राज्यसभा के लिए खाली हुई दो सीटें

Posted On January - 21 - 2020

चंडीगढ़ (ट्रिन्यू) : पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता चौ. बीरेंद्र सिंह का राज्यसभा से इस्तीफा मंजूर हो गया है। सोमवार को राज्यसभा सचिवालय ने अधिकारिक तौर पर बीरेंद्र सिंह का इस्तीफा मंजूर किया। बीरेंद्र ङ्क्षसह ने पिछले साल नवंबर माह में इस्तीफा भेजा था, लेकिन उनका त्याग-पत्र मंजूर नहीं हुआ था। बीरेंद्र सिंह के इस्तीफे के साथ अब प्रदेश में राज्यसभा की पांच में से 2 सीट खाली हो गई हैं।
इनेलो टिकट पर राज्यसभा सांसद रहे रामकुमार कश्यप ने 4 नवंबर को इस्तीफा दिया था। उन्होंने इंद्री से भाजपा टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा। विधायक बनने के बाद उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दिया और फिर विधानसभा में सदस्यता की शपथ ग्रहण की। मोदी सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से हटाए गए अनुच्छेद-370 के समर्थन में कश्यप ने राज्यसभा में भाजपा के समर्थन में वोटिंग भी की थी। इसके बाद से ही उनकी भाजपा से नजदीकियां बढ़ गई थीं।
पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा का कार्यकाल भी 9 अप्रैल को पूरा हो रहा है। हुड्डा सरकार के समय सैलजा को राज्यसभा में भेजा गया था। ऐसे में प्रदेश में अब राज्यसभा की तीन सीटें खाली हो जाएंगी। बीरेंद्र सिंह का कार्यकाल क्योंकि पहली अगस्त, 2022 तक था। इसलिए इस सीट पर उपचुनाव होगा। वहीं कश्यप और सैलजा की सीटों पर आमचुनाव होगा।
माना जा रहा है कि फरवरी माह के दौरान ही राज्यभा की सीटों के लिए चुनाव कार्यक्रम जारी हो सकता है। ऐसे में अब यह देखना रोचक रहेगा कि तीनों सीटों का चुनाव कार्यक्रम साथ ही जारी होगा है या फिर अलग-अलग तरीके से चुनाव शैड्यूल आता है। अगर एक साथ चुनाव करवाए जाते हैं तो दो सीटें भाजपा और एक कांग्रेस के खाते में आनी लगभग तय है। अलग चुनाव होने की सूरत में कुछ भी बड़ा खेल हो सकता है।

बेटे के लिए छोड़ी राज्यसभा
दरअसल, 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान बीरेंद्र ङ्क्षसह ने अपने आईएएस बेटे बृजेंद्र सिंह के लिए राज्यसभा छोडऩे का फैसला लिया था। भाजपा में एक परिवार से एक ही व्यक्ति को टिकट का फार्मूला बना हुआ है। हालांकि बीरेंद्र सिंह के मामले में नियमों में ढील दी गई। बीरेंद्र सिंह प्रदेश की राजनीति के अकेले ऐसे नेता रहे, जो खुद राज्यसभा सांसद रहे और उनके बेटे बृजेंद्र सिंह को हिसार से लोकसभा का टिकट मिला। उस समय उनकी धर्मपत्नी प्रेमलता उचाना कलां से विधायक थीं। प्रेमलता को पार्टी ने इस बार भी टिकट दिया था लेकिन वे जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला के हाथों शिकस्त खा बैठी। बताते हैं कि बेटे को टिकट देने के लिए पार्टी ने बीरेंद्र सिंह के सामने राज्यसभा छोडऩे की शर्त रखी थी।

संगठन में मिल सकती जगह
भाजपा बीरेंद्र सिंह को प्रदेश की राजनीति का बड़ा जाट चेहरा मानती है। ऐसे में बहुत संभव है कि अब बीरेंद्र सिंह को पार्टी संगठन में जगह दी जाए। चर्चा इस बात की भी हैं कि मोदी कैबिनेट में संभावित फेरबदल व विस्तार के दौरान उनके सांसद पुत्र बृजेंद्र सिंह को केंद्र सरकार में जगह मिल जाए। फिलहाल तरह-तरह की अटकलें हैं। अगर ऐसा कुछ होता है तो वह दिल्ली विधानसभा चुनावों के बाद ही होगा।

दो बार दिया इस्तीफा
बीरेंद्र सिंह ने राज्यसभा के लिए दो बार इस्तीफा दिया। सबसे पहले उन्होंने लोकसभा चुनावों में बेटे की टिकट की घोषणा होते ही पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। उस समय उन्होंने राज्यसभा सचिवालय में अपना इस्तीफा नहीं भेजा था। इसके बाद उन्होंने नवंबर माह में राज्यसभा अध्यक्ष एवं उपराष्ट्रपति को अपना इस्तीफा भेजा। राज्यसभा सचिवालय में उनके इस्तीफे पर कोई फैसला नहीं हुआ था। सोमवार को उनका इस्तीफा मंजूर किया गया है।

यह है सीटों का गणित
विधानसभा के 90 सदस्य हैं। वोटिंग के दौरान दोनों सीटों पर चुनाव होने पर वोटर दो जगह वोट दे सकता है। उसे यह बताना होगा कि वह पहले नंबर पर किसे रखता है और दूसरे नंबर पर किसको रखेगा। इसलिए एक सदस्य तो 31 और दूसरे को 30 वोटों की जरूरत है। भाजपा के 40 विधायक हैं और कांग्रेस के 31 है। भाजपा को जजपा और निर्दलियों का समर्थन प्राप्त है। लेकिन सभी मिलाकर इस गठबंधन के पास 57 विधायक होते हैं। जबकि बीरेंद्र सिंह के इस्तीफे से खाली हुई सीट पर अलग वोटिंग होने पर यह सीट भाजपा के खाते में जाना तय है।


Comments Off on बीरेंद्र सिंह का इस्तीफा मंजूर, हरियाणा से राज्यसभा के लिए खाली हुई दो सीटें
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.