बाबा नानक की भक्ति में सराबोर हुआ शहर !    कस्टडी से भागने की कोशिश, केस दर्ज !    उद्घाटन के 9 माह बाद सरकारी अस्पताल में चिकित्सा शुरू !    सेवानिवृत्त पुलिस कर्मचारी आये दिल्ली पुलिस के समर्थन में !    हेलमेट न दस्तावेज, 28 हजार जुर्माना, स्कूटी भी जब्त !    पाक में सुरक्षा दस्ते  पर हमला, 5 की मौत !    मां, 2 बेटियों पर तेजाब डाला, हालत गम्‍भीर !    सीएम के फोन पर धमकी देने का आरोपी काबू !    रातभर चली मुठभेड़ में 2 और आतंकी ढेर !    वृद्ध महिला के उत्पीड़न मामले में हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    

पति-पत्नी के रिश्ते में भरोसा है अहम

Posted On September - 8 - 2019

रिश्ते

आरती लोहानी
कोई भी इनसान सर्वगुण सम्पन्न नहीं होता। कुछ कमियां और कुछ खूबियां सबमें होती हैं। अपने साथी की कमियों को जानने के बाद नजरअंदाज़ कर देना सुखमय जीवन के लिए बेहद ज़रूरी है। क्योंकि बार-बार कमियां इंगित करने से रिश्तों में कुछ दूरी आ ही जाती है, इसलिए इन्हें अनदेखा कर देना ही हितकर है।
झूठ का सहारा न लें
झूठ एक न एक दिन सामने आ ही जाता है, चाहे वो कितनी ही सफाई से क्यों न बोला जाए। इसलिए अपने साथी से किसी भी बात पर झूठ न बोलें। अगर कुछ गलती हो भी गयी है तो साथी को सच बता दें क्योंकि जब दूसरों से उसे इसका पता चलेगा तो जाहिर है उसे बुरा लगेगा और उसके मन में कड़वाहट पनपेगी जो मधुर रिश्तों के लिए शुभ नहीं है।
कुछ राज़ भी रखें
साथी को सब बताना चाहिए परंतु शादी के पहले ही दिन सब कुछ बता देना अक्लमंदी नहीं है। पहले साथी के व्यवहार, पसंद-नापसंद को बखूबी जान लें, उसके बाद धीरे-धीरे साथी को विश्वास में लेकर बताने से दूसरे को समझने में आसानी होगी और रिश्ता मधुर बना रहेगा।
एक-दूसरे को वक्त दें
भागमभाग और व्यस्तता के इस दौर में एक-दूसरे के लिए समय अवश्य निकालें। अपने कामकाज से कुछ दिनों के लिए खुद को दूर करके कहीं शांत और खूबसूरत जगह पर जाकर एक-दूसरे के साथ समय बिताएं। इससे थकान भी खत्म होगी और एक-दूसरे को समझने में भी आसानी होगी।
रोमांस भी ज़रूरी
कुछ क्षण जिंदगी की व्यस्तता में से जरूर चुराएं और प्यार और स्नेह की रिमझिम बारिश का भी आनंद लें। नीरस जिंदगी वैसे भी बोझ सी लगने लगती है। इस बीच कभी-कभी फ्लर्ट करना भी जरूरी है।
पार्टनर की इच्छा जानें
भले ही दो लोग एक अटूट बंधन में बंध गए हों, इक-दूजे के लिए समर्पित भी हों लेकिन दोनों की महत्वाकांक्षाएं, इच्छाएं अलग-अलग ही होती हैं। साथी की इन इच्छाओं को जानना और उनको सहयोग देना सम्बन्धों में मधुरता लाता है।
भावनात्मक बनें
इक-दूजे की भावना को समझ लेने वाले साथी कम ही मिलते हैं परंतु साथी की भावनाओं को जानकर उसकी इज्जत करना जरूरी है। भावना को समझने की लिए एक दिल की जरूरत होती है। इसलिए कभी-कभी भावना को महत्व दें।
तोहफे दें
जन्मदिन, सालगिरह के अलावा भी कभी-कभी बस यूं ही साथी को कोई प्यारा से तोहफा दें। इस अचानक से दिए उपहार से यकीन मानो रिश्ते में ताजगी का अनुभव होगा।
अन्य रिश्ते भी निभाएं
माता-पिता चाहे वो किसी के भी हों, घर के आधार स्तम्भ होते हैं। न तो इनकी अनदेखी की जा सकती है और न ही करनी चाहिए। मान-सम्मान के साथ-साथ माता -पिता को समझें भी। इनकी बातें सुनें और समझें भी परंतु अमल करने से पहले परख जरूर लें क्योंकि एक जेनरेशन गैप जरूर होता है दो पीढ़ियों में। इसलिए रिश्तों को समझदारी से निभाएं।
किसी की बात सुनकर अपने दाम्पत्य जीवन को बिखराव के रास्ते पर ले जाने से बचें। कभी -कभी रिश्तों में दरार आ सकती है इसलिए जितनी जल्दी हो इस दरार को पाटकर मधुर हो जाएं।


Comments Off on पति-पत्नी के रिश्ते में भरोसा है अहम
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.