एकदा !    जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग खुला !    वैले पार्किंग से वाहन चोरी होने पर होटल जिम्मेदार !    दिल्ली फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 32 गिरफ्तार !    हाईवे फास्टैग टोल के लिये अधिकारी तैनात होंगे !    अखनूर में आईईडी ब्लास्ट में जवान शहीद !    बीरेंद्र सिंह का राज्यसभा से इस्तीफा !    बदरीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद !    केटी पेरी, लिपा का शानदार प्रदर्शन !    निर्भया मामला दूसरे जज को भेजने की मांग स्वीकार !    

गंजेपन के बहाने समाज को संदेश देती फिल्म

Posted On November - 9 - 2019

हिंदी सिनेमा अब इतना अधिक प्रयोगधर्मी हो गया है कि शायद यहां अब बनावटी एक्टरों व लेखकों या यूं कहें कि जिसके भी काम में बनावटीपन होगा, उसके लिए बाॅलीवुड में जगह नहीं है। खासकर आज की फिल्म इंडस्ट्री में कमिटमेंट और उसके प्रति समर्पण साफ दिखाई देता है। आज रिलीज हुई फिल्म बाला इसका सीधा प्रमाण है। एक तो इसके तीनों कलाकार यानी आयुष्मान खुराना, यामी गौतम और भूमि पेडणेकर बाॅलीवुड की आग में तपकर कुंदन बन चुके हैं, वहीं दूसरी और निर्देशक अमर कौशिक ने भी कलाकारों के साथ पूरी मेहनत की है, ताकि फिल्म कहीं से भी ढीली न पड़ जाए।
फिल्म का संदेश है कि कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं है। हर किसी में कोई न कोई कमी होती है। बस वे लोग अपनी खूबियों को इतना अधिक कर लेते हैं कि उनकी कमियां छिप जाती हैं। बहरहाल बाला भी कुछ ऐसी ही फिल्म है। एक एक ऐसे लड़के की कहानी है जो उम्र से पहले ही गंजा होने लगता है। इस वजह से दोस्त उसका मजाक उड़ाते हैं और फिर यह फिल्म बताती है कि कैसे इंसान दुनिया की बनाई खूबसूरती की धारणा से अलग हटने लगता है और डरने लगता है।
फिल्म की कहानी बालमुकुंद यानी बाला (आयुष्मान खुराना) की है, जो कानपुर का रहने वाला है। 20 का होते -होते उसके सारे बाल झड़ जाते हैं। इसके बाद दो वर्षों में वह करीब 212 नुस्खे अपनाते हैं, ताकि उसके सिर पर बाल उग आएं। अंत में वह विग पहनना स्वीकार करता है, ताकि शादी हो जाए। बाला की बचपन की दोस्त और पड़ोसन है लतिका (भूमि पेडणेकर)। लतिका को भी सांवले रंग के कारण मजाक का शिकार होना पड़ता है। लेकिन उसे फर्क नहीं पड़ता। बल्कि वह अपने रूप को लेकर तर्क देती नजर आती हैं। फिल्म में परी मिश्रा (यामी गौतम) भी हैं, जो टीक-टाॅक स्टार हैं। वह फेयरनेस एवं ब्यूटी क्रीम का विज्ञापन भी करती हैं। अपने गोरेपन पर इतराने वाली परी की शादी बाला से तय हो जाती है। पर उसे बाला के बालों का राज नहीं मालूम होता है। शादी से पहले लतिका परी को बाला की असलियत बताने की कोशिश करती है, पर कई बार असफल रहती है। बस यही कश्मकश फिल्म की यूएसपी बन गई है।
बात करें एक्टिंग की तो आयुष्मान खुराना सहित भूमि और यामी लाजवाब हैं। अमर कौशिक ने हर संवाद को सही जगह फिट किया है। सुनिधि चौहान और सचिन-जिगर का संगीत फिल्म के अनुसार है। वैैस फिल्म में तीन ही गाने हैं।
-धर्मपाल


Comments Off on गंजेपन के बहाने समाज को संदेश देती फिल्म
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.