हिमाचल प्रदेश में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस !    राष्ट्रीय पर्व पर दिखी देश की आन, बान और शान !    71वें गणतन्त्र की चुनौतियां !    देखेगी दुनिया वायुसेना का दम !    स्कूली पाठ्यक्रम में विदेशी ज्ञान कोष !    जहां महर्षि वेद व्यास को दिये थे दर्शन !    व्रत-पर्व !    पंचमी पर सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग !    गणतन्त्र के परमवीर !    पिहोवा जल रूप में पूजी जाती हैं सरस्वती !    

बासठ वर्ष का अन्तराल!

Posted On October - 13 - 2019

मधु गौतम

वर्तमान के वातायन से
हर अतीत सुंदर लगता है
हर डाली चंदन लगती है
हर कानन नंदन लगता है।
बासठ वर्ष पहले विद्यालय का मेरा पहला दिन आज भी मन महका जाता है। अपनी दो बड़ी बहनों को रोज़ यूनिफॉर्म पहन कर स्कूल जाते देख मेरा मन भी उनके साथ जाने को लालायित रहता था। जब मेरे विद्यालय जाने का दिन आया तो मैं खुशी-खुशी तैयार होकर अपनी बड़ी दीदी के साथ स्कूल चली गई। स्कूल पहुंच कर दीदी मुझे मेरी कक्षा पहली-ए में पहली पंक्ति के तीसरे डेस्क के सामने बिछी हुई दरी-पट्टी पर बिठा आयी। पास के डेस्क की दरी पर एक और छात्रा थी। उसने मेरा नाम पूछा, मैंने उसका। वो नीना थी। हमारी ऐसी मित्रता हुई जो आज तक कायम है।
पहले दिन अध्यापिका ने सबके नाम पूछे, रजिस्टर में लिखे, मुझे कोई भय नहीं लगा। एक-दो बच्चे क्लास में सो गए। अध्यापिका ने बिना नाराज़ हुए सबको हाथ जोड़ने के लिए कहा और प्रार्थना सिखाई, ‘हम छोटे छोटे बच्चे हैं, हम भगवान से प्रार्थना करते हैं।’ फ़िर दो पंक्तियां स्वयं गाईं। ‘दया कर दान विद्या का हमें परमात्मा देना।’
बच्चे इधर-उधर जा रहे थे। हमारी अध्यापिका ने संभवतः उन्हें व्यवस्थित करने के लिए एक कहानी सुनाई। उनका सुनाने का तरीका इतना सजीव था, लग रहा था घटनाएं सामने घट रहीं हों। कहानी शब्दशः तो याद नहीं किन्तु उसका भाव याद है, उनकी कहानी सुनाती हुई छवि अभी भी मन-मस्तिष्क में है–कहानी का भाव था कि दूसरों की सहायता करना अच्छा होता है, हमें दूसरों की मदद करनी चाहिए, ये भाव आज भी मुझे प्रेरणा देता है।
पहले स्कूल में आजकल की तरह अतिरिक्त लाड़ नहीं करते थे, न ही दृश्य श्रव्य सामग्री का ज़्यादा प्रयोग होता था। एक तरह की सादगी पूरे वातावरण में विद्यमान थी, जिसकी छवि आज भी मेरे मस्तिष्क में अंकित है।


Comments Off on बासठ वर्ष का अन्तराल!
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.