रिश्वत लेने पर सेल्स टैक्स इंस्पेक्टर को 5 वर्ष की कैद !    तहसीलों को तहसीलदार का इंतज़ार !    9 लोगों को प्रापर्टी सील करने के नोटिस जारी !    5.5 फीसदी रह सकती है वृद्धि दर : इंडिया रेटिंग !    लोकतंत्र सूचकांक में 10 पायदान फिसला भारत !    कश्मीर में तीसरे पक्ष की मध्यस्थता मंजूर नहीं !    पॉलिथीन के खिलाफ नगर परिषद सड़क पर !    ई-गवर्नेंस के लिए हरियाणा को मुंबई में मिलेगा गोल्ड !    हवाई अड्डे पर बम लगाने के संदिग्ध का आत्मसमर्पण !    द. अफ्रीका में समलैंगिक शादी से इनकार !    

जेपी प्लांट में जमा कचरा निगम कराये साफ : एनजीटी

Posted On November - 30 - 2019

पंचकूला में शुक्रवार को घग्गर पार सेक्टरों के बाशिंदों की शिकायतें सुनते विधान सभाध्यक्ष ज्ञान चन्द गुप्ता। -नस

चंडीगढ़, 29 नवंबर (ट्रिन्यू)
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने अपनी समीक्षा सुनवाई के दौरान चंडीगढ़ में ठोस कचरे के प्रबंधन के मुद्दे पर अपने पहले के आदेशों का पालन नहीं करने का गंभीर संज्ञान लिया है। ट्रिब्यूनल ने चंडीगढ़ नगर निगम को निर्देश दिया है कि वह डड्डूमाजरा में जेपी एसोसिएट्स द्वारा स्थापित प्रसंस्करण संयंत्र परिसर में पड़े हुए बेकार मिश्रित कूड़े को संसाधित करे।
एनजीटी ने कहा कि निगम हर बार तारीख लेने के बावजूद गीला और सूखा कचरा अलग-अलग नहीं दे पा रहा है। क्यों न निगम पर एक करोड़ रुपये की पेनल्टी लगा दी जाए लेकिन इस बार एनजीटी ने अंतिम चेतावनी देकर छोड़ दिया है। ट्रिब्युनल ने सुनवाई के दौरान कहा कि एक साल बीत गया लेकिन स्रोत से ठोस अपशिष्ट को अलग-अलग उठाने व इस संबंध में परिवहन नीति को लागू करने के लिए डोर-टू-डोर अपशिष्ट संग्रहकर्ताओं के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने में विफल रहा है। एनजीटी ने कहा कि मार्च 2020 तक डंपिंग ग्राउंड से कचरा साफ चाहिए। जबकि निगम ने जो कंपनी हायर की है उसने डंपिंग ग्राउंड को साफ करने के लिए 18 महीने का समय मांगा है।
सदन में की बहस, सुनवाई में नहीं पहुंचे
बता दें कि निगम सदन की पिछली 2 बैठकों में जेपी प्लांट के मुद्दे पर जमकर बहस हुई व सभी पार्षद प्लांट को टेकओवर करने के पक्ष में थे। निगमायुक्त ने तो पार्षदों से वकीलों की सूची देने को भी कहा जिन्हें वह एनजीटी में होने वाली सुनवाई में भेज सकें। इसके बावजूद निगम की टीम में न एमओएच डॉ. एपी सिंह गए और न निगम के वकील। निगम को पहले से ही उम्मीद थी कि फटकार लगना तय है। न ही सुनवाई में निगम की टीम के साथ जाने वाले पेशेवर वकील पार्षद गए।
कई बार दिये गये निर्देश
ट्रिब्यूनल द्वारा समय-समय पर निर्देश पारित किए गए लेकिन प्रत्येक पक्ष को हमेशा कचरे की मात्रा, कचरे के प्रकार, कचरे के परिवहन और अंत में कचरे के साथ निपटने और ठोस कचरे के अनुसार सभी पहलुओं के संबंध में दूसरे के खिलाफ शिकायतें होती हैं।
पंचकूला/घग्गर पार सेक्टरों से हटेगा डम्पिंग ग्राउड
चंडीगढ़/पंचकूला (नस) : घग्गर पार बसे सेक्टरों के बाशिंदों को डंपिंग ग्राउंड से जल्द छुटकारा मिल सकता है। शुक्रवार को पंचकूला के सेक्टर 23 में हरियाणा विधान सभा के अध्यक्ष एवं पंचकूला के विधायक ज्ञान चन्द गुप्ता ने लोगों की समस्यायें सुनते हुए दावा किया कि डंपिंग ग्राउंड को किसी अन्य जगह पर शिफ्ट करने के लिए उनकी सरकार से बात हो रही है। विस अध्यक्ष ने पहली बार सामुदायिक केन्द्र में जनता दरबार लगा कर सेक्टर 23, 25, 26, 27, 28 निवासियों की करीब 88 शिकायतों का मौके पर ही निपटान किया। इस बैठक में जिला उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा, एसडीएम सुशील कुमार, नगराधीश नवीन कुमार आहुजा व अन्य अधिकारी उपस्थित थे। निवासियों की बस स्टैंड व पीजीआई चंडीगढ़ तक बस की मांग पर उन्होंने आश्वासन दिया कि इस दिशा में बातचीत चल रही है और शीघ्र ही यह बस सेवा चालू कर दी जाएगी।


Comments Off on जेपी प्लांट में जमा कचरा निगम कराये साफ : एनजीटी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.