पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

बॉलीवुड के नये बैडमैन

Posted On October - 5 - 2019

दीप्ति अंगरीश
कभी बॉलीवुड में अमज़द खान, अमरीश पुरी, अजीत, रंजीत, बैडमैन गुलशन ग्रोवर, शक्ति कपूर से लेकर प्रेम चोपड़ा और डैनी जैसे खलनायकों की तूती बोलती थी। यह एक्टर नेगेटिव किरदार के लिये ही जाने जाते हैं। इनकी मौजूदगी के बिना फिल्म अधूरी सी लगती थी। मौजूदा दौर में बॉलीवुड में ट्रेंड बदल रहा है। अब बड़े पर्दे के हीरो भी विलेन की भूमिकाएं कर अपनी प्रतिभा साबित करने में लगे हैं। रणवीर सिंह को फिल्म ‘पद्मावती’ के खिलजी के रूप में भला कौन भूल सकता है। इसमें शक नहीं है कि वह एक बेहतरीन अभिनेता हैं। हीरो से इत्तर विलेन की भूमिका में बखूबी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा दिया था रणवीर सिंह ने। अक्षय कुमार कई फिल्मों में नेगेटिव किरदार निभा चुके हैं। ‘2.0’ में विलेन की भूमिका न केवल एक संदेश दर्शकों तक पहुंचाती है बल्कि साबित करती है कि वह किसी भी रोल में फिट बैठते हैं। अक्षय कुमार पहली बार फिल्म ‘खिलाड़ी 420’ में विलेन के रोल में नज़र आए थे। ‘वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई दोबारा’, ‘ब्लू’ के अलावा ‘अजनबी’ में अक्षय का नेगेटिव किरदार तारीफ के काबिल है।
नये बैड ब्वॉयज़
बाॅलीवुड में स्थापित आज के दौर के हीरो जानते हैं कि विलेन का किरदार निभाने से उनकी वर्सेटेलिटी ही निखर कर सामने आएगी। रणवीर सिंह के अलावा चंकी पांडे, फिल्म ‘साहो’ (देवराज) , ‘बेगम जान’ (कबीर), काॅमिक एक्टर सौरभ शुक्ला फिल्म रेड (रामेश्वर), राणा डग्गुबाती, फिल्म ‘बाहुबली 2’ (भलालदेव), पृथ्वीराज सुकुमारन, फिल्म ‘नाम शबाना’ (टोनी), सिद्धार्थ मल्होत्रा, फिल्म ‘इत्तेफाक’ (विक्रम सेठी), साजद डेलफ्ररूज, फिल्म ‘टाइगर जिंदा है’ (अबू उसमान), रोहित राॅय व रोनित राॅय, फिल्म ‘काबिल’ (माधवराव व अमित शेलर)।
विलेन या बैडमैन, उनका पाॅपुलैरिटी ग्राफ सुपरस्टार्स से कम नहीं है। कुछ विलेन के रोल को इतना पसंद किया गया है कि दर्शकों के दिलों में उनकी गुड इमेज है। गुड इमेज वाले और लोकप्रिय विलेन की लिस्ट काफी लंबी है।
विलेन से भी होती हैं फिल्में हिट
विलेन के पास डाइमेंशन अधिक होते हैं। हीरो से उसकी हार आखिर में ही होती है तब तक वह हीरो को परेशान ही करता रहता है। ‘धूम 3’ में आमिर ने डबल रोल निभाया था और दोनों ही किरदार चोर के थे। लेकिन उन्होंने फिल्म के हीरो अभिषेक बच्चन और उदय चोपड़ा से अधिक तारीफ बटोरी थी। ‘धूम 2’ के विलेन और उनके साथ वैम्प के तौर पर थीं ऐश्वर्या राय बच्चन। जब विलेन इतने खूबसूरत और डैशिंग हों तो दर्शकों का भी मन करता है हीरो हार जाए और विलेन जीत जाए। अगर धूम सीरीज़ पर ही नज़र डालें तो हीरो से अधिक उत्सुकता ये जानने में रहती है कि फिल्म का विलेन कौन होगा? हॉलीवुड में ऐसा जेम्स बॉन्ड सीरीज़ में होता है कि बॉन्ड के सामने विलेन कौन होगा?
दूसरा उदाहरण लेते हैं, सैफ अली खान का। उनके करियर को दूसरी जिंदगी विलेन का किरदार निभाने के बाद मिली। ओंकारा में निर्देशक विशाल भारद्वाज ने अगर सैफ को लंगड़ा त्यागी का किरदार नहीं दिया होता तो सैफ आज इतने सफल न होते।
ताहिर राज भसीन
बाॅलीवुड के सबसे युवा विलेन हैं ताहिर राज भसीन। ताहिर ने भी फरेडी दारूवाला की तरह फिल्मी सफर की शुरुआत विलेन से की और सुपरहिट भी हुए। यह फिल्म थी मर्दानी (2014)। इस फिल्म में विलेन की भूमिका इतनी जबरदस्त थी कि ताहिर को कई अवाॅर्ड भी मिले। फिल्म ‘फोर्स 2’ में भी ताहिर ने विलेन की भूमिका निभाई है।
रितेश देशमुख
वैसे तो रितेश को सभी दर्शक कॉमेडी किंग के नाम से जानते हैं लेकिन ‘एक विलेन’ में उनकी नेगेटिव भूमिका को कैसे भुलाया जा सकता है। ग्रे शेड रोल में भी वे खूब निखरे हैं।
करण जौहर
फिल्म निर्माता करण जौहर कई फिल्मों में कैमियो करते दिखते हैं लेकिन फिल्म बॉम्बे वेलवेट में उनका नेगेटिव रोल दर्शकों और क्रिटिक्स को भी भूल पसंद आया।
प्रकाश राज
साउथ फिल्म इंडस्ट्री के बड़े स्टार हैं प्रकाश राज। हर भाव को फिल्मी पर्दे पर बेहतर तरीके से उतारने वाला यह एक्टर हरफनमौला है। बाॅलीवुड में प्रकाश राज उम्दा एक्टिंग के लिए वाहवाही बटोरते हैं। इनको बाॅलीवुड में फिल्म वांटेड के गिनी भाई और फिल्म सिंघम में जयकांत शिकरे से व्यापक पहचान मिली। रीयल लाइफ में प्रकाश राज सोशल पर्सन और गरीबों के मसीहा हैं।
गुलशन ग्रोवर
यह बैड मैन किसी पहचान का मोहताज नहीं है। पिछले चार दशकों से गुलशन ग्रोवर बाॅलीवुड में विलेन की भूमिका निभा रहे हैं। इन्होंने 400 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। इनकी यादगार फिल्में हैं सदमा (1983), वीराना (1988), राम लखन (1989), सर (1993), बुलेट राजा (2013) आदि।
मनोज वाजपेयी
आपको याद है फिल्म सत्या (1998) का भीखूमात्रे। इस नेगेटिव रोल ने मनोज वाजपेयी को व्यापक पहचान दी और कई नामचीन अवॉर्ड इनके नाम किए, जैसे नेशनल अवॉर्ड फाॅर बेस्ट स्पोर्टिंग एक्टर, फिल्मफेयर क्रिटिक अवॉर्ड फाॅर बेस्ट एक्टर आदि। इसके अलावा मनोज वाजपेयी ने यादगार नेगेटिव रोल फिल्म कौन (1999), अक्स (2001), रोड (2002), वीर जारा (2004), गैंग आॅफ वासेपुर (2012) और बागी 2 (2018)भी निभाये हैं।
रोनित राॅय
रोनित राॅय ने फिल्मी सफर काफी देर से शुरू किया। इन्होंने एक्टिंग का सफर शुरू किया टेलीवजन से और दर्शकों का दिल जीत लिया। रोनित राॅय ने फिल्मी पर्दे पर लीड व स्पाेर्टिंग एक्टर के रूप में एक-दो फिल्में कीं, लेकिन न फिल्में हिट हुईं, न ही रोनित। पर रोनित की नेगेटिव रोल में फिल्मी पर्दे पर अदायगी सुपरहिट हुई है, जैसे फिल्म बाॅस (2013), अगली (2014), गुड्डू रंगीला (2015), डोंगारी का राजा (2016), उड़ान ( 2010) और काबिल (2017)।
सोनू सूद
साउथ फिल्म इंडस्ट्री के सबसे ज्यादा चर्चित एक्टर हैं सोनू सूद जहां वे स्पाेर्टिंग व नेगेटिव रोल्स निभाते हैं। बाॅलीवुड के बेहतरीन मोस्ट गुड लुकिंग विलेन कहना इन्हें गलत नहीं होगा। हाल ही में इनकी नेगेटिव एक्टिंग फिल्म सिंबा (2018) में देखी गई। सोनू ने आर. राजकुमार (2013) और दबंग (2010) में भी यादगार विलेन का किरदार निभाया था। उनकी दमदार एक्टिंग इनकी फैन फाॅलोइंग का ग्राफ बढ़ाती रहती है।
राहुल देव
एक विलेन के लिए सिर्फ सुपर फाइन एक्टिंग ही काफी नहीं है। खतरनाक लुक्स और बिग बाइसेप्स वाली बाॅडी भी अहम होती है। इस पायदान पर एकदम फिट हैं राहुल देव। राहुल देव बाॅलीवुड के जानेमाने विलेन हैं। इन्होंने तमिल, तेलुगू, उड़िया, पंजाबी, कन्नड़ और मलयालम भाषा की फिल्मों में भी काम किया है। इन्हें फिल्म चैंपियन (2000), बर्दाश्त (2004) और ढिशूम (2016) ने नेम-फेम दिया है।
आशुतोष राणा
बता दें कि आशुतोष राणा स्टेज नाम रामनारायण नीखरा से अधिक लोकिप्रय हैं। 10 नवंबर 1967 को मध्य प्रदेश में जन्मे इस एक्टर ने बाॅलीवुड में 25 साल पूरे किए हैं। टीवी के अलावा इन्होंने हिंदी, मराठी, तेलगू, तमिल और कन्नड़ फिल्मों में भी काम किया है। विलेन की बात करें, तो आशुतोष राणा ने पिछले दो दशकों से बाॅलीवुड में यादगार विलेन की भूमिका निभाई है। फिल्म दुश्मन (1999) और संघर्ष (2000) के लिए इन्हें बेस्ट विलेन का फिल्मफेयर अवाॅर्ड भी मिल चुका है।
फरेडी दारूवाला
आज के युवा विलेन हैं फरेडी दारूवाला। मजे की बात यह है कि फरेडी ने फिल्मी करियर की शुरुआत ही विलेन से की और हिट भी हुए। इन्हें शाहरुख खान की एक्शन थ्रिलर रेस 3 में नेगेटिव किरदार निभाते देखा गया था। फिल्म हाॅलीडे (2014) में भी इनकी नेगेटिव एक्टिंग दमदार थी।
निकितिन धीर
निकितिन धीर को आपने आशुतोष गोवारिकर की फिल्म ‘जोधा अकबर’ (2008) में देखा था। इस फिल्म में उन्होंने रितिक रोशन के साथ स्पोर्टिंग एक्टर का किरदार निभाया था। उसके बाद फिल्म ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ (2013) ने इन्हें लोकप्रिय बना दिया। इन्होंने ‘दबंग 2’ और ‘रेडी’ में विलेन की भूमिका निभाई और वाहवाही बटोरी।
बड़े पर्दे के खौफनाक चेहरे
कई सुपरहिट हीरो ने भी फिल्मों में विलेन का रोल निभाया है और हिट भी हुए हैैं। 1940 से 1990 तक विलेन होते थे प्राण साहब, अजीत, जीवन, अमरीश पुरी, शक्ति कपूर, आदित्य पंचोली और प्रेम चोपड़ा। उस दौर में हीरो जैसा प्यार विलेन को नहीं मिलता था। आज स्थितियां काफी बदली हैं। फिल्मी हीरो जैसी पाॅपुलैरिटी विलेन को भी मिलती है।


Comments Off on बॉलीवुड के नये बैडमैन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.