चीन ने म्यांमार के साथ किए 33 समझौते !    दांपत्य को दीजिये अहसासों की ऊष्मा !    नेताजी के जीवन से करें बच्चों को प्रेरित !    बर्फ से बेबस ज़िंदगी !    शाबाश चिंटू !    समय की कद्र करना ज़रूरी !    बैंक लॉकर और आपके अधिकार !    शनि करेंगे कल्याण... बस रहे ध्यान इतना !    मेरी प्यारी घोड़ा गाड़ी !    इन उपायों से प्रसन्न होंगे शनि !    

किसानों को राहत, अप्रैल तक मिलेंगे 6200 ट‍्यूबवैल कनेक्शन

Posted On January - 13 - 2020

ट्रिब्यून न्यूज सर्विस
चंडीगढ़, 12 जनवरी
हरियाणा के किसानों की ट्यूबवैल कनेक्शन जारी करने की मांग सरकार पूरी करने जा रही है। राज्य के बिजली वितरण निगमों – उत्तर व दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने चरणबद्ध तरीके से कनेक्शन जारी करने का फैसला लिया है। पहले चरण में 6200 किसानों को अगले 3 महीने यानी अप्रैल तक बिजली कनेक्शन दिये जाएंगे।
दोनों ही निगमों के पास लगभग 82 हजार किसानों ने ट्यूबवैल कनेक्शन के लिए आवेदन किया हुआ है। इनमें से पहले चरण में केवल उन्हीं किसानों को ट्यूबबैल कनेक्शन जारी होंगे, जो सरकार द्वारा निर्धारित पूरी फीस जमा करवा चुके हैं। एक ट्यूबवैल कनेक्शन पर औसतन 2 लाख रुपये खर्च आता है। बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं, जिन्होंने आवेदन तो किया है, लेकिन फीस जमा नहीं करवाई है।
ट्यूबवैल कनेक्शन को लेकर किसान लम्बे समय से मांग करते आ रहे हैं। खट्टर सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में भी जल्द इनका निपटारा करने के आदेश दिए थे। हालांकि सरकार की ओर से डार्क जोन घोषित हो चुके इलाकों में ट्यूबवैल कनेक्शन देने पर रोक भी लगा दी थी। इस पर बवाल हुआ तो सरकार को नियमों में ढील भी देनी पड़ी। फिलहाल डार्क जोन वाले एरिया में कनेक्शन जारी करने में कोताही ही बरती जा रही है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भी इस मुद्दे पर सरकार को गाइडलाइन जारी की हुई है। बिजली निगमों के आंकड़ों के अनुसार, पहले चरण में उन 6200 किसानों को कनेक्शन जारी करने के निर्देश जिलों में दिए गये हैं, जो अपनी पूरी फीस जमा करवा चुके हैं। फरवरी के आखिर तक लगभग 3000 हजार कनेक्शन जारी होंगे। इसके बाद अप्रैल के आखिर तक बाकी के 3200 कनेक्शन जारी किए जाएंगे। यह प्रक्रिया पूरी होने के दौरान ही जो किसान अपनी निर्धारित फीस जमा करवा देंगे और तमाम प्रक्रिया पूरी कर देंगे, उन्हें भी वरिष्ठता के हिसाब से कनेक्शन दिये जाएंगे। दरअसल, प्रदेश के कई ऐसे इलाके हैं, जहां खेतों की सिंचाई ट्यूबवैल के जरिये ही होती है। नहरी पानी नहीं होने की वजह से उन्हें जमीन से पानी निकालना पड़ता है। इसके लिये बिजली कनेक्शन अनिवार्य है। सरकार ने बिजली सब्सिडी को घटाने की बजाय, किसानों को सौर ऊर्जा की ओर आकर्षित करने की योजना बनाई है। सोलर वाटर पंप किसानों को मुहैया करवाए जा रहे हैं। यह सब्सिडी पर उपलब्ध हैं। यही नहीं, कई ऐसे इलाके हैं, जहां ये सोलर कनेक्शन सीधे ग्रिड से कनेक्ट होंगे।
किसानों को सबसे सस्ती बिजली
प्रदेश में किसानों को सबसे सस्ती बिजली दी जाती है। ट्यूबवैल कनेक्शन पर बिजली की दरें 10 पैसा प्रति यूनिट हैं। पूर्व की हुड्डा सरकार के समय इन दरों को कम किया गया था। हालांकि इससे पहले केवल 25 पैसा प्रति यूनिट ही किसानों से लिया जाता था। बाकी का अंतर सब्सिडी के तौर पर सरकार द्वारा बिजली निगमों को दिया जाता है। अकेले किसानों की सब्सिडी के तौर पर सरकार को सालाना 8 हजार करोड़ से अधिक की चपत लगती है।

“दोनों बिजली कंपनियों को किसानों के लंबित ट्यूबवैल कनेक्शन जारी करने के आदेश दिए हैं। इस वर्ष अप्रैल के आखिर तक 6200 कनेक्शन जारी होंगे। जिन किसानों ने अपना पूरा पैसा जमा करवा दिया है, उनके कनेक्शन जारी कर रहे हैं। कुल 82 हजार के करीब किसानों के आवेदन आए हुए हैं, लेकिन सभी ने निर्धारित फीस जमा नहीं करवाई है।”
-रणजीत सिंह, बिजली मंत्री


Comments Off on किसानों को राहत, अप्रैल तक मिलेंगे 6200 ट‍्यूबवैल कनेक्शन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.