पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

सोने-चांदी से सजा दुर्ग्याणा मंदिर

Posted On October - 6 - 2019

दुर्गेश कुमार मिश्र
अमृतसर में विश्व प्रसिद्ध स्वर्ण मंदिर और जलियांवाला बाग के साथ दुर्ग्याणा मंदिर पर्यटकों की प्राथमिकता होती है। खासकर अाश्विन मास के नवरात्र में।
अमृतसर रेलवे स्टेशन के पास स्थित दुर्ग्याणा मंदिर मुख्य रूप से श्री लक्ष्मी नारायण को समर्पित है। इसे शीतला माता मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। स्वर्ण मंदिर की तरह ही यह एक विशाल सरोवर (जिसका क्षेत्रफल 160 मीटर x 130 मीटर है) के बीच बना है। मंदिर के गर्भगृह तक पहुंचने का एकमात्र रास्ता सरोवर पर बना बेहद खूबसूरत पुल है। गर्भगृह में श्री राम दरबार, श्री लक्ष्मी नारायण और भगवान श्री कृष्ण की प्रतिमाएं प्रतिष्ठित हैं।

चांदी के कपाट
मंदिर की दर्शनी ड्योढ़ी से लेकर मुख्य मंदिर तक चांदी के कपाट लगे हैं। इनके कारण ही इसे सिल्वर टेंपल भी कहा जाता है। मंदिर के इन दरवाजों पर विभिन्न देवी, देवताओं के अलावा गंधर्वों की आकृतियां बनी हुई हैं।

गोल्डन टेंपल का आभास
एक वृहद परिक्रमा के बीच बना यह मंदिर अपनी विशिष्ट वास्तुशैली के कारण गोल्डन टेंपल का आभास कराता है। दुर्ग्याणा मंदिर के मुख्य गुंबद और दीवारों पर स्वर्ण मंदिर की भांति सोने के पत्तर चढ़ाए गए हैं। मंदिर प्रबंधन कमेटी के अनुसार मंदिर के गुंबद और दीवार पर करीब 90 किलो सोने के पत्तर मढ़े गए हैं।

परिक्रमा में मंदिरों की शृंखला
माता दुर्गा के नाम पर बने दुर्ग्याणा मंदिर की 2140 फुट की परिक्रमा में विभिन्न देवी-देवताओं के मंदिर बने हुए हैं। यह ऐसे लगते हैं जैसे एक धागे में मोती पिरोए गए हों। इसी परिसर में वेद भवन, शनि मंदिर और शीतला माता मंदिर भी है।


Comments Off on सोने-चांदी से सजा दुर्ग्याणा मंदिर
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.