मां भद्रकाली मंदिर में नड्डा ने की पूजा-अर्चना !    अब कैथल भी चटाएगा सुरजेवाला को धूल : दिग्विजय !    मानेसर जमीन घोटाला : हुड्डा नहीं हुए पेश, चार्ज पर बहस जारी !    प. बंगाल सचिवालय पहुंची सीबीआई !    कोलंबिया विमान हादसे में 7 की मौत !    विरोध के बीच पार्किंग दरों का एजेंडा पारित !    एकदा !    कांग्रेस करेगी मौजूदा न्यायाधीश से जांच की मांग !    ‘कमलनाथ के खिलाफ मामला सज्जन कुमार से ज्यादा मजबूत’ !    मोहाली मैच के लिये पहुंचीं भारत और दक्षिण अफ्रीका की टीमें !    

नारद मामला : पूर्व मेयर और टीएमसी सांसद की आवाज के लिए सैंपल

Posted On September - 12 - 2019

कोलकाता, 11 सितंबर (एजेंसी)
सीबीआई ने नारद स्टिंग ऑपरेशन की सच्चाई का पता लगाने के लिए बुधवार को कोलकाता के पूर्व मेयर सोवन चटर्जी और तृणमूल कांग्रेस के सांसद अपरूपा पोद्दार की आवाजों के नमूने लेकर परीक्षण किया। एजेंसी के सूत्रों ने यह जानकारी दी।
चटर्जी और पोद्दार ममता बनर्जी नीत पार्टी के उन नेताओं और मंत्रियों में शामिल हैं, जिन्हें परीक्षण के लिए समन भेजा गया था। चटर्जी हाल में भाजपा में शामिल हुए हैं। आरामबाग से टीएमसी सांसद पोद्दार ने 2017 में कलकत्ता हाईकोर्ट का रुख कर सीबीआई की प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी। उन्होंने दावा किया था कि जब कथित वीडियो शूट किया गया था, तब वह निर्वाचित जनप्रतिनिधि नहीं थीं। इसलिए भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के प्रावधान उन पर लागू नहीं होते हैं। यह मामला अब भी हाईकोर्ट में लंबित है।
सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय जांच ब्यूरो वीडियो की सच्चाई का पता लगाने के लिए आवाज के नमूने लेकर परीक्षण कर रहा है। यह वीडियो 2016 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले आया था। नारद न्यूज के संपादक सैमुएल मैथ्यू ने जांच एजेंसी को वीडियो मुहैया कराया है। इस वीडियो में टीएमसी नेताओं से मिलते-जुलते व्यक्ति एक फर्जी कंपनी के नुमाइंदों से पैसे लेते दिखे थे। पिछले दो हफ्तों के दौरान, टीएमसी के मंत्रियों और नेताओं की आवाज के नमूने लेकर परीक्षण किया गया है। इनमें सुब्रत मुखर्जी, सौगत रॉय और मदन मित्रा शामिल हैं।


Comments Off on नारद मामला : पूर्व मेयर और टीएमसी सांसद की आवाज के लिए सैंपल
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.