बिजली के रेट घटाने की तैयारी !    गोली चला ढाई लाख रुपए लूट ले गए बदमाश !    दुबई में भारतीय ने लॉटरी में 40 लाख और कार जीती !    जेएनयू छात्र संघ ने हॉस्टल फीस बढ़ोतरी को हाईकोर्ट में चुनौती दी !    टाइटैनिक मलबे को सहेजेंगे अमेरिका और ब्रिटेन !    सबरीमाला के कपाट बंद !    नेपाल में 8 भारतीय पर्यटकों की मौत !    रूसी हवाई हमले में 23 सीरियाई लोगों की मौत !    एकदा !    नडाल दूसरे दौर में, शारापोवा बाहर !    

कामवाली भी है अपनी

Posted On December - 1 - 2019

दीप्ति

कामवाली आपके घर में टिकी रहे, इसके लिए आपको उसे अपना समझना होगा। या यूं कहें कि उसके साथ अपनेपन का रिश्ता जोड़ना पड़ेगा। आप प्यार करेंगे और आपका परिवार उसे सम्मान देगा तो क्यों नहीं वो आपकी देखभाल करेगी।
आज की ज़रूरत
आप वर्किंग हो या हाउसमेकर, घर के छोटे-मोटे कामों के लिए हेल्पर की जरूरत पड़ती है। हर सुबह आपको स्वयं ऑफिस के लिए तैयार होना, परिवार को तैयार करना है, ब्रेकफास्ट बनाना है, लंच पैक करना है, घर सेट करना है, सिंक में झूठे बर्तनों का अंबार, लाॅन्डरी बैग गंदे कपड़ों से भरा हुआ है…एक नहीं, अनेक काम हैं। सब कुछ खुद मैनेज करना मुमकिन नहीं है। ऐसे में हेल्पर की जरूरत पड़ती है। आप कामवाली को नौकर समझेंगे तो एक दिन भी घर में टिकेगी नहीं। कामवाली के साथ अपनेपन का रिश्ता निभाएं। फिर देखिए कि कैसे काम में परफेक्शन, लाॅयलटी और बेपनाह प्यार झलकेगा। ऐसे में कामवाली क्यों घर छोड़ेगी।
चिक-चिक से बचें
चिक-चिक का एक कारण है पैसों की बात। बहुतेरे लोग कामवाली से कच्ची-पक्की पैसों की बात कर लेते हैं और जब महीना पूरा होता है कामवाली और आपके के बीच खचपट शुरू हो जाती है। पैसों पर किट-किट से बचने का उपाय है…
पैसे तय करना
ऐसा नहीं हैं कि हमेशा ही कामवाली ठीक होती है। कई तो आपके अच्छेपन व उदारता का फायदा उठाने से नहीं चूकती। उन से निपटना उलझन भरा काम है बात-बात पर बाई को काम से निकालना उचित नहीं, क्योंकि हर कामवाली में कोई न कोई कमी मिल ही जाएगी तो क्यों न हम खुद ही सुधरें, मसलन उसके अनचाहे पैसे मांगते वक्त आप उसे कोई ऑर्डर मत सुनाइए। उसे इस तरह मना नहीं करें-तुम्हें तो बस बहाने चाहिए, उसे इस तरह समझाएं कि बात उसे चुभे बिना ही समझ आ जाए।
कोसिए नहीं
अमूमन हम ज़रूरी व गैरजरूरी चीजें घर पर यहां-वहां रख देते हैं। उस समय तो याद रहता है कि फ्लां चीज घर के किस कोने में रखी है। लेकिन बीतते समय के साथ सब भूल जाते हैं और एक दिन अचानक उस चीज की जरूरत आन पड़ती है। खोजने पर मिलती नहीं है। यदि समय रहते फ्लां चीज को निर्धारित जगह पर रखा होता तो यूं खोजना नहीं पड़ता। पर इसमें नफरत घोलती है आपकी कामवाली पर शक करने की आदत। हर बार आप सही और कामवाली गलत हो, ऐसा नहीं हो सकता। फ्लां चीज नहीं मिल रही तो कामवाली से पूछिए, लेकिन बिना सबूत इल्जाम नहीं थोपिए। आपकी हर आदत कामवाली को घर में टिकने नहीं देगी। मसलन एक कामवाली को चोरी के झूठे इल्जाम से निकालती हैं तो ज़ाहिर है वो दूसरी कामवाली को बताएगी। ऐसे में आपकी आदत ही किसी भी कामवाली को टिकने नहीं देगी। कोई सामान घर में नहीं मिल रहा हो तो पहले अच्छी तरह से घर में ढूंढें, फिर किसी नतीजे पर आएं।
कभी-कभी हाथ बटाएं
आपको अक्सर शिकायत रहती है कि कामवाली फटाफट काम निपटाती है, लेकिन काम करीने से नहीं करती। इसके बारे में कामवाली को बताकर कोई सुधार नहीं होगा, बल्कि काम में खानापूर्ति करते हुए पर आप पर खीझ निकालेगी। एक आसान उपाय यह है कि उस के साथ काम में आप भी कभी-कभी हाथ बटाएं और अपनी मनचाही जगहों की सफाई करवा लें।
कुछ कायदे बनाएं
किसी भी कामवाली को काम पर रखने से पहले छुट्टी की बात कर लें। महीने में अधिकतम छुट्टी की सीमा तय करने के बाद बिन बताए उसके छुट्टी पर पैसे काटने का जि़क्र ज़रूर करें। हां, उसके और उसके घर वालों की बीमारी व जरूरतों को समझना भी होगा। साथ ही कामवाली पैसे की मांग कर रही है, तो उसकी जरूरत को समझिए। आपका अच्छा बर्ताव उसे घर छोड़ने के लिए विवश नहीं करेगा। कभी घर पर मेहमान आ जाए या एक्स्ट्रा काम करवाना हो तो उसका हिसाब कैसे होगा आदि बातें पहले ही तय कर लेंगी तो बाद में आपको टेंशन नहीं रहेगा। साथ ही कामवाली नहीं आए तो उसकी समस्या को सुनें।
बेफिजूल गाॅसिप नहीं करें
आप चाहती हैं कि कामवाली घर में टिके तो उसके साथ मधुर संबंध बनाएं। इसका मतलब यह नहीं कि उससे आसपास के घरों की ताक-झांक करवाएं। आपकी इस आदत से उस पर आपकी अच्छी छवि बनेगी। साथ ही कामवाली से अच्छा बर्ताव करें, सोच-समझकर बोलें और ज्यादा पर्सनल होकर अपनी निजी जिदंगी की बातें न बताएं। जो बताना जरूरी हो, वही बातें उनसे करें।
कभी-कभार छुट्टी दें
यदि कामवाली के घर में कोई समस्या हो जैसे उसके पति व बच्चे की तबीयत खराब हो गई हो तो कभी-कभी अपनी ओर से ही उसे छुट्टी का बोल दें। साथ ही त्योहार व अन्य मौकों पर उसे छोटा ही सही लेकिन कोई तोहफा भी दें, चाहे वह तोहफा आपका व आपके बच्चों का इस्तेमाल किया हुआ कोई पुराना सामान व कपड़े ही क्यों न हो। लेकिन खराब खाना व कपड़े कामवाली को नहीं दें। आखिर वो भी इनसान है।


Comments Off on कामवाली भी है अपनी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.