पीएम से मिलकर उचित मुआवजे की मांग करेंगे धरनारत किसान !    होटल के सेफ्टी टैंक में उतरे 2 कर्मियों की दम घुटने से मौत !    फादर एंथोनी मामले में 2 आरोपी भगोड़े करार !    काऊ सेस 4 करोड़, गौवंश फिर भी सड़क पर !    ‘हिन्दू पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे किये जा रहे सवाल’ !    भारत में पांव पसारने की कोशिश में जेएमबी !    गांगुली, जय शाह, अरुण धूमल ने भरा नामांकन !    हादसा : हॉकी के 4 राष्ट्रीय खिलाड़ियों की मौत !    पाक की कई चौकियां, आतंकी कैंप तबाह !    5 साल में एक लाख करोड़ होगा टोल राजस्व : गडकरी !    

एकदा

Posted On October - 10 - 2019

जीवन अनमोल
एक व्यक्ति ने अपने घर में प्रतिदिन होने वाली कलह से तंग आकर आत्महत्या करने की सोची। किन्तु आत्महत्या का निर्णय लेना इतना आसान भी नहीं था। परिवार के भविष्य को लेकर वह चिंतित हो गया। असमंजस की स्थिति में वह महर्षि रमण के आश्रम में गया। महर्षि को अपनी स्थिति की सारी जानकारी देकर आत्महत्या के बारे में उनकी राय जाननी चाही। महर्षि उस समय आश्रमवासियों के भोजन के लिए पत्तलें बनाने में व्यस्त थे। पत्तल बनाने में महर्षि की तल्लीनता और परिश्रम को देख उसे आश्चर्य हुआ। उसने पूछा, ‘स्वामी जी! आप इन पत्तलों को इतने परिश्रम से बना रहे हैं, लेकिन थोड़ी देर में भोजन के बाद ये पत्तलें कूड़े में फेंक दी जाएंगी।’ महर्षि बोले, ‘सही कहा तुमने, मगर किसी वस्तु का पूरा उपयोग करके उसे फेंकना बुरा नहीं है। गलत तो तब है जब उपयोग किए बिना उसे अच्छी अवस्था में ही फेंक दिया जाए। आप सुविज्ञ हैं, मेरे कहने का आशय समझ गये होंगे।’ व्यक्ति को समझ आ गया कि जब तक जान है, जीने का उत्साह बने रहना चाहिए। मानव जीवन दुर्लभ है और उसने आत्महत्या का विचार त्याग दिया। प्रस्तुति : शशि सिंघल


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.