इतिहास में पहली बार जम्मू में हुई अमरनाथ यात्रा की प्रथम पूजा !    आदेश कुमार गुप्ता ने संभाला दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का पदभार !    सिर्फ बातों से देश आत्मनिर्भर नहीं बनता, आगे की आर्थिक नीति बताएं पीएम : कांग्रेस !    हाईकोर्ट ने दिये सैनिक फार्म इलाके में ‘अनधिकृत निर्माण’ की जांच के आदेश !    कांग्रेस ने खड़गे को कर्नाटक से राज्यसभा उम्मीदवार किया घोषित !    तबादले के बाद धूमधाम से विदाई जलूस निकालने वाला दरोगा निलंबित, जांच के आदेश !    महंगी गाड़ी का लालच, 18 वर्षीय बेटे की शादी 25 साल की तलाकशुदा से कराने को तैयार हुआ पिता! !    पोस्ट शेयर करके बुरी फंसी अभिनेत्री सारा अली !    क्या कोविड-19 मरीजों से ‘आयुष्मान भारत’ की दर से पैसा लेंगे निजी अस्पताल : सुप्रीमकोर्ट !    अमेरिका में जन्मे अपने बच्चों के लिए वीजा मांग कर रहे एच-1बी धारक भारतीय! !    

आत्मा हवाई, ठोस कमाई

Posted On December - 3 - 2019

उलटवांसी

आलोक पुराणिक
पब्लिक सस्ते प्याज की मांग कर रही है।
दिल्ली वालों को सस्ती शराब मिलना शुरू हो जायेगी सेल में। पूरे देश में जब भी अवैध शराब को पुलिस द्वारा पकड़ा जाता है, या तस्करी वाली शराब को जब्त किया जाता है तो उसे सरकार नष्ट कर देती है ताकि इसे फिर बाजार में बेचा ना जा सके। अब दिल्ली सरकार जब्त शराब को सेल लगाकर बेचेगी। सेल में जो शराब बेची जाएगी वो मार्किट रेट से 25 फीसदी कम होगी। अगर शराब हरियाणा की है और दिल्ली में पकड़ी गई है। हरियाणा में उसकी कीमत 300 रुपये है तो उसे दिल्ली में 225 रुपये पर बेचा जाएगा।
उधऱ दिल्ली के परम-व्यस्त चौराहों में से एक आईटीओ चौराहे पर एक इश्तिहार दिखाता रहता है-शराब आत्मा को नष्ट कर देती है। इश्तिहार दिल्ली सरकार की तरफ से होता है। दूसरी तरफ सरकार खुद ही सस्ती शराब का जुगाड़ करने में लगी है।
दृश्य कुछ-कुछ यूं हो गया है-जैसे एक साथ एक्सीलेटर और ब्रेक पर पैर रखा जा रहा हो।
शराब आत्मा को नष्ट कर देती है-यह बात दिल्ली सरकार का इश्तिहार बताता है। पर सरकार की आत्मा कहां होती है। आत्मा-ऊत्मा वाली बात तो बंदों-बंदियों पर लागू होती है। सरकार आत्मा नहीं, कमाई देखती है। आत्मा हवाई बात है, कमाई ठोस बात है। सरकार ठोस काम करती है, हवाई बातों पर ध्यान न देती।
दिल्ली सरकार बनाने वाले नेताओं के राजनीतिक गुरु अन्ना हजारे ने महाराष्ट्र में अपने गांव को दारू-मुक्त कर दिया है, पर अब दिल्ली ही अन्ना-मुक्त हो चली है। सो अब अन्ना की चिंता की जरूरत नहीं है।
दारू के मसले पेचीदा मसले हैं। सरकारें दारू से कमाती हैं और बच्चों के स्कूलों में खर्च कर सकती हैं। कम उम्र से दारू पीने की लत लगे तो सरकारों की कमाई बढ़ सकती है, फिर स्कूलों की जरूरत भी कम हो सकती है।
दारू महंगे प्याज के गम को थोड़ी देर के लिए भुला देती है, ऐसा कतिपय पुराने दारूबाज कहते हैं। दारूबाज को बताओ कि भाई दारू का बजट प्याज में लगा दो तो महंगा प्याज भी घर आ जायेगा, पूरे घर-परिवार के सारे सदस्य प्याज को खा लेंगे, पर तुम ये जो अकेले दारू पीते हो, इससे तो सिर्फ तुम्हारा ही गम दूर होता है।
पर दारूबाज नहीं मानता, सरकारें भी नहीं मानतीं। शराब पीने से आत्मा नष्ट तो शराबी की होती है न। सरकार की आत्मा हो तब ही तो नष्ट होगी न। इंगलिश शराब का एक बड़ा ब्रांड है-टीचर। हालांकि, कई लोग शराब पीने के बाद बेतरह अंग्रेजी बोलते पाये जाते हैं, मतलब एक अर्थ में शराब को अंग्रेजी का या कहें कि अंड-बंड अंग्रेजी का खराब टीचर माना जा सकता है।
इंगलिश शराब का एक ब्रांड भी संत-समुदाय के साथ पूरा न्याय नहीं करता। एक इंगलिश शराब का ब्रांड है-ओल्ड मोंक, हिंदी में इसका अनुवाद कुछ यूं होगा-पुराना साधु। सस्ते प्याज का इंतजार लंबा हो सकता है, पर सस्ती शराब बस थोड़ा इंतजार कर लीजिये, आने वाली ही है।


Comments Off on आत्मा हवाई, ठोस कमाई
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.