एकदा !    जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग खुला !    वैले पार्किंग से वाहन चोरी होने पर होटल जिम्मेदार !    दिल्ली फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 32 गिरफ्तार !    हाईवे फास्टैग टोल के लिये अधिकारी तैनात होंगे !    अखनूर में आईईडी ब्लास्ट में जवान शहीद !    बीरेंद्र सिंह का राज्यसभा से इस्तीफा !    बदरीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद !    केटी पेरी, लिपा का शानदार प्रदर्शन !    निर्भया मामला दूसरे जज को भेजने की मांग स्वीकार !    

ग्रीन दीवाली

Posted On October - 26 - 2019

दीप्ति

इस दीवाली हमारे साथ आप संकल्प लें कि रोशनी का यह त्योहार पटाखे, धुआं, प्रदूषण, शोरगुल नहीं बल्कि जगमगाता उल्लास बिखेरेगा। यानी सेलिब्रेशन होगा लेकिन ग्रीन और ईको फ्रेंडली। इको फ्रेंडली दीवाली मनानी है तो अपनाएं यह टिप्स….

दीये की मद्धम लौ
घर-आंगन को इलेक्टि्रक लाइटों या झालरों से रोशन न करें। इनसे बिजली की खपत अधिक होती है। यानी कुछ पलों की खुशी के लिए चुकाना होगा भारी-भरकम बिल। इससे बचने और ग्रीन दीवाली मनाने का पारंपरिक तरीका मुफीद है। इसलिये आशियाने के कोने-कोने को दीयों की लौ से रोशन करें। इससे न तो बिजली का बिल बढ़ेगा और न ही प्रदूषण।

लाएं ईको फ्रेंडली पटाखे
इस दीपोत्सव पर बिना प्रदूषण वाले ग्रीन पटाखे घर लाएं। वातावरण प्रदूषण की समस्या को कम करने की सोच के चलते इस बार बाजार में इको फ्रेंडली पटाखे उतारे गए हैं। दीवाली के इस सीजन में इको फ्रेंडली पटाखों को बूम आया है। इनकी खूबियां ये हैं कि इनको हाथ में पकड़ कर चलाया जा सकता है। इनसे धुआं नहीं निकलता बल्कि रंगबिरंगे कागजों की पतंगें या थरमोकोल की रंगबिरंगी गोलियां फव्वारे के रूप में निकलती हैं। इन छोटी-छोटी पहलों से हमारी धरती को ग्लोबल वॉर्मिंग से बचाने में मदद मिलेगी।

फूलों से महके आशियाना
अभी तक दीवाली डेकोरेशन के लिये आप इसके लिए प्लास्टिक के फूल, आर्टिफिशियल, चमकीले झालर, लड़ियां व फूलों का प्रयोग करते रहे हैं, लेकिन इस बार सजावट इनसे नहीं, कुछ अलग तरीके से होगी। आप जानते होंगे कि सजावट का यह तरीका सुंदर भले लगता होगा, लेकिन पृथ्वी के लिए घातक है। ये सजावट पुरानी होने के बाद नष्ट नहीं होती। वातावरण को दूषित करती रहती है। इस पर लगाम नहीं लगाई जाए, तो इसमें निकलने वाले अघुलनशील तत्व बीमारियों को न्योता देते हैं। इस दीवाली हमें इनसे पूरी तरह से दूरी बनानी है। सजावट के लिए आंगन व हर कमरे की दहलीज को ताजे फूलों से महकाना है। आंगन को रंगोली से सजाने के लिए भी ताजे फूलों की पत्तियों का प्रयोग करें। इस सजावट से दो फायदे होंगे। एक तो वातावरण स्वच्छ रहेगा, दूसरा आपकी मेहनत से इस खुशियों के मौके पर अपने और करीब आएंगे।

तोेहफे भी हों नेचुरल
आप सजग नागरिक हैं। वातावरण स्वच्छ रखना चाहते हैं। इसके लिए तोहफों का आदान-प्रदान नेचुरल रखें। रंग और मिलावटी मिठाइयों से दूर रहें। इससे आपकी भी और दूसरों की भी सेहत दुरुस्त रहेगी। खुशियों के मौके पर नेचुरल गिफ्टिंग के कई विकल्प मौजूद हैं, जैसे आॅर्गेनिक मिठाइयां, आॅर्गेनिक फल, चाॅकलेट, हैंड मेड कैंडल, हैंड मेड लैंपशेड, आॅर्गेनिक सामग्रियों से बनी काॅफी, चाय, बेकरी प्राॅडक्ट्स, हर्बल कोल्ड डिंक व जूस आदि।


Comments Off on ग्रीन दीवाली
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.