पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

विजयादशमी पर राफेल का राजतिलक

Posted On October - 9 - 2019

फ्रांस के मेरिनियाक में मंगलवार को भारतीय वायुसेना को मिला पहला राफेल लड़ाकू विमान।

मेरिनियाक (फ्रांस), 8 अक्तूबर (एजेंसी)
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस से खरीदे गये 36 राफेल लड़ाकू विमानों की शृंखला में प्रथम विमान यहां मंगलवार को औपचारिक रूप से प्राप्त किया। फ्रांस के दक्षिण-पश्चिम स्थित मेरिनियाक में राफेल लड़ाकू विमान सौंपे जाने के लिये आयोजित समारोह में सिंह अपनी फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोरेंस पार्ले के साथ शरीक हुए। इस समारोह का आयोजन राफेल विमान निर्माता दसाल्ट एविएशन के प्रतिष्ठान में हुआ।
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान में करीब 25 मिनट उड़ान भरने के बाद कहा कि भारत किसी अन्य देश को धमकाने के लिए हथियार नहीं खरीदता। उन्होंने कहा कि यह लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना को और मजबूती प्रदान करेगा। सिंह ने राफेल में उड़ान भरने से ठीक पहले नये विमान का शस्त्र पूजन किया। उन्होंने राफेल में अपनी उड़ान को यादगार और जीवन में कभी न भूलने वाला लम्हा बताते हुए कहा, ‘मैंने कभी कल्पना नहीं की थी कि मैं सुपरसोनिक स्पीड से उड़ान भरूंगा।

विमान मिलने के बाद शस्त्र पूजन कार्यक्रम के तहत राफेल को तिलक करने के बाद नारयिल चढ़ाते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह।

यह एक बहुत आरामदेह और सुगम उड़ान रही। इस दौरान मैं इस लड़ाकू विमान की कई क्षमताओं, इसकी हवा से हवा में मार करने की क्षमता और इसकी जमीन पर लक्ष्य भेदने की क्षमता को देख सका।’ फ्रांस से विमान प्राप्त करने के बाद राजनाथ सिंह ने पेरिस में मंगलवार को आयोजित सालाना भारत-फ्रांस रक्षा वार्ता के संदर्भ में कहा, ‘आज भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी के क्षेत्र में एक नया मील का पत्थर स्थापित किया गया है। द्विपक्षीय रक्षा सहयोग नये मुकाम पर पहुंचा है।’ उन्होंने कहा, ‘यह भारतीय सशस्त्र बलों के लिए ऐतिहासिक दिन है, जो भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक साझेदारी की गहराई को प्रदर्शित करता है। आज विजयादशमी है और साथ ही भारतीय वायुसेना का 87 वां स्थापना दिवस भी है।’ फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ले ने राफेल के बारे में कहा कि यह फ्रांस की सर्वश्रेष्ठ चीज है जिसकी पेशकश फ्रांस ने भारत को अपनी संप्रभुता की रक्षा के लिए की है।

इस लड़ाकू विमान में उड़ान भरने से पहले ‘थम्स’ अप करते रक्षा मंत्री।
– एजेंसी

59,000 करोड़ का है सौदा
भारत ने 59,000 करोड़ रुपये के सौदे के तहत सितंबर 2016 में फ्रांस से 36 लड़ाकू विमान खरीद का आर्डर दिया था। 4 लड़ाकू विमानों की प्रथम खेप भारत में वायुसेना के अड्डे पर मई 2020 में आएगी। सभी 36 लड़ाकू विमानों के सितंबर 2022 तक भारत पहुंचने की उम्मीद है। दो इंजन वाला यह विमान विमान वाहक पोत और एक छोटे से रनवे से उड़ान भरने में सक्षम है।
आतंकियों को सबक सिखाने के लिए जरूरी था बालाकोट हमला : भदौरिया
हिंडन : वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने मंगलवार को कहा कि बालाकोट हमले की रणनीतिक प्रासंगिकता है। उन्होंने कहा कि वह एयर स्ट्राइक आतंकवादी हमलों को अंजाम देने वालों को दंडित करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व के संकल्प को दर्शाती है और सरकार के आतंकवादी हमलों से निपटने के तरीके में यह एक प्रमुख बदलाव रहा है। उन्होंने कहा कि भविष्य के सभी अभियानों में परिचालन सफलता सुनिश्चित करने के लिए भारतीय वायुसेना को लड़ाकू उपकरणों और असाधारण प्रशिक्षण मानकों की उच्च सेवा क्षमता को बनाए रखना चाहिए।


Comments Off on विजयादशमी पर राफेल का राजतिलक
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.