बच्चों की जगह रोबोट भी जा सकेगा स्कूल !    क्रिसमस की टेस्टी डिशेज़ !    खुद से पहले दूसरों की सोचें !    आ गई समझ !    अवसाद के दौर को समझिये !    बच्चों को ये खेल भी सिखाएं !    नानाजी का इनाम !    निर्माण के दौरान नहीं उड़ा सकते धूल !    घर में सुख-समृद्धि की हरियाली !    सीता को मुंहदिखाई में मिला था कनक मंडप !    

क्रिमिनोलॉजी सुलझाएं रहस्य की गुत्थियां

Posted On August - 10 - 2019

कानून व्यवस्था पर आस्था और जिज्ञासा है, दूरदर्शिता भी है और तर्क के साथ व्यावहारिक सोच रखते हैं तो यह क्षेत्र आपके लिये है। लगातार बढ़ रही आपराधिक वारदातों के बीच अक्सर कड़े कानून बनाने की वकालत होती रहती है। कहीं मकोका तो कहीं हरकोका लगाने की भी कवायदें चल रही हैं। दूसरी ओर, कानूनी मामलों में जांच दल की मदद के लिए क्रिमिनोलॉजिस्ट की डिमांड भी तेज़ी से बढ़ रही है। दरअसल, क्रिमिनोलॉजिस्ट का प्रमुख काम है घटनास्थल से अपराधी के खिलाफ सबूत जुटाने में जांच दल की मदद करना। अपराध से संबंधित परिस्थितियों का अध्ययन करना, कारण तथा समाज पर पड़ने वाले इसके प्रभावों के बारे में जानना। बदलती तकनीक के दौर में ज़रूरी यह भी है कि टेकसेवी बनें ताकि इस क्षेत्र में अपराध सुलझाने में टेक्नोलॉजी आड़े न आए।

कैसे करें कोर्स
क्रिमिनोलॉजी के क्षेत्र में करिअर बनाने के लिए किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट (बीए, बीएससी) दाखिला ले सकते हैं। इसके लिए आर्ट या साइंस में बारहवीं पास होना अनिवार्य है। इसके अलावा पोस्टग्रेजुएट, डिग्री या डिप्लोमा इन क्रिमिनोलॉजी भी कर सकते हैं, जिसके लिए आर्ट या साइंस विषय में स्नातक डिग्री आवश्यक है। कोर्स की अवधि 3 वर्ष की होती है। क्रिमिनोलॉजी के क्षेत्र में डिग्री या डिप्लोमा कोर्स चलाए जाते हैं। कई यूनिवर्सिटीज़ में सर्टिफिकेट कोर्स भी होते हैं। वहीं फॉरेंसिक इंजीनियरिंग कोर्स को इंजीनियरिंग डिग्री वाले स्टूडेंट्स कर सकते हैं।

क्रिमिनोलॉजी में मौके
क्रिमिनोलॉजिस्ट के लिये नौकरी के अवसरों की कमी नहीं है। कई बार पुलिस विभाग आपराधिक प्रवृत्तियों को रोकने के लिए रिसर्चर नियुक्त करते हैं। राज्य सरकारों की अपराध विज्ञान प्रयोगशालाएं होती हैं, जो पुलिस को किसी भी घटना की जांच में मदद करती हैं, यहां इस क्षेत्र में कोर्स करने वालों को मौके मिलते हैं। इसके अलावा क्रिमिनोलॉजिस्ट सरकारी व निजी कंपनियों, सोशल वेलफेयर डिपार्टमेंट, एनजीओ, प्राइवेट सिक्योरिटी, रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन, डिटेक्टिव एजेंसियों में भी जॉब पा सकते हैं। क्रिमिनोलॉजिस्ट किसी काउंसलर तथा फ्रीलांसर के तौर पर भी काम कर सकते हैं। क्रिमिनोलॉजिस्ट से संबंधित कोर्स करने के बाद क्राइम इंटेलिजेंस, लॉ रिफॉर्म रिसर्चर, कम्युनिटी करेक्शन कोऑर्डिनेटर, ड्रग पॉलिसी एडवाइजर, कंज्यूमर एडवोकेट, एनवायरनमेंट प्रोटेक्शन एनालिस्ट के पद पर कार्य कर सकते हैं। क्रिमिनोलॉजिस्ट को फिंगर प्रिंट विशेषज्ञ, इंटेलीजेंस ब्यूरो, रासायनिक विश्लेषण के क्षेत्र में भी नौकरी मिलती है।

आमदनी
क्रिमिनोलॉजिस्ट शुरुआती तौर पर 20-25 हज़ार रुपए प्रतिमाह कमा सकता है। अनुभव प्राप्त करने के बाद आमदनी बढ़ती रहती है। फ्रीलांसर या काउंसलर हैं तो केस के अनुसार अपनी फीस तय कर सकते हैं। इसके अलावा अगर विदेशों में नौकरी की तलाश है तो वेतन भी अच्छा मिलेगा।

प्रमुख संस्थान

  • पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़
  • यूनिवसिर्टी ऑफ जम्मू, जम्मू एंड कश्मीर
  • यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास, चेन्नई
  • यूनिवर्सिटी ऑफ लखनऊ
  • आंध्र यूनिवर्सिटी, विशाखापत्तनम
  • लोक नायक जयप्रकाश नारायण नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ क्रिमिनोलॉजी एंड फारेंसिक साइंस, पटना यूनिवर्सिटी, बिहार

Comments Off on क्रिमिनोलॉजी सुलझाएं रहस्य की गुत्थियां
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.