हिमाचल प्रदेश में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस !    राष्ट्रीय पर्व पर दिखी देश की आन, बान और शान !    71वें गणतन्त्र की चुनौतियां !    देखेगी दुनिया वायुसेना का दम !    स्कूली पाठ्यक्रम में विदेशी ज्ञान कोष !    जहां महर्षि वेद व्यास को दिये थे दर्शन !    व्रत-पर्व !    पंचमी पर सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग !    गणतन्त्र के परमवीर !    छब्बीस जनवरी !    

संतान की मंगलकामना का व्रत अहोई अष्टमी

Posted On October - 20 - 2019

योगेश कुमार गोयल

करवा चौथ के चार दिन बाद और दिवाली से एक सप्ताह पहले मनाई जाती है ‘अहोई अष्टमी’। कार्तिक कृष्ण अष्टमी को महिलाएं अपनी संतान की दीर्घायु, जीवन में समस्त संकटों से उनकी रक्षा के लिए इस दिन व्रत रखती हैं। नि:संतान महिलाएं भी संतान की कामना के लिए यह व्रत करती हैं। इस दिन अहोई माता के रूप में अपनी-अपनी पारिवारिक परंपरानुसार लोग माता पार्वती की पूजा करते हैं।
अहोई अष्टमी व्रत के संबंध में कुछ कथाएं प्रचलित हैं। ऐसी ही एक कथानुसार प्राचीन काल में किसी नगर में एक साहूकार की पत्नी दिवाली से पहले घर की लीपा-पोती के लिए मिट्टी लेने गई। मिट्टी खोदने के लिए उसने जहां कुदाल चलाई, वहां एक सेह की मांद थी। सहसा उस स्त्री के हाथ से कुदाल सेह के बच्चे को लग गई, जिससे वह मर गया। साहूकार की पत्नी को जीव हत्या से बहुत दुख हुआ, परन्तु अब क्या हो सकता था? वह पश्चाताप करती हुई घर लौट आई। कुछ दिनों बाद उसके एक बेटे का निधन हो गया। फिर अकस्मात दूसरा, तीसरा और इस प्रकार वर्ष भर में उसके सभी सात बेटे मर गए। महिला अत्यंत व्यथित रहने लगी। एक दिन उसने अपने आस-पड़ोस की वृद्ध महिलाओं को विलाप करते हुए बताया कि उसने जानबूझकर कभी कोई पाप नहीं किया। अनजाने में उससे एक सेह के बच्चे की हत्या अवश्य हुई है। यह सुनकर वृद्ध औरतों ने उसे दिलासा देते हुए कहा कि यह बात बताकर तुमने जो पश्चाताप किया है, उससे तुम्हारा आधा पाप नष्ट हो गया है। तुम उसी अष्टमी को भगवती माता की शरण लेकर सेह और सेह के बच्चों का चित्र बनाकर, उनकी आराधना करो और क्षमा-याचना करो। ईश्वर की कृपा से तुम्हारा पाप धुल जाएगा। साहूकार की पत्नी ने ऐसा ही किया। वह हर वर्ष नियमित रूप से ऐसा करने लगी। उसे सात पुत्रों की प्राप्ति हुई।
देवी पार्वती को अनहोनी को होनी बनाने वाली देवी माना गया है। इसलिए अहोई अष्टमी पर माता पर्वती की पूजा की जाती है और संतान की दीर्घायु एवं सुखमय जीवन की कामना की जाती है।


Comments Off on संतान की मंगलकामना का व्रत अहोई अष्टमी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.