वर्तमान डगर और कर्म निरंतर !    लिमिट से ज्यादा रखा प्याज तो गिरेगी गाज !    फिर उठा यमुना नदी पर पुल बनाने का मुद्दा !    कश्मीर में चरणबद्ध तरीके से बहाल होगी इंटरनेट सेवा !    बर्फबारी ने कई जगह तोड़ी तारबंदी !    सुजानपुर में क्रिकेट सब सेंटर जल्द : अरुण धूमल !    पंजाब में नदी जल के गैर-कृषि इस्तेमाल पर लगेगा शुल्क !    जनजातीय क्षेत्रों में ठंड का प्रकोप जारी !    कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या !    सेना का 'सिंधु सुदर्शन' अभ्यास पूरा !    

हरियाली अमावस पर पंच महायोग

Posted On July - 21 - 2019

मदन गुप्ता सपाटू
17 जुलाई से शुरू हुआ सावन का महीना इस बार पूरे 30 दिनों का है। भगवान शिव की आराधना के इस खास महीने में 4 सोमवार पड़ेंगे। सावन के पहले सोमवार का व्रत 22 जुलाई को है और इसी दिन श्रावण कृष्ण पंचमी भी है। दूसरे सोमवार यानी 29 जुलाई को सोम प्रदोष व्रत होगा। तीसरे सोमवार, 5 अगस्त को नाग पंचमी पड़ेगी। श्रावण का चौथा व अंतिम सोमवार 12 अगस्त को होगा। इस मास में शुक्र अस्त रहने के कारण मांगलिक कार्य नहीं होंगे। हालांकि, इस दौरान कई दुर्लभ संयोग बनेंगे, जिनमें आराधना का विशेष फल मिलता है। पहली अगस्त को हरियाली अमावस पर पंच महायोग लगभग सवा सौ साल बाद बन रहा है। पहला सिद्धि योग, दूसरा शुभ योग, तीसरा गुरु पुष्यामृत योग, चौथा सर्वार्थ सिद्धि योग और पांचवां अमृत सिद्धि योग। नागपंचमी भी भगवान शिव के प्रिय दिन सोमवार को मनाई जाएगी।
श्रावण में भगवान शिव की आराधना का विशेष महत्व माना गया है। भोलेनाथ अपने नाम के अनुरूप अत्यंत भोले हैं और सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं। शिवलिंग पर मात्र बिल्व पत्र चढ़ाने से ही भगवान शिव प्रसन्न हो जाते हैं। इसके अलावा भांग, धतूरा, जल, कच्चा दूध, दही, बूरा, शहद, गंगा जल, सफेद वस्त्र, आक , कमल गट्टा, पान, सुपारी, पंचमेवा आदि भी चढ़ाए जा सकते हैं। इस मास में महामृत्युंज्य मंत्र, रुद्राभिषेक, शिव पंचाक्षर स्तोत्र के पाठ से लाभ मिलता है। मान्यता है कि इस मास के हर मंगलवार को श्री मंगला गौरी का व्रत,

विधिवत‍्पूजन करने से शादी में आ रही रुकावटें दूर होती हैं, वैवाहिक जीवन की समस्याओं से मुक्ति मिलती है और सौभाग्य बढ़ता है।

करें ये उपाय

  • भस्म : सावन के पहले या किसी भी सोमवार को शिवजी की प्रतिमा के पास भस्म रखने से शिव कृपा मिलती है।
  • रुद्राक्ष : सावन के सोमवार को घर के मुखिया के कमरे में रुद्राक्ष रखने से रुके हुए काम पूरे होते हैं। आर्थिक लाभ होता है, प्रतिष्ठा बढ़ती है।
  • गंगा जल : भगवान शंकर ने गंगा मां को अपनी जटा में स्थान दिया था। सावन के सोमवार गंगाजल लाकर रसोई में रखने से घर में सम्पन्नता बढ़ती है, तरक्की व सफलता मिलती है।
  • त्रिशूल : घर के हॉल में चांदी या तांबे का त्रिशूल स्थापित करने से नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है।
  • नाग : इसे भगवान शिव का अभिन्न अंग माना जाता है। घर के मेन गेट के नीचे चांदी या तांबे के नाग-नागिन का जोड़ा दबाने से रुके हुए काम पूरे होते हैं।
  • डमरू : घर में डमरू रखने से नकारात्मक ऊर्जा का असर नहीं होता। यदि इसे बच्चों के कमरे में रखें तो ज्यादा अच्छा होगा।
  • पानी : घर के जिस हिस्से में परिवार सबसे ज्यादा रहता है, वहां एक तांबे के लोटे में पानी भरकर रख दें। इससे घर के लोगों के बीच प्रेम और विश्वास बना रहेगा। ध्यान रखें कि समय-समय पर पानी बदलते रहें। पुराना पानी किसी पेड़-पौधे में डाल दें।
  • चांदी के नंदी : अपनी तिजाेरी या अलमारी में जहां आप रुपये व गहने रखते हैं, वहां चांदी के नंदी रखें। इससे आर्थिक सम्पन्नता बढ़ती है।

Comments Off on हरियाली अमावस पर पंच महायोग
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.