संविधान के 126वें संशोधन पर हरियाणा की मुहर, राज्य में रिजर्व रहेंगी 2 लोकसभा और 17 विधानसभा सीट !    गुस्साये डीएसपी ने पत्नी पर चलायी गोली !    गांवों में विकास कार्यों के एस्टीमेट बनाने में जुटे अधिकारी !    जो गलत करेगा परिणाम उसी को भुगतने पड़ेंगे : शिक्षा मंत्री !    आस्ट्रेलिया भेजने के नाम पर 9.50 लाख हड़पे !    लख्मीचंद पाठशाला से 2 बच्चे लापता !    वास्तविक खरीदार को ही मिलेगी रजिस्ट्री की अपाइंटमेंट !    वायरल वीडियो ने 48 साल बाद कराया मिलन !    ऊना में प्रसव के बाद महिला की मौत पर बवाल !    न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ शाॅ का शतक !    

एकदा

Posted On November - 13 - 2019

मेहनत का धन

श्रीलंका के सीलोन नगर में महता शैसा नामक एक व्यक्ति रहता था। वह ईश्वर का परम भक्त था और बहुत ही ईमानदार भी। वह जंगलों से जड़ी-बूटियां लाकर उन्हें बेचकर अपनी जीविका चलाता था। शैसा का एक परम मित्र था लरोटा। लरोटा एक धनी व्यापारी था और उसके अनेक बाग-बगीचे थे, लेकिन इन दिनों वह गरीबी के दिन बिता रहा था। एक दिन शैसा को पता चला कि लरोटा के बगीचे की जमीन में अनेक महत्वपूर्ण जड़ी-बूटियां हैं तो उसने जमीन खोदकर वहां पर जड़ी-बूटियों की तलाश शुरू कर दी। जब वह काफी जमीन खोद चुका तो उसे वहां एक घड़ा नजर आया। उसने घड़े को बाहर निकालकर देखा तो उसमें सोने की अशर्फियां भरी हुई थीं। उसने उस घड़े को वापस मिट्टी में दबाया और लरोटा के पास पहुंचकर उसे सूचना दी कि उसके बगीचे में अशर्फियों से भरा घड़ा निकला है। लरोटा यह खबर सुनकर बहुत खुश हुआ। इन दिनों वह बेहद तंगहाली में गुजारा कर रहा था। उसने शैसा से कहा कि अशर्फियों को उसने देखा है, इसलिए वह भी आधी अशर्फियों का हकदार है। दोनों ने खोदकर घड़ा निकाला। जब लरोटा ने शैसा को अशर्फियां देनी चाहीं तो शैसा बोला—मुझे अशर्फियां नहीं चाहिए। दूसरे का धन विष के समान होता है। व्यक्ति को हमेशा मेहनत से कमाए धन का ही प्रयोग करना चाहिए। परिश्रम में ही सुख व सच्ची शांति मिलती है।’ लरोटा ने शैसा को गले से लगा लिया।                                                                      प्रस्तुति : सुभाष बुड़ावनवाला


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.