वर्तमान डगर और कर्म निरंतर !    लिमिट से ज्यादा रखा प्याज तो गिरेगी गाज !    फिर उठा यमुना नदी पर पुल बनाने का मुद्दा !    कश्मीर में चरणबद्ध तरीके से बहाल होगी इंटरनेट सेवा !    बर्फबारी ने कई जगह तोड़ी तारबंदी !    सुजानपुर में क्रिकेट सब सेंटर जल्द : अरुण धूमल !    पंजाब में नदी जल के गैर-कृषि इस्तेमाल पर लगेगा शुल्क !    जनजातीय क्षेत्रों में ठंड का प्रकोप जारी !    कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या !    सेना का 'सिंधु सुदर्शन' अभ्यास पूरा !    

आपकी राय

Posted On December - 3 - 2019

उपेक्षित बुजुर्ग
30 नवंबर के दैनिक ट्रिब्यून में जयश्री सेनगुप्ता का लेख ‘नीति बने बुजुर्गों की सेवा संभाल के लिए’ जीवन के कड़वे सच से रूबरू करा गया। सामाजिक मूल्यों के बदलते परिवेश में वर्तमान पीढ़ी द्वारा माता-पिता के प्रति तिरस्कारपूर्ण रवैया उनकी बदली सोच का सूचक है। बुजुर्गों को सम्मान शब्द तो युवा वर्ग की मानसिकता ने दूध से मक्खी की तरह निकाल फेंका है। अंतिम काल में वृद्धाश्रम ही उनका आशियाना बन सब्र का घूंट पिलाता है। केंद्र व प्रादेशिक सरकारें कठोर कानून लागू कर उनके उपेक्षित जीवन में सापेक्षता ला पाएंगी।

अनिल कौशिक, क्योड़क

बैंकों की हालत सुधारें
भारत सरकार श्रीलंका को 450 मिलियन डालर का कर्ज देगी। इससे पहले रूस व अन्य देशों को भी कर्ज देने का ऐलान किया गया है। मोदी सरकार दूसरे देशों को कर्ज दे रही है, वहीं देश की जनता बैंकों में जमा अपने ही पैसों के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है। सरकार का दायित्व है कि वह पहले कमजोर बैंकों की माली हालत को सुधारे।

हेमा हरि उपाध्याय, उज्जैन, म.प्र.


Comments Off on आपकी राय
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.