जय मम्मी दी दर्शकों को हंसाना मुश्किल काम है !    एक-दूजे के वास्ते पहुंचे लद्दाख !    अब आपके वाहन पर रहेगी तीसरी नजर !    सैफ को यशराज का सहारा !    एकदा !    घूंघट !    जोक्विन पर्सन ऑफ द ईयर !    गैजेट्स !    मनोरंजन के लिये ही देखें फिल्में !    12वीं के बाद नौकरी दिलाएंगे ये कोर्स !    

घर-घर बसे चाइनीज आइटम

Posted On November - 12 - 2019

उलटवांसी

आलोक पुराणिक

देशभक्ति के भाषणों का रुख अधिकतर पाकिस्तान की तरफ होता है, उधर चाइना घर में घुसा आ रहा है।
बात किससे करो, चाइनीज फोनों के जरिये।
दस में सात स्मार्टफोन चाइनीज हैं। पराली से दम घुटता है, ओके, तो चलो एयर प्यूरीफायर लाओ, यह किस कंपनी का है, जी चाइनीज कंपनी का।
टीवी चाइनीज कंपनी का है। सब चाइनीज हो गये हैं। मगर उन पर खर्च होने वाली रकम इंडियन है और कस्टमर इंडियन हैं।
मसले पेचीदा हैं। एक बहुत टॉप टनाटन चीनी मोबाइल फोन से चला मैसेज एक दूसरे चीनी मोबाइल फोन पर पहुंचा—मैसेज में दर्ज था—हमें चीनी आइटमों का बहिष्कार कर देना चाहिए। चीन हमारे हर काम में रोड़े अटकाता है। अभी आतंक की रोकथाम के लिए वित्तीय क्षेत्र में कार्यरत एफएटीएफ यानी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स में चीन ने पाकिस्तान का पक्ष लिया। चीन पाक के आतंकियों का खुला पक्ष लेता है।
अगर चीनी मोबाइल को रोक दें, तो क्या करें कि कोरियाई मोबाइल को चलने दें। कोरियाई मोबाइल साठ हजार रुपये में जो फीचर देता है, वो फीचर चीनी मोबाइल तीस हजार में दे देता है। तीस हजार बचते हैं, तो बंदा चीन-प्रेमी हो जाता है। चीन-प्रेम में बचे हुए तीस हजार रुपये का कैश इतना पर्याप्त हैं कि देश-प्रेम पर कैश प्रेम भारी पड़ जाता है।
मोबाइल के मामले में देश-प्रेमी होना आसान नहीं है। पहले तो ऐसा मोबाइल तलाशना बहुत मुश्किल है जो 100 परसेंट इंडियन हो, हर मोबाइल में थोड़ा चीन तो घुसा ही होता है। फिर ऐसा मोबाइल तलाश भी लिया जाये, जो लगभग भारतीय हो, तो उसकी आफ्टर सेल सर्विस के बहुत रोने हैं। भारतीय कारोबारी का सवाल होता है—आफ्टर सेल कैसी सर्विस। कैश दिया, माल लिया, अब निकल लो, काहे की सर्विस बे। चीनी कंपनियां आफ्टर थोड़ी सर्विस दे देती हैं मोटे मुनाफे पर।
समझदार देशभक्तों को भी मैंने अमेरिकन या जापानी मोबाइल यूज करते देखा है। भारतीय कंपनियों की अनुपस्थित आफ्टर सेल सर्विस के चलते मोबाइल के मामले में पूरा देश-प्रेमी होना असंभव है। या तो बंदा यह करे कि देश-प्रेम के खाते में एक भारतीय मोबाइल खरीद ले औऱ फिर कामकाज के लिए एक कोरियन, जापानी या चीनी मोबाइल भी खऱीद ले।
तो करें क्या, वही जो हम करते आये हैं, भ्रष्टों को वोट देकर भ्रष्टाचार पर बहस बनाये रखें। चीन का विरोध करते हुए चीनी मोबाइल पर ये मैसेज भेजते रहें—आइये, चीनी मोबाइल समेत तमाम चीनी आइटमों का बायकाट करें।


Comments Off on घर-घर बसे चाइनीज आइटम
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.