संविधान के 126वें संशोधन पर हरियाणा की मुहर, राज्य में रिजर्व रहेंगी 2 लोकसभा और 17 विधानसभा सीट !    गुस्साये डीएसपी ने पत्नी पर चलायी गोली !    गांवों में विकास कार्यों के एस्टीमेट बनाने में जुटे अधिकारी !    जो गलत करेगा परिणाम उसी को भुगतने पड़ेंगे : शिक्षा मंत्री !    आस्ट्रेलिया भेजने के नाम पर 9.50 लाख हड़पे !    लख्मीचंद पाठशाला से 2 बच्चे लापता !    वास्तविक खरीदार को ही मिलेगी रजिस्ट्री की अपाइंटमेंट !    वायरल वीडियो ने 48 साल बाद कराया मिलन !    ऊना में प्रसव के बाद महिला की मौत पर बवाल !    न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ शाॅ का शतक !    

एकदा

Posted On January - 16 - 2020

सकारात्मक सोच

एक सब्ज़ी वाला था, सब्ज़ी की पूरी दुकान साइकिल पर लगा कर घूमता रहता था। ‘प्रभु’ उसका तकिया कलाम था। कोई पूछता आलू कैसे दिये, 10 रुपये प्रभु । हरी धनिया है क्या? बिलकुल ताज़ा है प्रभु। वह सबको प्रभु कहता था। लोग भी उसको प्रभु कहकर पुकारने लगे। एक दिन उससे किसी ने पूछा तुम सबको प्रभु-प्रभु क्यों कहते हो, यहां तक तुझे भी लोग इसी उपाधि से बुलाते हैं और तुम्हारा कोई असली नाम है भी या नहीं? सब्जी वाले ने कहा है न प्रभु, मेरा नाम भैयालाल है। प्रभु, मैं शुरू से अनपढ़ गंवार हूं। गांव में मज़दूरी करता था, एक बार गांव में एक नामी सन्त विद्या सागर जी के प्रवचन हुए। प्रवचन मेरे पल्ले नहीं पड़े, लेकिन एक लाइन मेरे दिमाग में आकर फंस गई, उन संत ने कहा हर इंसान में प्रभु का वास हैं—तलाशने की कोशिश तो करो पता नहीं किस इंसान में मिल जाये और तुम्हारा उद्धार कर जाये, बस उस दिन से मैंने हर मिलने वाले को प्रभु की नज़र से देखना और पुकारना शुरू कर दिया वाकई चमत्कार हो गया, दुनिया के लिए शैतान आदमी भी मेरे लिये प्रभु रूप हो गया। ऐसे दिन फिरे कि मज़दूर से व्यापारी हो गया, सुख-समृद्धि के सारे साधन जुड़ते गये, मेरे लिये तो सारी दुनिया ही प्रभु रूप बन गई।

प्रस्तुति : सुभाष बुड़ावन वाला


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.