फिर उठा यमुना नदी पर पुल बनाने का मुद्दा !    कश्मीर में चरणबद्ध तरीके से बहाल होगी इंटरनेट सेवा !    बर्फबारी ने कई जगह तोड़ी तारबंदी !    सुजानपुर में क्रिकेट सब सेंटर जल्द : अरुण धूमल !    पंजाब में नदी जल के गैर-कृषि इस्तेमाल पर लगेगा शुल्क !    जनजातीय क्षेत्रों में ठंड का प्रकोप जारी !    कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या !    सेना का 'सिंधु सुदर्शन' अभ्यास पूरा !    कलाई काटने वाले विधायक ने माफी मांगी !    तेजाखेड़ा फार्म हाउस अटैच !    

बेघरों को कड़ाके की ठंड में नहीं सोना पड़ेगा खुले आसमान के नीचे

Posted On December - 4 - 2019

यमुनानगर, 3 दिसंबर (हप्र)
अब बेघरों को कड़ाके की ठंड में खुले आसमान के नीचे फुटपाथ पर सोना नहीं पड़ेगा। ट्विनसिटी में बनाए गए पांचों रैन बसेरों को इन लोगों के लिए खोल दिया गया है। व्यवस्थाएं जांचने के लिए सोमवार रात को नगर निगम ईओ दीपक सूरा व जेडटीओ विपिन गुप्ता ने ट्विनसिटी के रैन बसेरों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कुछ रैन बसेरों में लाइट व सफाई की खामियां नजर आई। अधिकारियों ने तुरंत कर्मचारियों को निर्देश देकर इन खामियों को दुरस्त करवाया। इसके अलावा सभी रैन बसेरों में गर्म बिस्तरों की व्यवस्था कराई गई। इस दौरान उन्होंने बसेरों में तैनात कर्मचारियों को व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए।
सोमवार रात नगर निगम ईओ दीपक सूरा, जैडटीओ विपिन गुप्ता अन्य कर्मचारियों के साथ सबसे पहले जगाधरी बस स्टैंड स्थित रैन बसेरा पहुंचे। निरीक्षण के दौरान यहां पर उचित लाइट की व्यवस्था व सफाई नहीं मिली। उन्होंने तुरंत कर्मचारियों को निर्देश देकर मौके पर इन खामियों को दूर करवाया। इसके बाद दोनों अधिकारी यमुनानगर बस स्टैंड व संत निरंकारी भवन के सामने स्थित रैन बसेरों में पहुंचे।
यहां पर भी लाइट व सफाई की पर्याप्त व्यवस्था नहीं मिली। इसके बाद रेलवे स्टेशन चौक के समीप पुराना तांगा स्टैंड पर बने रैन बसेरे पर अधिकारी पहुंचे। यहां पर पुरुषों के वार्ड में लाइट की व्यवस्था नहीं मिली। इन खामियों को अधिकारियों ने तुरंत दूर करवाया। इसके अलावा गर्म बिस्तरों का भी प्रबंध करवाया गया।
120 से अधिक लोगों के सोने की व्यवस्था
ट्विनसिटी में भिखारी व बाबा किस्म के 75 से अधिक लोग है, जो खुले आसमान के नीचे रहते हैं। सर्दी के मौसम में प्रशासन की ओर से इनके लिए रैन बसेरों का निर्माण कराया गया था। इनमें 120 से अधिक लोगों के सोने के लिए व्यवस्था है। रेलवे स्टेशन के समीप जमना गली स्थित कांशीराम माखन लाल धर्मशाला में सोने के लिए 35 से 40 लोगों की व्यवस्था है। इसके अलावा जगाधरी बस स्टैंड, पुराना तांगा स्टैंड के पास व संत निरंकारी भवन के सामने सुलभ शौचालय के ऊपर बने रैन बसेरों में 12 महिलाओं व 12 पुरुषों के आराम करने की व्यवस्था की गई है। यमुनानगर बस स्टैंड के पास बनाए गए रैन बसेरे में कुल 12 लोगों के सोने की व्यवस्था की गई। यहां पर छह महिला व छह पुरुष आराम कर सकते हैं।
क्या कहते हैं अधिकारी
नगर निगम के ईओ दीपक सूरा ने बताया कि रात के समय रैन बसेरों का निरीक्षण किया गया। कुछ रैन बसेरों में लाइट व सफाई की समस्या मिली, जिन्हें मौके पर ही दूर करवाया गया। सभी रैन बसेरों में आराम करने की हर सुविधा उपलब्ध करवा दी गई है।

जगाधरी स्थित रैन बसेरे की दैनिक ट्रिब्यून में छपी खबर। -निस

निगम टीम ने किया रैन बसेरे का निरीक्षण
जगाधरी (निस) : दो दिन पहले ‘दैनिक ट्रिब्यून’ ने जगाधरी स्थित एकमात्र रैन बसेरे पर लटके ताले का समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसमें बेघरों को खुले आसमान व दुकानों आदि के बरामदों में सोने की बात भी कही गई थी। जानकारी के अनुसार बीती रात नगर निगम की टीम ने जगाधरी सहित दूसरे रैन बसेरों का औचक निरीक्षण किया। जगाधरी रैन बसेरे में मिली खामियों को तत्काल दूर करने के संबंधित कर्मचारियों को निर्देश दिए। निगम के ईओ व जेडटीओ ने जगाधरी व यमुनानगर में बनाए गए रैन बसेरों का निरीक्षण किया। ईओ दीपक सूरा ने बताया कि तीन रैन बसेरे शुरू हो गए हैं। वहीं, जगाधरी के अग्रवाल युवा मंच ने एक-दो आरजी रैन बसेरे बनाये जाने की भी मांग प्रशासन से की है।
डिंगर माजरा रोड रैन बसेरे में होगी भोजन की व्यवस्था

घरौंडा में डिंगर माजरा रोड पर बनाया गया स्थाई रैन बसेरा।-निस

घरौंडा (निस) : बेसहारा लोगों को अब ठिठुरना नहीं पड़ेगा। डिंगर माजरा रोड पर बेसहारा व बेघर लोगों को ठंड से बचाने के लिए स्थाई रैन बसेरा बनाया गया है। यहां पर गरीबों को नि:शुल्क भोजन व आराम करने के लिए बेड व बिस्तर मिलेंगे। इस आश्रय स्थल का निर्माण सरकार द्वारा करवाया गया, लेकिन इसकी देखरेख का जिम्मा नगरपालिका को दिया गया है। यहां पर नगरपालिका का एक कर्मचारी चौबीस घंटें ड्यूटी पर तैनात होगा। रैन बसेरे में पांच कमरे हैं, प्रत्येक कमरे में सुलभ शौचालय बनाया गया है। साथ ही एक रसोईघर की व्यवस्था भी की गई है। सोलर सिस्टम, बिजली, पानी व सीसीटीवी जैसी तमाम सुविधाओं से लैस इस रैन बसेरा में 25 से 30 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। नगरपालिका सचिव रविप्रकाश शर्मा के मुताबिक, रैन बसेरे में महिला और पुरुषों के ठहरने की अलग-अलग व्यवस्था होगी। कोई आश्रित रैन बसेरे में भूखा न सोये, इसके लिए नगरपालिका समाजिक संस्थाओं के सहयोग से भोजन की व्यवस्था करेगी। विधायक हरविंद्र कल%


Comments Off on बेघरों को कड़ाके की ठंड में नहीं सोना पड़ेगा खुले आसमान के नीचे
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.