विस्तारवाद नहीं, विकास का युग !    कोरोना के रिकॉर्ड 20,903 नये केस !    हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस पर फायरिंग, डीएसपी समेत 8 मरे !    ‘साइबर’ स्ट्राइक के बाद अब चीन को ‘इलेक्ट्रिक शॉक’ !    रेवाड़ी एक दिन में 21 नये पीड़ित, 28 हुए ठीक !    एम्स के लिए माजरा ने 157 एकड़ जमीन की अपलोड !    पाकिस्तान में ट्रेन ने मिनी बस को मारी टक्कर, 19 की मौत !    पाकिस्तान : ट्रेन-बस टक्कर में 29 की मौत, अधिकतर पाक सिख श्रद्धालु, ननकाना साहिब से लौट रही थी बस !    चीन से बिजली उपकरणों के आयात की नहीं दी जाएगी अनुमति : आरके सिंह !    फ्रांस के प्रधानमंत्री का इस्तीफा, सरकार में फेरबदल की संभावना !    

बीमा कंपनियों में पूंजी डाल सकती है सरकार

Posted On January - 13 - 2020

नयी दिल्ली, 12 जनवरी (एजेंसी)
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आम बजट में सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों के लिए दूसरे दौर की पूंजी डालने की घोषणा कर सकती हैं। ऐसी कंपनियों की वित्तीय सेहत सुधारने के लिए सरकार यह कदम उठा सकती है। सरकार ने पिछले महीने 2019-20 के लिए पहली अनुदान के लिए अनुपूरक मांग में 3 बीमा कंपनियों, नेशनल इंश्योरेंस, ओरियंटल इंश्योरेंस और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस में 2,500 करोड़ रुपये डालने की घोषणा की थी। सूत्रों ने कहा कि इन कंपनियों को तय ‘सॉल्वेंसी मार्जिन’ के लिए 10 हजार से 12 हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त जरूरत पड़ेगी।
सूत्रों ने बताया कि इस बारे में घोषणा वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में की जा सकती है। बजट एक फरवरी को पेश होगा।
पूंजी डालने के बाद न केवल इन कंपनियों की वित्तीय सेहत सुधरेगी, बल्कि उनके विलय का रास्ता भी खुल सकेगा। तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 में घोषणा की थी कि तीनों कंपनियों का एक इकाई के रूप में विलय किया जाएगा। हालांकि, इन कंपनियों का विलय कई कारणों मसलन उनकी खराब वित्तीय सेहत की वजह से नहीं किया जा सका था। सूत्रों ने बताया कि विलय के बाद अस्तित्व में आने वाली संयुक्त इकाई को शेयर बाजारों में सूचीबद्ध किया जाएगा। शुरुआती अनुमानों के अनुसार विलय के बाद बनने वाली संयुक्त इकाई देश की सबसे बड़ी साधारण बीमा कंपनी होगी, जिसका मूल्य 1.2 से 1.5 लाख करोड़ रुपये होगा।


Comments Off on बीमा कंपनियों में पूंजी डाल सकती है सरकार
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.