सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

सिल्वर स्क्रीन

Posted On August - 17 - 2019

ए. चक्रवर्ती

परिणीति का नया मित्र
एक फिल्म का सहायक निर्देशक है तो दूसरी अभिनेत्री। इधर, इन दोनों के बीच बेहद गुप-चुप ढंग से प्यार की एक अलग कहानी शुरू हो चुकी है। लेकिन दोनों भरसक कोशिश कर रहे हैं कि मीडिया को इसका आभास किसी तरह से भी न हो। इसलिए आमने-सामने होने पर दोनों एक-दूसरे से अनजान बनने की कोशिश कर रहे हैं। बात परिणीति चोपड़ा की हो रही है। इन दिनों वह और उनके नये प्रेमी चरित देसाई की हालत कुछ ऐसा ही बयां कर रही है। दूसरी ओर, कई मौकों पर इन्हें एक साथ देखा जा रहा है। गाॅसिप बाज़ार में हवा गर्म है कि दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। चरित वह शख्स हैं, जो प्रियंका-निक की शादी में भी मौजूद थे। ऐसे में दोनों से इस बारे में कुछ पूछने पर चुप्पी साध लेते हैं। परिणीति सोशल मीडिया में लगातार अपने आपको डिफेंड भी कर रही हैं। उनका एक ही दावा है कि उन्हें पता है कि वह क्या चाहती हैं और किसको चाहती हैं। उनके परिवार वाले भी सब जानते हैं। इसलिए जो भी खबरें आ रही हैं, इससे उन्हें इस सारी बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता। कुछ ऐसा लग रहा है जैसे मां तो सब जानती हैं, फिर मुझे किस बात का डर… फिर प्यार को लेकर इतना लुका-छिपी क्यों? परिणीति के आलोचक साफ तौर पर मानने लगे हैं कि कुछ नई फिल्में हाथ में आते ही परिणीति का नया गिमिक शुरू हो गया है। या फिर चरित देसाई एक सहायक निर्देशक हैं, इस वजह से तो परिणीति ऐसा नहीं कर रही। खैर, उनकी नई फिल्म ‘जबरिया जोड़ी’ आते ही थियेटर से गायब हो गई। लेकिन परिणीति को संजय दत्त, अजय देवगन जैसे कई फिल्मी दिग्गज का सपोर्ट मिला हुआ है। इनके साथ वह फिल्में भी कर रही हैं। जहां तक अफेयर का सवाल है, उसके बिना भी वह रह नहीं पाती हैं। कभी आदित्य चोपड़ा के खास मनीष शर्मा के साथ उनकी दोस्ती के किस्से खूब मशहूर थे। अब इस बारे में पूछने पर वह एकदम अपसेट हो जाती हैं। बहरहाल, जल्द ही वह ‘भुज-द प्राइड आॅफ इंडिया’ की शूटिंग को लेकर व्यस्त हो जाएंगी। इसमें संजय दत्त, अजय देवगन मुख्य भूमिका में है।

सुशांत की दिलचस्पी
अभिनेता सुशात सिंह राजपूत इन दिनों एक नये अफेयर के लिये चर्चा में हैं। कृति सेनन के साथ उनका अफेयर जैसे ही कुछ ठंडा पड़ा, उन्होंने रिया चक्रवर्ती से दोस्ती कर ली। वरना कोई किसी को ऐसे ही महंगा पेंडेंट उपहार में देता है भला। ज़हिर है सभी यही कहेंगे कि यह अपनी किसी खास महिला दोस्त को ही दिया जा सकता है। अभी कुछ दिनों पहले अभिनेता सुशांत माॅडल-अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के साथ पहाड़ पर घूमने गए। यहीं पर उन्होंने रिया को एक प्लेटिनम का पेंडेंट गिफ्ट किया। इसके बाद से ही यह चर्चा होने लगी है कि सुशांत की दिलचस्पी अब इस लड़की में है। हालांकि, हमेशा की तरह इस रिश्ते को लेकर भी सुशांत कुछ नहीं बोलना चाहते हैं। दूसरी ओर, एक अरसे से उनका फिल्म करिअर कुछ खास करवट नहीं ले रहा है। एक के बाद एक उनकी चार फिल्में फ्लॉप हो चुकी हैं। उनकी पिछली फिल्म ‘सोनचिरैया’ का तो बहुत बुरा हश्र हुआ। अब ‘छिछोरे’ और ‘दिल बेचारा’ से उन्हें उम्मीदें हैं।

सुजीत को भाता है जूही का साथ
सुजीत की पिछली फिल्म ‘अक्टूबर’ फ्लॉप रही। हालांकि, इससे फिल्मकार सुजीत सरकार की क्रिएटिविटी पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा। इन दिनों वह एक नहीं, बल्कि दो फिल्मों ‘ऊधम सिंह’ और ‘गुलाबो सिताबो’ को लेकर बेहद मशगूल हैं। ‘विकी डोनर’, ‘मद्रास कैफे’ और ‘पीकू’ आदि फिल्मों के फिल्मकार सुजीत सरकार भीड़ के साथ आसानी से घुल-मिल जाते हैं। एक साथ दो-दो प्रोजेक्ट। इस बात पर वह मुस्करा कर बताते हैं, ‘बस, समझ लीजिए दोनों प्रोजेक्ट बहुत दिनों से बन रहे थे। फिर संजोग कुछ ऐसा बना कि दोनों को एक साथ शुरू किया जा सकता है। मेरी टीम भी पूरी तैयार थी। शुरुआत ऊधम सिंह से कर डाली। मेरे पास विकी कौशल की कुछ डेट थी तो अप्रैल में इसका अहम शेड्यूल लंदन में पूरा कर लिया। अब अक्तूबर से शुरू होने वाले चार माह लंबे दूसरे शेड्यूल में इसकी सारी शूटिंग पूरी कर लूंगा। यह फिल्म अगले साल के अंत में रिलीज़ होगी।’ जहां तक ‘गुलाबो-सिताबो’ का सवाल है, यह भी 2020 के अप्रैल में रिलीज़ होगी। सुजीत दा बताते हैं, ‘चूंकि ये दोनों एक ही प्रोड्यूसर की फिल्में हैं, इसलिए भी सब कुछ प्लानिंग के मुताबिक हुआ है। यह एक बहुत लाइट काॅमेडी ड्रामा है। इसकी स्क्रिप्ट बहुत पहले से ही मेरे पास तैयार थी। बस, हम अमित सर और आयुष्मान की डेट को मैच कर रहे थे। यही वजह है कि हाल ही में हमने यह फिल्म पूरी कर डाली है। इसकी काफी आउटडोर शूटिंग हमने लखनऊ में पूरी की है। ‘विकी डोनर’ और ‘पीकू’ के बाद लेखिका जूही चतुर्वेदी के साथ उनकी ज़बरदस्त ट्यूनिंग हो गई है। यही वजह है कि ‘अक्टूबर’ जैसी फ्लॉप फिल्म के बाद भी सुजीत दा ने एक बार फिर जूही की स्क्रिप्ट पर भरोसा जताया है। वह कहते हैं, ‘मुझे लगता है कि ‘पीकू’ में जूही चतुर्वेदी के काम की जितनी तारीफ हुई है,उसके बाद हमारी केमिस्ट्री और मजबूत हुई है।’

इस करीबी के मायने
ब्रेकअप के बाद भी दीपिका और रणबीर अच्छे दोस्त बने हुए हैं। इसलिए गाहे-बगाहे उनकी मुलाकात भी होती रहती है। अब यह दीगर बात है कि कभी दोनों के रिश्तों को लेकर बाॅलीवुड में काफी शोर मचा था। लेकिन ब्रेकअप के बाद दोनों ही इस रिश्ते को पूरी तरह से ठंडे बस्ते में डालकर अपने-अपने सफर पर निकल पड़े हैं। सच तो यह है कि इन दिनों दीपिका-रणवीर सिंह के साथ दांपत्य जीवन में व्यस्त हैं। दूसरी तरफ रणबीर कपूर भी आलिया भट्ट को लेकर बहुत गंभीर हैं। लेकिन अभी हाल ही में फिल्मकार लवरंजन के घर पर दोनों को देर रात डिनर के लिए जाते हुए देखा गया। उसके बाद से ही इंडस्ट्री में गाॅसिप का बाज़ार गर्म हो उठा है। कहा जा रहा है कि लवरंजन अपनी नई फिल्म में दीपिका और रणबीर कपूर को एक साथ कास्ट करना चाहते हैं। उस फिल्म को लेकर विचार-विमर्श के लिए ही लवरंजन ने उन्हें अपने घर पर निमंत्रित किया था। वैसे इस बीच न चाहते हुए भी लव की फिल्म को लेकर दीपिका की ट्रोलिंग शुरू हो गई है क्योंकि मी-टु अभियान के साथ लवरंजन का नाम भी जुड़ा था।

फिल्म फैक्टरी बने अक्षय
सबसे ज्यादा कमाई करने वाले, सबसे ज्यादा आयकर देने वाले एक्टर और हमेशा ही कुछ नया करने का जुनून लेकर चलने वाले एक्टर के तौर पर अक्षय की पहचान है। यही नहीं, एक बार फिर वह फिल्म ‘फैक्टरी’ बनने की होड़ में है। अब जैसे कि इस साल ‘केसरी’, ‘मिशन मंगल’ के बाद ‘हाउसफुल-4’ और ‘गुड न्यूज़’ रिलीज़ के लिए तैयार है। पिछले साल भी उनकी फिल्मों की संख्या कुछ ऐसी ही थीं। कुछ यही हाल 2020 में उनका रहेगा। 2020 के लिए उनकी दो फिल्में ‘सूर्यवंशम’ और ‘लक्ष्मी बम’ अभी से रिलीज़ के लिए तैयार हैं। जबकि कुछ वक्त पहले एक बातचीत में अक्षय ने साफ कहा था कि उन पर काम का दबाव बहुत पड़ रहा है, लिहाज़ा वह अब अपनी फिल्मों की संख्या जल्द कम कर देंगे। कुछ दिनों तक वह शांत भी रहे। मगर, अब वह फिर से अपने पुराने तेवर में वापस लौट आए हैं। अक्षय ऐसे सवालों का जवाब बहुत सहज होकर देते हैं, ‘असल में कुछ सब्जेक्ट ऐसे होते हैं, जिन्हें मैं खुद पेश करना चाहता हूं। बस, इसी चक्कर में फिल्मों की संख्या बढ़ती रहती है। लेकिन मैं बहुत आर्गेनाइज्ड तरीके से काम करता हूं, इसलिए काम का दबाव बहुत ज्यादा मुझ पर नहीं पड़ता है। थोड़ी-सी मेहनत ज्यादा करनी पड़ती है और वही तो मैं करने के लिए इंडस्ट्री में आया हूं।’ इसी के साथ वह इस बात पर ज़ोर देते हैं कि वह बहुत संभल कर फिल्में कर रहे हैं। यही वजह है कि ‘हाउसफुल-4’, और ‘सूर्यवंशम’ जैसी शुद्ध कमर्शियल फिल्में भी आसानी से कर लेते हैं। वह मानते हैं कि इसमें रिस्क बहुत ज्यादा होता है। वे कहते हैं कि ‘अब एक्सपेरिमेंट नहीं करूंगा तो कब करूंगा। वैसे एक बात बता देना चाहता हूं, मेरी कई कमर्शियल फिल्में मेरी बीवी ट्विंकल को बहुत पसंद हैं।’


Comments Off on सिल्वर स्क्रीन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.