वर्तमान डगर और कर्म निरंतर !    लिमिट से ज्यादा रखा प्याज तो गिरेगी गाज !    फिर उठा यमुना नदी पर पुल बनाने का मुद्दा !    कश्मीर में चरणबद्ध तरीके से बहाल होगी इंटरनेट सेवा !    बर्फबारी ने कई जगह तोड़ी तारबंदी !    सुजानपुर में क्रिकेट सब सेंटर जल्द : अरुण धूमल !    पंजाब में नदी जल के गैर-कृषि इस्तेमाल पर लगेगा शुल्क !    जनजातीय क्षेत्रों में ठंड का प्रकोप जारी !    कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या !    सेना का 'सिंधु सुदर्शन' अभ्यास पूरा !    

सिल्वर स्क्रीन

Posted On July - 20 - 2019

ए. चक्रवर्ती

अक्षय की मुरीद कियारा
अभिनेत्री कियारा आडवाणी को ख़बरों में कोई रुचि नहीं है। मगर खबरों पर आधारित फिल्में करना उन्हें अच्छा लगता है। इन दिनों कियारा अक्षय के साथ दो फिल्में कर रही हैं। वह बताती हैं, ‘इस समय इंडस्ट्री में मेरी एक छोटी-सी पहचान बनी है। लेकिन भविष्य में अक्षय सर के स्टाइल में फिल्में करना चाहती हूं। वह भी मनोरंजन से भरपूर बेहद तार्किक फिल्में कर रहे हैं। मुझे तो उनकी फिल्में ‘टॉयलेट-एक प्रेम कथा’ और ‘पैडमैन’ बहुत अच्छी लगीं। इन फिल्मों की अच्छी बात यह थी कि इनमें मनोरंजन के साथ-साथ एक संदेश था। गौरतलब है कि फिल्म ‘कबीर सिंह’ की धमाकेदार सफलता के बाद उनके हाथ जैसे जैकपॉट लग गया है। इधर, कुछ और बड़ी फिल्मों में उनके आने की बातें चल रही हैं।
‘गुड न्यूज’, ‘लक्ष्मी बम’ और ‘शेरशाह’ जैसी जिन फिल्मों में वह काम कर रही हैं, उसमें भी उनके रोल को बढ़ाया जा रहा है। यह नहीं, फिल्म ‘साहो’ में उनका खास आइटम नंबर अंतिम क्षण में रखा गया है। अभी हाल ही में उन्होंने सोशल मीडिया के ज़रिए भी इस खुशी को ज़ाहिर किया है।
सब्जेक्ट बड़ा फैक्टर : जॉन
अभिनेता जॉन अब्राहम के ज़ोनर की फिल्में—‘पोखरण’, ‘सत्यमेव जयते’, ‘रोमियो-अकबर वाल्टर’ के बाद अब वह 15 अगस्त को ‘बाटला हाउस’ लेकर आ रहे हैं। उनकी पिछली कुछ फिल्मों को ध्यान से देखें तो एक बात साफ हो जाती है कि इनमें सब्जेक्ट पर काफी फोकस रहता है। जॉन अब्राहम कहते हैं, ‘मैं हमेशा इस बात का प्रयास करता रहा हूं कि कुछ ऐसी फिल्में करूं, जिनमें सब्जेक्ट एक बड़ा फैक्टर बने। उतना तो याद नहीं, लेकिन ‘शूटआउट एट लोखंडवाला’ के बाद से इस बात को मैंने और ज्यादा महसूस किया। मगर सुजीत दा की ‘मद्रास कैफे’ के बाद से मैंने इस तरह के सब्जेक्ट पर और ज्यादा ध्यान देना शुरू किया है। अब जैसे कि मेरी अगली फिल्म ‘बाटला हाउस’ 2008 के चर्चित ‘बाटला हाउस कांड’ पर आधारित है। मैं इसमें पुलिस अधिकारी संजीव कुमार यादव का रोल कर रहा हूं। फिल्म के निर्देशक हैं निखिल आडवाणी। इसकी मुख्य लोकेशन दिल्ली, लखनऊ, मुंबई, जयपुर और नेपाल है। अपनी ज्यादातर फिल्मों की तरह ‘बाटला हाउस’ की शूटिंग भी 50 दिन में मैंने पूरी कर दी थी। वह हंसकर बताते हैं, ‘इंडस्ट्री में एक मॉडल और अभिनेता के तौर पर काफी साल हो गए हैं। इतनी संजीदगी आना लाजिमी है। मैं मानता हूं कि कई बार अच्छे सब्जेक्ट वाली फिल्में भी दर्शकों को पसंद नहीं आती हैं। फिर भी अच्छी फिल्मों के नाम पर प्रयोगधर्मी फिल्मों से बचता हूं।’
महिला पात्र बनना आसान नहीं : सुनील
सलमान की फिल्म ‘भारत’ में कॉमेडियन और अभिनेता सुनील ग्रोवर के काम की तो तारीफ हुई लेकिन उन्हें कुछ खास नोटिस नहीं किया गया। अब उनकी झोली में कोई फिल्म नहीं है। सच तो यह है कि 1998 में फिल्म ‘प्यार तो होना ही था’ के साथ शुरू हुआ उनका फिल्मी करिअर कभी भी मजबूत आधार नहीं ले पाया। मगर छोटे परदे ने उन्हें हमेशा बहुत व्यस्त रखा है। इन दिनों कपिल के शो की टीआरपी नीचे जा चुकी है, उनकी फिर से इस शो में वापसी की बात शुरू हो चुकी है। इस बार इसके प्रोड्यूसर सलमान हैं, इसलिए उनकी वापसी की प्रबल संभावना बन रही है। वह कहते हैं कि स्टैंडअप कॉमेडी में वह डॉक्टर मशहूर गुलाटी के अपने लोकप्रिय किरदार के अलावा महिला किरदार रिंकू भाभी के तौर पर भी बहुत मशहूर हैं। इसकी वजह पूछने पर बताते हैं, ‘मैं तो इस बात पर पूरा यकीन करता हूं कि प्रत्येक व्यक्ति के ऊपर उसके मां का बहुत ज्यादा प्रभाव रहता है। मेरी मां ने मुझसे कहा था, बेटा मेरा नाम रखना, जिंदगी में कुछ करके दिखाना। ये बातें पापा ने भी कहीं थी, लेकिन मां की उन बातों को आज तक भूल नहीं पाया हूं। हां, मुंबई में यह सोचकर कभी नहीं आया था कि साड़ी पहनकर महिला का किरदार करूंगा। वैसे भी एक पुरुष कभी भी महिला की जगह नहीं ले सकता। मैं ऐसी महिला का किरदार करके गर्व महसूस करता हूं।
अपारशक्ति के ख्याली पुलाव
आयुष्मान खुराना के भाई अपारशक्ति खुराना अब किसी पहचान के मोहताज नहीं रहे। ‘दंगल’ के बाद से ही उन्होंने बतौर अभिनेता अपनी एक सशक्त पहचान बनाई है। जाहिर है अब उनके जेहन में भी कुछ सपने पलने लगे हैं। इन दिनों बॉलीवुड की एक हॉट-गर्ल दिशा पटनी के करीब आने की कोशिश कर रहे हैं। यही नहीं, इस हीरोइन के साथ जोड़ी बनाकर वह कुछ हॉट-सीन भी करना चाहते हैं। कुछ आलोचकों ने उनका मजाक उड़ाते हुए कहा है कि इस स्ट्रगल करने वाले अभिनेता को हमेशा ही लाखों के सपने देखने की आदत है। उनका यह सपना एक टीवी शो में भी खूब शिद्दत से उभरकर आया। वैसे उन्होंने काफी ठीक-ठाक काम ‘दंगल’, ‘लुका-छिपी’, ‘हैप्पी फिर भाग जाएगी’ जैसी आधी दर्जन से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। उन्हें इस बात का दुख है कि उनके परिचय के संदर्भ में अब भी भाई आयुष्मान खुराना का नाम जोड़ा जाता है। बहुत शर्मीले अंदाज़ में उन्होंने कह ही डाला कि दिशा उन्हें बहुत ज्यादा हॉट लगती है। यदि उन्हें किसी के साथ घनिष्ठ होना पड़ा तो वह दिशा ही होगी।
नहीं बदलीं कैट
पुरानी बातों को कुरेदना अभिनेत्री कटरीना कैफ को ज़रा भी पसंद नहीं। खासकर जो बातें उनके ब्रेक-अप से जुड़ीं होती हैं, वह उन बातों से दूर ही रहती हैं। वैसे मीडिया के आग्रह को बार-बार टालना भी आसान नहीं होता है। रणबीर कपूर से ब्रेक-अप होने के बाद कैट डिप्रेशन में चली गई थीं। लेकिन इतने सालों बाद वह उन सभी बातों को भुला चुकी हैं। इस घटना के बाद जब आरोप-प्रत्यारोप लगने लगे थे तो कैट ने सब कुछ सच बताकर इस बात को समाप्त कर दिया था। तब उन्होंने यह कहकर बात को खत्म कर दिया था कि जो कुछ भी हुआ, उससे उन्होंने बहुत कुछ सीखा है। इसलिए ब्रेक-अप को लेकर उन्हें कोई अफसोस नहीं है।
अक्षय का खेल
सुपरस्टार अक्षय कुमार शूटिंग से थोड़ा फुर्सत मिलते ही, सभी को लेकर बाज़ी का खेल खेलने लगते हैं। वैसे यह बाजी का खेल पूरी तरह से शुद्ध नहीं होता है। इसमें रुपये-पैसे का दांव लगा होता है। अभी हाल ही में फिल्म ‘गुड न्यूज’ के सेट पर ऐसे ही कुछ घटना का जिक्र, इस फिल्म के को-स्टार दिलजीत दोसांज ने सुनाई। इस खेल के लिए बिल्कुल नए खिलाड़ी दिलजीत न जाने कैसे उनके ऐसे ही एक खेल के चक्कर में फंस गए। इसके बाद वह हार भी गए। इसके बाद दोस्तों से बाज़ी का रुपया वसूलने में भी उनका कोई जवाब नहीं है। वे उस व्यक्ति से पैसा वसूल ही लेते हैं। वैसे इस खेल से अलग देखें, तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि वह अपने दोस्तों के लिए कई मौके पर बेहद मददगार भी साबित हुए हैं।


Comments Off on सिल्वर स्क्रीन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.