सिल्वर स्क्रीन !    हेलो हाॅलीवुड !    साहित्यिक सिनेमा से मोहभंग !    एक्यूट इंसेफेलाइिटस सिंड्रोम से बच्चों को बचाएं !    चैनल चर्चा !    बेदम न कर दे दमा !    दिल को दुरुस्त रखेंगे ये योग !    कंट्रोवर्सी !    दुबला पतला रहना पसंद !    हिंदी फीचर फिल्म : फर्ज़ !    

सावन बरसे

Posted On July - 21 - 2019

झूम-झूम के बरसे सावन
उमड़-घुमड़ के गरजे सावन।
गांव-बस्ती पड़ गये झूले
याद आये जिनको भूले।
पकड़ रस्सी झूले की हाथ
आओ अम्बर को हम छू लें।
देख बिजलियां हरषे सावन
झूम-झूम के बरसे सावन।
निखरी अपनी धरती रानी
क्यारी-क्यारी लगे सुहानी।
जहां तलक भी नजरें जाएं
भरा हुआ बस पानी-पानी।
मेघों से मिल लरजे सावन
झूम-झूम के बरसे सावन।
मोर-पपीहा, नाचे-गाये
मेढक भी तो शोर मचाये।
लेकर हल खेतों में हलधर
मन ही मन बड़े हर्षाये।
गीत नये नित रचते सावन
झूम-झूम के बरसे सावन।

गोविंद भारद्वाज


Comments Off on सावन बरसे
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.