सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

एकदा

Posted On August - 13 - 2019

समता का नजरिया

संयुक्त प्रांत के गवर्नर सर हारकोर्ट बटलर आवश्यकता पड़ने पर राजधानी लखनऊ से अकसर इलाहाबाद आकर रुकते और उनका निवास होता लाट साहब की कोठी। गवर्नर साहब के स्नान के लिए वहां एक कुंड की व्यवस्था थी। एक वर्ष वहां वर्षा की कमी से पानी की बहुत कमी हो गई। सार्वजनिक नलों के सामने लोगों के बीच संघर्ष की स्थिति निर्मित होने लगी! गवर्नर साहब ने जब कुंड को सूखा देखा तो उनके गुस्से का ठिकाना नहीं रहा। उनके अंगरक्षक दौड़े-दौड़े इलाहाबाद नगरपालिका के अध्यक्ष के घर पहुंचे। अध्यक्ष जान्सटनगंज के एक छोटे-से मकान में रहते थे। अंगरक्षकों ने उनके निवास पर जाकर देखा कि वे जमीन पर टाट बिछाए काम कर रहे हैं। अंगरक्षकों को भी वहीं जमीन पर बैठकर अपनी बात कहनी पड़ी। अध्यक्ष ने शांत भाव से बिना डरे उत्तर दिया-जब मैं नगरवासियों के पीने के लिए पर्याप्त जल की व्यवस्था नहीं कर पा रहा हूं, तब फिर गवर्नर साहब के नहाने के लिए पानी की व्यवस्था कहां से करूं। मेरे लिए सभी नागरिक समान हैं। यह सुनकर अंगरक्षक चुपचाप वहां से लौट आए। इलाहाबाद नगरपालिका के ये अध्यक्ष थे राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन।    प्रस्तुति : सुभाष बुड़ावनवाला


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.