चीन ने म्यांमार के साथ किए 33 समझौते !    दांपत्य को दीजिये अहसासों की ऊष्मा !    नेताजी के जीवन से करें बच्चों को प्रेरित !    बर्फ से बेबस ज़िंदगी !    शाबाश चिंटू !    समय की कद्र करना ज़रूरी !    बैंक लॉकर और आपके अधिकार !    शनि करेंगे कल्याण... बस रहे ध्यान इतना !    मेरी प्यारी घोड़ा गाड़ी !    इन उपायों से प्रसन्न होंगे शनि !    

अब नेताओं की सुरक्षा नहीं करेंगे एनएसजी कमांडो

Posted On January - 13 - 2020

नयी दिल्ली, 12 जनवरी (एजेंसी)
गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने और वीआईपी सुरक्षा में व्यापक कटौती करने के बाद केंद्र सरकार ने एनएसजी कमांडो को इस काम से मुक्त करने का फैसला किया है। सूत्रों के अनुसार, करीब 2 दशक बाद ऐसा होगा कि आतंकवाद निरोधी विशिष्ट बल के ‘ब्लैक कैट’ कमांडो को वीआईपी सुरक्षा ड्यूटी से हटाया जाएगा। यह बल ‘जेड-प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त 13 ‘हाई रिस्क’ वाले वीआईपी को सुरक्षा देता है। इस सुरक्षा घेरे में अत्याधुनिक हथियारों से लैस करीब 2 दर्जन कमांडो हर वीआईपी के साथ होते हैं। सुरक्षा संस्था के अधिकारियों ने बताया कि एनएसजी की सुरक्षा ड्यूटी को जल्द ही अर्धसैनिक बलों को सौंपा जाएगा। सुरक्षा संस्था के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एनएसजी को आतंकवाद निरोधी और विमान अपहरण विरोधी अपने दायित्वों को देखने के जरूरत है। इस कदम के पीछे यही कारण है। वीआईपी सुरक्षा की जिम्मेदारी उसकी सीमित व विशिष्ट क्षमताओं पर बोझ साबित हो रही थी।
एनएसजी सुरक्षा प्राप्त वीआईपी लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल को सौंपी जा सकती है, जो पहले ही संयुक्त रूप से करीब 130 प्रमुख लोगों को सुरक्षा दे रही है। सीआरपीएफ को हाल ही में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके बच्चों प्रियंका व राहुल की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उसके पास लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की सुरक्षा का जिम्मा भी है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत समेत कुछ अन्य प्रमुख लोगों की सुरक्षा का जिम्मा सीआईएसएफ के पास है।
इन्हें मिली है एनएसजी सुरक्षा
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पूर्व सीएम मायावती, मुलायम यादव, चंद्रबाबू नायडू, प्रकाश सिंह बादल, फारुक अब्दुल्ला, असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, भाजपा नेता और पूर्व उपप्रधानमंत्री एल के आडवाणी को भी एनएसजी की सुरक्षा मिली हुई है।
450 कमांडो होंगे मुक्त : अधिकारियों के अनुसार, वीआईपी सुरक्षा से एनएसजी को हटाने से 450 कमांडो मुक्त हो जाएंगे, जिनका इस्तेमाल देश में इनके 5 ठिकानों में इनकी मौजूदगी सुदृढ़ करने में किया जाएगा।


Comments Off on अब नेताओं की सुरक्षा नहीं करेंगे एनएसजी कमांडो
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.