पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

बंगला छोड़ने से पहले उखाड़ लिये खिड़की-दरवाजे

Posted On October - 11 - 2019

नयी दिल्ली, 10 अक्तूबर (एजेंसी)
दिल्ली के लुटियन जोन में बलवंत राय मेहता लेन के 11ए नंबर बंगले का नजारा युद्ध क्षेत्र की किसी इमारत में मची तबाही जैसा है। कमरों से उखाड़े गये खिड़की, दरवाजे, दीवारों से निकाली गयी टाइलें, बिखरा पड़ा फर्नीचर, खंडहर में तब्दील हुये बरामदे, इस बंगले की ताजा तस्वीर का हिस्सा हैं। यह बंगला बिहार से पूर्व सांसद पप्पू यादव के नाम आवंटित है। बंगले में तबाही के मंजर की वजह, इसे खाली करने से पहले इसमें किये गये अतिरिक्त निर्माण कार्य को हटाना बताया गया है।
आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा पूर्व सांसदों से बलपूर्वक सरकारी बंगला खाली कराने की कार्रवाई पप्पू यादव को आवंटित बंगले में शुरू होती, इससे पहले ही उन्होंने बंगले में किए गये सैकड़ों लोगों के रुकने के इंतजामों का नामोनिशान मिटाने के लिए अस्थायी निर्माण ढहा दिया है। आवास पर मौजूद पप्पू यादव के निजी सचिव अजय कुमार ने दावा किया कि बंगले में लगभग 400 लोगों के रुकने का इंतजाम था।
उन्होंने कहा, ‘हमारे सांसद ने उन मरीजों के लिए आवास में ठहरने का इंतजाम किया था, जो मधेपुरा सहित बिहार के अन्य इलाकों से इलाज कराने के लिए दिल्ली आते थे। इसीलिये बंगले के बाहर सुभाष चंद्र बोस सेवाश्रम का बोर्ड पर भी लगा है, जिस पर लिखा है, आपका घर, सबका घर।’ कुमार ने खिड़की, दरवाजे उखाड़ कर ले जाने की तोहमत केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) के सिर पर मढ़ दी। उन्होंने कहा, ‘मंगलवार को सीपीडब्ल्यूडी के अधिकारियों की मौजूदगी में निर्माण कार्य हटाया गया था और खिड़की, दरवाजे भी उनकी टीम ले गयी।’ लेकिन, सीपीडब्ल्यूडी ने इस आरोप को सिरे से खारिज करते हुए स्पष्ट किया कि पूर्व सांसद ने अभी बंगले का कब्जा नहीं दिया है। 230 सांसदों को दिये थे नोटिस : संपदा निदेशालय ने 230 पूर्व सांसदों को बंगले खाली करने के नोटिस जारी किये थे। अक्तूबर के पहले सप्ताह तक बंगले खाली नहीं करने वाले लगभग 50 सांसदों को कारण बताओ नोटिस जारी कर 3 दिन में जवाब तलब किया गया था। इस सूची में पप्पू यादव और उनकी पूर्व सांसद पत्नी रंजीत रंजन भी शामिल थी। सुपौल से पूर्व सांसद रंजीत रंजन को बलवंत राय मंहता लेन में ही 7 नंबर बंगला आवंटित है।
गत सोमवार को निदेशालय ने नोटिस का जवाब नहीं देने वाले 40 पूर्व सांसदों के बंगले बलपूर्वक खाली कराने की कार्रवाई शुरू कर दी है। निदेशालय के एक अधिकारी ने बताया कि पप्पू यादव और उनकी पत्नी ने एक सप्ताह में आवास खाली करने की सूचना दी थी, इसलिए बलपूर्वक आवास खाली कराने वालों की सूची में उनका नाम नहीं है।

 


Comments Off on बंगला छोड़ने से पहले उखाड़ लिये खिड़की-दरवाजे
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.