एकदा !    जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग खुला !    वैले पार्किंग से वाहन चोरी होने पर होटल जिम्मेदार !    दिल्ली फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 32 गिरफ्तार !    हाईवे फास्टैग टोल के लिये अधिकारी तैनात होंगे !    अखनूर में आईईडी ब्लास्ट में जवान शहीद !    बीरेंद्र सिंह का राज्यसभा से इस्तीफा !    बदरीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद !    केटी पेरी, लिपा का शानदार प्रदर्शन !    निर्भया मामला दूसरे जज को भेजने की मांग स्वीकार !    

अबेकस मैथ्स को चुटकी में करें हल

Posted On November - 3 - 2019

दीप्ति अंगरीश

जब मम्मी-पापा अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए बैठते हैं तो ज्यादातर के लिए सबसे मुश्किल काम होता है मैथ। खुद पढ़ना नहीं, बच्चों को पढ़ाना। आप चाहते हैं कि आपके बच्चे जीनिअस बनें। जल्दी से प्लस, माइनस, डिवाइड और मल्टीप्लाई करें तो मैथ्स की प्रैक्टिस मार से नहीं, प्यार-दुलार से कराएं। इसका बेस्ट साॅल्यूशन है अबेकस। यानी मैथ्स बस एक चुटकी में…।
बच्चे को अबेकस क्लास में ज्वाइन कराने से पहले बताते हैं कि क्या है अबेकस की पूरी एलज़ेब्रा?
मैथ को सिंपल बनाने का फाॅर्मूला है अबेकस। यह कोई नया आविष्कार नहीं है, बल्कि पुरानी पद्धति है। इसमें एक बीडस से बनी किट होती है, जिसे सीखकर आपका बच्चा फिंगर टिप्स से किसी भी तरह की बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन कर सकता है।
क्यों हैं न बच्चे में कैलकुलेटर फिट करने का नायाब तरीका?

क्या है अबेकस
मैथ सब्जेक्ट ही ऐसा है। समझ में आ जाए तो बन जाओ हीरो, वरना ज़ीरो। अबेकस ज्योमिट्री बॉक्स जितना ही होता है। दिखने में लगभग कुछ-कुछ ऐसा, जैसे बहुत छोटे बच्चों को गिनतियां सिखाने के लिए एक खिलौना आता है। अबेकस एक प्राचीन गणितीय यंत्र है जो जोड़, घटा, गुणा-भाग जैसे आसान सवालों के अलावा मुश्किल गणितीय सवाल जैसे भिन्‍न व वर्गमूल के सवालों को हल करने के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है।
गणना करने वाले इस यंत्र का आविष्‍कार लगभग 2500 साल पहले चीन में हुआ था। अबेकस संख्‍या 10 के आधार वाली हिन्‍दू-अरेबिक संख्‍या प्रणाली के लिए विकसित किए गए थे। इसकी हर छड़ में 0 से 9 तक की संख्‍याएं होती हैं। अबेकस में किट ग्रेविटी अबेकस अकेडमी के अनुसार अबेकस को जानने के लिए अहम है अबेकस किट से दोस्ती करना। यह मोतियों से बनी होती है। मोतियों की संख्या तय होती है। बता दें कि अबेकस किट में प्वाइंट लाइन और एक नंबर के चार बीड्स ऊपर व पांच नंबर का एक बीड नीचे होता है। इसके अलावा इसकी हैंडलिंग भी अलग है। यानी लिखने वाले हाथ का अंगूठा और हाथ की पहली अंगुली। जब बच्चे इसे नया-नया सीखते हैं तो अबेकस किट की सहायता से एडिशन व सब्ट्रैक्शन सीखते हैं। जब वे इसके अभ्यासी हो जाते हैं तो इस किट के बिना ही बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन को चुटकियों में कर लेते हैं।

उम्र के हिसाब से
वैसे तो सीखने की कोई उम्र नहीं होती, लेकिन प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशन में दाखिला लेने की उम्र तय होती है। बच्चों की तरह आप भी अबेकस सीखना चाहते हैं तो बहुतेरे सर्च इंजन पर विविध तरीकों से लेकर हाॅबी क्लासेस में सिखाया जाता है। वहां कोई उम्र सीमा नहीं होती, लेकिन बच्चों को प्रोफेशनल अबेकस सिखाना चाहते हैं तो बता दें कि यूकेजी से लेकर 7वीं कक्षा के छात्र अबेकस सीख सकते हैं। सुपर जूनियर, जूनियर और सीनियर तीन लेवल होते हैं। सुपर जूनियर में यूकेजी से पहली कक्षा, जूनियर में दूसरी से चौथी कक्षा व सीनियर में पांचवीं से सातवीं के छात्र प्रशिक्षण लेते हैं। सुपर जूनियर छह महीने का कोर्स तीन लेवल में होता है। जूनियर में 18 महीने के छह लेवल होते हैं। सीनियर ग्रुप में 30 महीने का कोर्स 10 लेवल में पूरा होता है।

लाइव कैलकुलेटर
अबेकस सिर्फ फैशन या देखा-देखी नहीं है, बल्कि प्रतिस्पर्धा के दौर में आज की ज़रूरत है। आप चाहते हैं कि आपके बच्चे हर क्षेत्र में बेस्ट हों, आॅलरांउडर हों। ऐसे में अबेकस में ज्वाइन ही नहीं कराएं, बल्कि उसका रुझान भी उभारें, ताकी ताउम्र उसके साथ अबेकस यानी लाइव कैलकुलेटर हो। ऐसे में हर कॉम्पीटीशन में बच्चा मैथ में अव्वल रहेगा।

अबेकस से टशन और सक्सेस
बच्चों आप मैथ से डरते होंगे, सिर चकराता है तो अबेकस सीखिए। इससे आप दूसरों पर टशन जमा पाएंगे और मैथथ फोबिया से छुट्टी। इसके बहुत से फायदे होंगे, जैसे-बिना कॉपी, पेन, कैलकुलेटर के चुटकियों में सवाल हल, साॅल्यूशन के लिए कैलकुलेटर, पैन, काॅपी की छुट्टी, पर्सनेलिटी इंप्रूव, बढ़ेगी कॉन्संट्रेशन और लिसनिंग पावर, ब्रेन एक्टिवेशन और मेमोरी स्ट्रॉन्ग होगी, एग्जाम में सक्सेसफुल होने के उम्मीद और कांफिडेंस भी बढ़ेगा।


Comments Off on अबेकस मैथ्स को चुटकी में करें हल
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.