मारे गये जवानों को मिले शहीद का दर्जा !    प्राइमरी स्कूल में बच्चों से कराया मजदूरों का काम !    युवा उम्र से नहीं बल्कि सपनों से होते हैं : अनिता कुंडू !    उत्तरी क्षेत्र में हरियाणा को प्रथम पुरस्कार !    हरियाणा के 9 कॉलेजों को मिला ‘ए-प्लस’ ग्रेड !    गोवा में आज से दुनियाभर की फिल्मों का मेला !    गौरीकुंड-केदारनाथ मार्ग पर मिलेगी मसाज सुविधा !    राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने मनीष की शहादत पर जताया शोक !    चिड़गांव में भीषण अग्निकांड, 3 मकान राख !    राज्यसभा : मार्शलों की नयी वर्दी की होगी समीक्षा !    

राज्यसभा के बाद अब विधानसभा में पहुंचे 3 नेता

Posted On November - 7 - 2019

चंडीगढ़, 6 नवंबर (ट्रिन्यू)
हरियाणा की 13वीं विधानसभा में यह पहला मौका है, जब तीन ऐसे नेता विधायक बनकर पहुंचे हैं, जो राज्यसभा के भी सांसद रहे चुके हैं। आमतौर पर राज्यसभा सांसदों को लेकर यही धारणा रही है कि इसके बाद वे चुनावी राजनीति से खुद को दूर कर लेते हैं। इस बार सदन में पहुंचे इन तीन विधायकों में एक ने जजपा और 2 ने भाजपा के टिकट पर चुनाव जीता है।
रोचक बात यह कि जननायक जनता पार्टी (जजपा) के टिकट पर गुहला से विधायक बने डॉ़ ईश्वर सिंह कांग्रेस छोड़कर जजपा में शामिल हुये थे। इंद्री से विधायक बने रामकुमार कश्यप और नलवा से एमएलए लगातार दूसरी बार एमएलए बने रणबीर सिंह गंगवा इनेलो छोड़कर भाजपा में आये हैं। डॉ़ ईश्वर सिंह दूसरी बार विधानसभा में पहुंचे हैं, लेकिन 43 वर्षों के लंबे फासले के बाद। पहली बार ईश्वर सिंह ने 1977 में चुनाव जीता था। इसके बाद उन्होंने चुनाव तो लड़े, लेकिन जीत नहीं सके। पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा के नजदीकियों में उनकी गिनती होती थी।
सैलजा के कोटे से ही कांग्रेस ने उन्हें राज्यसभा में भेजा था। वे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य भी रहे। विधानसभा चुनावों के दौरान ही उन्होंने जजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। इसी तरह इनेलो के अटिकट पर राज्यसभा सांसद रहे रणबीर सिंह गंगवा को पार्टी ने 2014 में नलवा हलके से विधानसभा चुनाव लड़वाया। वे चुनाव जीतने में कामयाब रहे। हालिया लोकसभा चुनावों से पहले  गंगवा ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा ज्वाइन कर ली थी। उन्हें  हिसार से लोकसभा का टिकट तो नहीं मिला, लेकिन पार्टी ने उन्हें नलवा से विस चुनाव लड़वाया। तीसरे राज्यसभा सांसद हैं  रामकुमार कश्यप।
कश्यप को भी इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की सिफारिश पर राज्यसभा में भेजा गया था। केंद्र की मोदी सरकार ने जब आर्टिकल-370 और 35ए को खत्म किया तो कश्यप ने राज्यसभा में भाजपा के इस फैसले का समर्थन किया था। इसके बाद वे भाजपा में शामिल हो गये। भाजपा टिकट पर इंद्री से चुनाव जीतने के बाद बुधवार को कश्यप ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।


Comments Off on राज्यसभा के बाद अब विधानसभा में पहुंचे 3 नेता
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.