अभी-अभी उतरा हूं, भारत महान है... : ट्रंप !    सीएम दुराग्रह छोड़ें या परिणाम भुगतें !    नीरव मोदी की जब्त घड़ियों, कारों की नीलामी आज !    युद्ध अपराधों पर प्रस्ताव से अलग हुआ श्रीलंका !    बेअदबी मामला : आईजी कुंवर विजय प्रताप पहुंचे सीबीआई कोर्ट !    चंबा में भूकंप के झटके !    गैंगरेप पीड़िता ने किया आत्मदाह !    नवाज शरीफ भगोड़ा घोषित !    कर्नाटक के मंत्री ने कहा- समान नागरिक संहिता लाने का समय !    महबूबा की नजरबंदी के खिलाफ याचिका पर नोटिस !    

समय की कद्र करना ज़रूरी

Posted On January - 19 - 2020

याद रही जो सीख

प्रियंका कौल
हमने अक्सर कई लोगों को यह कहते हुए सुना है कि जिंदगी में जो भी इनसान आपको मिलता है वह अवश्य आपको कोई ना कोई सीख देकर जाता है। बचपन से लेकर बड़े होने तक के सफर में इनसान काफी कुछ सीखता है और कुछ एक बातें जिंदगी का सबक भी बन जाती हैं। ऐसा ही सबक मुझे मेरे आलसीपन की वजह से मिला। यह मेरी जिंदगी का वह सच था, जिसे मैं नकार नहीं सकती। मुझे आज भी याद है जब मैं 12वीं पास होने के बाद पहली बार किसी अन्य जगह प्रवेश परीक्षा देने जा रही थी। लेकिन अपने आलस के कारण मैं निर्धारित जगह पर 1 घंटे से देर से पहुंची, जिस वजह से मैं वह परीक्षा नहीं दे पाई। इस पर घर लौटने पर मेरे घरवालों द्वारा बहुत डांट लगाई गई और कई बार अपनी इस आदत को बदलने की नसीहत भी दी गई ताकि आगे चलकर दोबारा मुझे इस तरह की किसी समस्या का सामना न करना पड़े। धीरे-धीरे समय के साथ मेरा आलसपन बढ़ता गया, जिस वजह से मुझे अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ा। इसी दौरान मेरी मुलाकात कॉलेज में एक लड़की से हुई, जिसका नाम काजल था। धीरे-धीरे हम काफी अच्छे दोस्त बन गए। वह मेरी इस आदत पर मुझे काफी गुस्सा करती थी। फिर एक दिन कुछ ऐसा हुआ कि समय की कद्र करना मुझे मेरी दोस्त ने सिखा दिया।
मुझे आज भी याद है, हमारे कॉलेज में एक प्रोग्राम का आयोजन किया गया, जिसमें बेहतर प्रदर्शन के लिए कुछ बच्चों को पुरस्कृत किया जा रहा था। उसमें हम दोनों का नाम भी मौजूद था। लेकिन मेरे इस आलसीपन के कारण हम दोनों ही बहुत देरी से पहुंचे और हमारा अवार्ड हमें नहीं मिल पाया। इसकी वजह से हम दोनों के बीच थोड़ी कहासुनी हो गई और हमारी दोस्ती पहले जैसी ना रही। मुझे घर जाकर अहसास हुआ कि आज मेरी एक खराब आदत की वजह से मैंने अपना एक अच्छा दोस्त खो दिया और यह बात मेरी जिंदगी का सबक बन गई कि आपकी एक खराब आदत आपके साथ दूसरों का भी नुकसान करवा देती है। मैंने तब से यह फैसला किया कि मैं बहुत जल्द अपनी इस आदत को बदलने का पूरा प्रयास करूंगी और तब से लेकर आज तक मैंने खुद में काफी बदलाव लाया है। धीरे-धीरे मैंने समय की कद्र करना सीख लिया है।


Comments Off on समय की कद्र करना ज़रूरी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Manav Mangal Smart School
Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.