सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

एकदा

Posted On August - 12 - 2019

गहरे अहसासों का बचपन
एक बार छात्रों ने पिकनिक का प्रोग्राम बनाया। उनमें एक गरीब छात्र भी था। उसने मां को बताया। मां ने बताया कि घर में कुछ खजूर रखे हैं, तू उन्हें ले जा। मां को लगा कि पिकनिक पर सभी बच्चे खाने-पीने की अच्छी चीजें लेकर आएंगे, ऐसे में बेटा खजूर ले जाएगा तो ठीक नहीं लगेगा। मां ने कहा कि तुम्हारे पिताजी से मैं बाजार से अच्‍छी चीज मंगवा लूंगी। पति-पत्नी ने इस पर विचार किया। बच्चे ने देखा कि उसके पिता चप्पल पहनकर बाहर जा रहे हैं। उसने पूछा-पिताजी आप कहां जा रहे हैं। वह बोले-मैं कुछ पैसे उधार लेने जा रहा हूं, जिससे तू भी पिकनिक पर ‍अच्छी चीजें ले जा सकेगा। बालक ने कहा-पिताजी, मैं पिकनिक पर ये खजूर ही ले जाऊंगा। कर्ज लेकर शान दिखाना बुरी बात है। यही बालक बड़ा होकर लाला लाजपतराय के नाम से विख्‍यात हुआ।
प्रस्तुति : अनिल कुमार


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.