दो गुरुओं के चरणों से पावन अमर यादगार !    व्रत-पर्व !    ऊंचा आशियाना... आएंगी ढेर सारी खुशियां !    आत्मज्ञान की डगर !    झूठ से कर लें तौबा !    इस समोसे में आलू नहीं !    पुस्तकों से करें प्रेम !    बिना पानी के स्प्रे से नहाएंगे अंतरिक्ष यात्री !    मास्टर जी की मुस्कान !    अविस्मरणीय सबक !    

अमेरिका भारत-पाक के बीच सीधी वार्ता का समर्थक

Posted On October - 23 - 2019

वाशिंगटन, 22 अक्तूबर (एजेंसी)
अमेरिका ने मंगलवार को कहा कि वह शिमला समझौते के अनुसार भारत एवं पाकिस्तान के बीच सीधी बातचीत का समर्थन करता है लेकिन इस वार्ता में ‘मुख्य बाधा’ सीमा पार आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने वाले आतंकवादी समूहों को पाकिस्तान का समर्थन देना है।
दक्षिण एवं मध्य एशिया मामलों की अमेरिकी कार्यवाहक सहायक विदेश मंत्री एलिस जी वेल्स ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की विदेश मामलों की समिति की एशिया, प्रशांत एवं निरस्त्रीकरण उपसमिति से कहा, ‘हमारा मानना है कि 1972 के शिमला समझौते में बताए अनुसार भारत और पाकिस्तान के बीच सीधी बातचीत करना तनाव कम करने में सर्वाधिक कारगर हो सकता है।’ उन्होंने कहा कि ऐसा बताया जाता है कि 2006-2007 में पर्दे के पीछे की वार्ता के दौरान भारत और पाकिस्तान ने कश्मीर समेत कई मामलों पर उल्लेखनीय प्रगति की थी। अमेरिका इस मुद्दे पर कई बार अपनी बात रख चुका है।
वेल्स ने कहा, ‘इतिहास दर्शाता है कि क्या संभव हो सकता है।’ उन्होंने कहा, ‘उपयोगी द्विपक्षीय वार्ता पुन: आरंभ करने के लिए भरोसा कायम करने की आवश्यकता है और सीमा पार आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने वाले आतंकवादी समूहों को पाकिस्तान का समर्थन देना इस वार्ता में मुख्य बाधा है।’ वेल्स ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के इस हालिया बयान का स्वागत करता है कि कश्मीर में हिंसा करने वाले पाकिस्तान के आतंकवादी कश्मीरियों और पाकिस्तान दोनों के दुश्मन है। उन्होंने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा, ‘पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी समूहों को शरण दे रहा है जो सीमा पार हिंसा को भड़काना चाहते हैं। पाकिस्तान का शरण मुहैया कराना अस्थिरता पैदा करता है और पाकिस्तानी प्राधिकारी अपने कदमों के लिए जवाबदेह हैं।’


Comments Off on अमेरिका भारत-पाक के बीच सीधी वार्ता का समर्थक
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.