मारे गये जवानों को मिले शहीद का दर्जा !    प्राइमरी स्कूल में बच्चों से कराया मजदूरों का काम !    युवा उम्र से नहीं बल्कि सपनों से होते हैं : अनिता कुंडू !    उत्तरी क्षेत्र में हरियाणा को प्रथम पुरस्कार !    हरियाणा के 9 कॉलेजों को मिला ‘ए-प्लस’ ग्रेड !    गोवा में आज से दुनियाभर की फिल्मों का मेला !    गौरीकुंड-केदारनाथ मार्ग पर मिलेगी मसाज सुविधा !    राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने मनीष की शहादत पर जताया शोक !    चिड़गांव में भीषण अग्निकांड, 3 मकान राख !    राज्यसभा : मार्शलों की नयी वर्दी की होगी समीक्षा !    

जाट आंदोलनकारियों को लेकर हंगामा

Posted On November - 7 - 2019

चंडीगढ़, 6 नवंबर (ट्रिन्यू)

चंडीगढ़ में बुधवार को विधानसभा सत्र के दौरान सदन में मौजूद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला व अन्य। -ट्रिन्यू

फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा का मुद्दा बुधवार को विधानसभा सत्र के आखिरी दिन गरमाया। इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला व बेरी से कांग्रेस एमएलए रघुबीर सिंह कादियान ने इस मुद्दे पर सरकार को घेरा। उन्होंने मांग उठाई कि सरकार निर्दोष युवाओं पर दर्ज किये गये पुलिस केस वापस ले और सभी युवाओं को रिहा किया जाए। स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता के साथ अभय की तीखी बहस भी हुई।
दरअसल, मंगलवार को राज्यपाल अभिभाषण पर चर्चा के दौरान कादियान ने यह मुद्दा सदन में उठाया था। सीएम का रिप्लाई भी गत दिवस ही आ गया, लेकिन खट्टर ने जाट आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किये गये युवाओं को रिहा करने के मांग पर कोई जवाब नहीं दिया। बुधवार को अभय चौटाला ने कादियान की मांग का समर्थन करते हुए सरकार को घेर लिया। उन्होंने कहा कि सीएम को इस मुद्दे पर जवाब देना चाहिए।
स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि अब इस मुद्दे पर बातचीत का कोई मतलब नहीं है। अभय व कादियान ने जब कहा कि यह अहम मुद्दा है और सरकार को जवाब देना चाहिए। स्पीकर ने कहा कि अगर इतना ही बड़ा मुद्दा था तो विपक्ष को इस मुद्दे पर पहले नोटिस देना चाहिए था। हंगामा बढ़ता देख सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि मैं कल ही कई मुद्दों पर जवाब देना चाहता था, लेकिन विपक्ष ने ही मुझे मना कर दिया। यहां तक कहा कि अब बहुत हो गया, खत्म करें। सीएम ने कहा कि जिस मुद्दे को विपक्ष उठा रहा है, वह पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में विचाराधीन है। कुछ मामलों की जांच सीबीआई कर रही है तो बाकी केस हाईकोर्ट द्वारा गठित एसआईटी द्वारा मॉनिटर किये जा रहे हैं। कोर्ट में मामला होने की वजह से उस पर सदन में चर्चा नहीं की जा सकती। सीएम के जवाब से असंतुष्ट अभय ने सदन से वॉकआउट किया।

पराली मामले पर स्पीकर के सामने डटीं किरण
तोशाम विधायक किरण चौधरी ने स्पीकर के सामने उनके द्वारा दिये गये तीन ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा करवाने की मांग की। किरण ने कहा कि पराली के नाम पर किसानों के साथ ज्यादती हो रही है। वायु प्रदूषण को खराब होने से रोकने के लिए सरकार को गंभीर प्रयास करने चाहिए। इस दिशा में काम करने की बजाय किसानों के सिरे इसका दोष मढ़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंडियों में किसानों की फसल पीट रही हैं और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। स्पीकर ने कहा कि तीनों ध्यानाकर्षण प्रस्ताव मंगलवार को ही रिजेक्ट कर दिये गये थे। उन्होंने कहा कि आपने जो प्रस्ताव दिये थे, उन मुद्दों पर राज्यपाल अभिभाषण के दौरान चर्चा हो चुकी, लेकिन आप मंगलवार को सदन में आई ही नहीं। अगर आई होती तो आपको भी बोलने का मौका दिया जाता।

सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला के प्रस्ताव पर विधानसभा सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। स्पीकर ने ध्वनिमत से यह प्रस्ताव पास करवा दिया। अब यह प्रस्ताव राज्यपाल के पास जाएगा। उनकी मुहर लगते ही सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की अधिसूचना भी जारी कर दी जाएगी।

आदरणीय को नहीं छोड़ पा रहे ज्ञानचंद
पंचकूला से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गये ज्ञानचंद गुप्ता विधानसभा स्पीकर बनने के बाद भी भाजपा की कार्यशैली को नहीं छोड़ पाये हैं। सदन में स्पीकर का अहम रोल होता है और सदन के नेता से लेकर नेता प्रतिपक्ष तक चेयर का सम्मान करते हैं। 4 नवंबर को गुप्ता को स्पीकर चुन लिया गया था। यानी मंगलवार और बुधवार को सदन की कार्यवाही उन्हीं के द्वारा चलाई गई। मुख्यमंत्री को सदन के नेता या नेता पक्ष कहने की बजाय ज्ञानचंद अभी भी ‘आदरणीय मुख्यमंत्री जी’ कहना नहीं भूले हैं। अधिकारियों में भी उनका बार-बार ‘आदरणीय’ कहना चर्चाओं का विषय बना रहा।

सफल रहा सत्र, जनहित में करेंगे काम : दुष्यंत
श्रीगुरुनानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य पर विधानसभा में पंजाब व हरियाणा राज्य के संयुक्त अधिवेशन के बाद हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने दोनों राज्य के विधानसभा अध्यक्षों और मुख्यमंत्रियों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि 53 साल बाद दोनों राज्य के विधायकों को एक साथ सदन में आने का मौका मिला।हरियाणा की 14वीं विधानसभा के पहले सत्र के सम्पन्न होने के बाद उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पहला सत्र काफी बेहतरीन रहा। उन्होंने कहा, मैं हमेशा जनता के हित में काम करूंगा। सरकार प्रदेश के युवा वर्ग के प्रति गंभीर है और हरियाणा विधानसभा के अगले सत्र में हरियाणवी युवाओं के लिए 75 प्रतिशत रोजगार का बिल लेकर आएगी। उन्होंने कहा कि सरकार हरियाणा को प्रगति के पथ पर ले जाने के लिए हर दिशा व प्रत्येक क्षेत्र में बेहतर काम करेगी। ीं भाजपा और जजपा सरकार के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर उन्होंने कहा कि जजपा की तरफ से अनूप धानक और दादरी से पूर्व विधायक एवं जेजेपी नेता राजदीप फौगाट को कॉमन मिनिमम प्रोग्राम कमेटी का सदस्य बनाया है।


Comments Off on जाट आंदोलनकारियों को लेकर हंगामा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.