घर बुलाएं माखनचोर !    बच्चों को ऐसे बनाएं राधा-कृष्ण !    करोगे याद तो ... !    घटता दबदबा  नायिकाओं का !    हेलो हाॅलीवुड !    चैनल चर्चा !     हिंदी फीचर फिल्म : फेरी !    सिल्वर स्क्रीन !    अनुष्का की फोटो पर बवाल !    हेयर कलर और कट से गॉर्जियस लुक !    

सिल्वर स्क्रीन

Posted On August - 10 - 2019

ए. चक्रवर्ती

अंकिता का नया ब्वॉयफ्रेंड
सुशांत सिंह राजपूत के साथ हुए अपने ब्रेकअप के बाद अभिनेत्री अंकिता लोखंडे नये ब्वॉयफ्रेंड के बारे में ज्यादा बयानबाजी करने से बच रही थीं। हाल ही में उन्होंने नये ब्वॉयफ्रेंड विकी जैन के रिश्तों के बारे में काफी कुछ कहा। यही नहीं, इंस्टाग्राम पर विकी के साथ अपनी कई तस्वीरें पोस्ट की हैं। एक तस्वीर में तो घुटने के बल बैठकर विकी उन्हें प्रपोज़ कर रहे हैं। एक अन्य तस्वीर में अपने कैप्शन में अंकिता ने लिखा है—विकी के प्रस्ताव पर वह सोचकर देखेंगी। सुशांत से ब्रेकअप के बाद कुछ दिनों तक वह अपने करिअर को लेकर काफी संजीदा नज़र आई थीं, लेकिन यह भी जल्द खत्म हो गया।
गोविंदा का दोस्त नहीं
पिछले दो-तीन साल से अभिनेता और सुपर स्टार गोविंदा का हर फिल्मी दांव उल्टा पड़ रहा है। उनके परिवार के सभी सदस्य इंडस्ट्री में तमाम कोशिशें कर घर में बैठ चुके हैं। हाल यह है कि खुद गोविंदा घर में बैठकर आरामतलबी की जिंदगी जी रहे हैं। हां, इन दिनों टीवी के रियलिटी और टॉक शो के लिए वह खूब वक्त निकाल रहे हैं। खाली वक्त मिलता है तो दार्जिलिंग में जाकर रहना उन्हें बहुत पसंद है। बड़े नायकों की बात पर गोविंदा की जुबान से सुनते ही साफ लगता है कि उनके प्रति उनका गहरा गुस्सा है। उनकी वजह से ही उन्हें कई बार बहुत पीछे रह जाना पड़ा है। गोविंदा खुद की जुबान से ऐसा कुछ बयां करने से बचते हैं। वह बात को टालते हुए कहते हैं, ‘नहीं-नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है। वह सब बड़े नायक हैं। शाहरुख, आमिर, सलमान आदि सिनेमा के अच्छे जानकार हैं। वह सचमुच फिल्मों को बहुत अच्छी तरह से समझते हैं। इसलिए तो इतने सालों से इंडस्ट्री के शिखर पर मौजूद हैं।’ कुछेक गलत फिल्मों और अच्छी फिल्मों के ऑफर को खारिज कर देने वाली बात को वह मानते हैं। वह कहते हैं, ‘इंडस्ट्री में उनका वैसा कोई दोस्त नहीं है। हां, सलमान के साथ मेरे बहुत अच्छे संबंध थे, लेकिन अब वैसी बातचीत नहीं होती है। आमिर-शाहरुख से किसी इवेंट में मुलाकात होने पर बातचीत सिर्फ हाय-हेलो तक होती है।’
फैंस को जानती हैं कृति
अभिनेत्री कृति सेनन की नई फिल्म ‘अर्जुन पटियाला’ का बाक्स ऑफिस में बुरा हश्र हुआ। अभी और कुछ दिनों तक इस फिल्म का पोस्टमार्टम होगा। वैसे ट्रेड विश्लेषक मानते हैं कि अभी कृति को ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है। पहला तो यह कि लुका-छिपी के बाद वह स्टारडम की गलियों में काफी मशहूर हो चुकी हैं। इस साल उनकी दो और फिल्में ‘हाउसफुल-4’ और ‘पानीपत’ रिलीज़ होंगी। दूसरी बात यह है कि ‘अर्जुन पटियाला’ की असफलता की असली वजह वरुण शर्मा और दिलजीत दोसांज को ठहराया गया है। जाहिर है इस असफलता का प्रभाव कृति पर भी कुछ खास नहीं है। इन दिनों वह अपने ढेर सारे इंडोर्समेंट को लेकर खासी व्यस्त हैं। वह अपने प्रशंसकों को भी बहुत अच्छी तरह से ट्रीट कर रही हैं।
क्यों खुश नहीं शान
एक दौर था जब गायक शांतनु मुखर्जी यानी शान की धूम थी। उस समय उन्होंने लगभग हर बड़े सुपर स्टार को अपनी आवाज़ दी थी। अब वह एकदम शांत है। लेकिन इस वजह से शान शांत नहीं है। एक अरसे से एंड टीवी के शो ‘द वॉयस ऑफ इंडिया किड्स’ में बतौर जज और कोच के तौर पर भी उनकी उपस्थिति की काफी सराहना हुई है। बेहद सुरीली आवाज़ के धनी शान को हमेशा ही मैलोडियस गायक माना गया है। लेकिन अब तो गायन में जैसे मैलोडी लगभग गायब हो चली है। ऐसे सवाल पर शान थोड़ा गंभीर हो जाते हैं, ‘असल में मैलोडी एक बहुत सब्जेक्टिव टर्म है। बस आप इतना जान लीजिए कि कोई एक गाना सुर में गाने का मतलब ही मैलोडी होता है। कुछ एक संगीतकारों ने मेरे इस सुर का बहुत अच्छा उपयोग किया है, कुछ इस मामले में चूक गए हैं। मैं तो अपनी आदत के मुताबिक पहले की तरह सुर में गा रहा हूं। मेरी भी कुछ अपनी समस्या है, मैं अपने हर गाने के बोल को लेकर बहुत संजीदा हूं। ऐसे में जब कोई यह कहता है कि आप गानों के उच्चारण पर ज्यादा ध्यान न देकर गाने को कुछ इस तरह से गाइए कि वह सिर्फ सुनने में अच्छा लगे तो यह सब बातें मेरे लिए प्रॉब्लम क्रियेट करती हैं।’ इधर, बॉलीवुड में नयी सुर-रचना की बजाय पुराने गानों को ही तोड़-मोड़ कर पेश करने का एक नया ट्रेंड चला है। शान इस नए ट्रेंड को लेकर ज्यादा गंभीर नहीं हैं। वह बताते हैं, ‘इस ट्रेंड के चलते हमारे दिग्गजों को कोई परेशानी नहीं हो रही है क्योंकि सुने तो वह ही ज्यादा जाते है। असल में समस्या इनकी नहीं, म्यूजिक डायरेक्टर की है। उन्हें तो वही पुराना म्यूजिक फॉलो करना पड़ रहा है। इसके चलते संगीतकारों के टैलेंट की हत्या हो रही है। अब देखिए न आज तनिष्क बागची से सभी रीमिक्स गाने मांग रहे हैं। अरे भाई, तनिष्क जैसे नये संगीतकारों को कुछ ओरिजिनल करने का मौका दो, वे सभी टैलेंटेड हैं। इसलिए मैं इस ट्रेंड को लेकर बहुत असंतुष्ट हूं।
दिशा के लिये फिल्मी रास्ते आसान नहीं
फिल्म ‘भारत’ के रिलीज होने के बाद भी अभिनेत्री दिशा पटानी ने कोई नई फिल्म साइन नहीं की है। इन दिनों वह अपनी पिछली साइन की हुई फिल्म ‘मलंग’ को लेकर ही व्यस्त हैं। उनके बारे में यह मशहूर हो चला है कि फिल्में साइन करने के मामले में बेहद चूजी हैं। इन सबके बावजूद इधर उन्होंने तीन-चार फिल्में सिर्फ छोटी-छोटी वजह बताकर खारिज कर दी हैं। वह बताती हैं, ‘इस तरह की बातें बेमानी हैं। पहले भी मेरे बारे में कहा जाता है कि मेरे पास, जो फिल्में आती हैं, उनमें मैं बहुत मीन-मेख निकालती हूं। असल में मैं चूजी नहीं, थोड़ा-सा केलकुलेटिव हूं। इस फिल्मी करिअर के लिए बीटेक की पढ़ाई छोड़कर मुंबई चली आई। इसलिए ऐसा कुछ नहीं करना चाहती हूं कि मेरा करिअर रुक जाए। इसलिए हर क्षण यह डर लगा रहता है कि फिल्म फ्लॉप हुई तो अगली फिल्म के लिए कोई याद नहीं करेगा। इसलिए कई बार थोड़ा चूजी होना पड़ता है। फिल्मी रास्ते आसान नहीं होते, यहां एक-एक कदम बहुत संभलकर रखना पड़ता है।’
पूरे रंग में रवि
रवींद्र श्यामनारायण शुक्ला यानी अभिनेता रवि किशन अभी हाल ही में 50 साल के हुए हैं। रवि को बेहद मेहनती एक्टर कहना गलत नहीं होगा। यही वजह है कि हिन्दी हो या भोजपुरी फिल्में, वे लगातार सक्रिय रहते हैं। यह एक ऐसा चेहरा है, जिसने फिल्मों में काम करने के मामले में कभी भाषा की परवाह नहीं की। हां, भोजपुरी की फिल्में उन्होंने धड़ाधड़ कीं। लेकिन अचानक ही ‘बाटला हाउस’ जैसी फिल्म में काम करके उन्होंने फिर दर्शकों को खूब चौंकाया। वैसे चौंकाना उनकी फितरत है। जैसे कि इधर सांसद बनकर उन्होंने अपना एक पांव गोरखपुर में जमा रखा है। वह अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा रहे हैं। कमाल की बात तो यह है कि वह अब भी एक्टिंग को लेकर बेहद संजीदा हैं। जल्द ही रिलीज होने वाली ‘बाटला हाउस’ में वे के.के. की अहम भूमिका कर रहे हैं। रवि बताते हैं, ‘सुनो गुरु, अब मैं ज्यादा तीन-दो-पांच में नहीं रहता हूं। अपना रोल ठीक-ठाक हो तो झट काम कर लेता हूं। 27 साल से ज्यादा हो गए एक्टिंग करते हुए। फिल्म पूरी हो, ठीक-ठाक ढंग से रिलीज़ हो जाए, यही मेरी सबसे बड़ी तमन्ना होती है।’
अपसेट हैं स्वरा
इन दिनों अभिनेत्री स्वरा भास्कर लगभग घर में बैठी हुई हैं। उनके सारे दांव उल्टे पड़ रहे हैं। उनकी सियासी हरकतों के बारे में चर्चा न करते हुए सक्रियता के बारे में बात करें तो वह इन दिनों शून्य में आ चुकी है। गौरतलब है कि पहली बार फिल्म ‘तनु वेड्स मनु’ में उन्होंने सभी को खूब चौंकाया था। फिर बारी थी फिल्म ‘रांझणा’ की। इस फिल्म के उनके किरदार बिंदिया ने उन्हें एक बेहद भावुक अभिनेत्री के तौर पर स्थापित कर दिया। इसके बाद भी वह रुकी नहीं है। एकाध अपवाद की बात जाने दें तो ज्यादातर फिल्मों में उनकी सार्थक उपस्थिति की भरपूर तारीफें हुईं। ऐसे में उनके निजी जीवन की थोड़ी चर्चा होनी चाहिए। यहां भी उन्हें एक बड़ी पराजय का सामना करना पड़ा है। खबर है कि पांच साल पुराने उनके रिश्ते को भी गत दिनों ब्रेक-अप का दंश का सामना करना पड़ा। पिछले कई सालों से फिल्मी लेखक हिमांशु शर्मा के साथ वह रिश्ते में थीं। अभी कुछ माह पहले दोनों साथ में यूरोप छुट्टी मनाने गए थे। बस, वहां से लौटने के बाद ही दोनों ने ब्रेक-अप का निर्णय लिया। इसलिए इन आपसी झमेलों को दूर करने के लिए ही दोनों इस छुट्टी के लिए गए थे। यह दीगर बात है कि इस छुट्टी का कोई अच्छा परिणाम नहीं आया। जाहिर है इन सब वजहों से स्वरा बहुत अपसेट है।


Comments Off on सिल्वर स्क्रीन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.