हरियाणा, महाराष्ट्र के कई सियासी दिग्गजों ने डाला वोट !    इस बार पहले से दोगुना होगा जीत का अंतर !    आजाद हिंद फौज के सेनानी का निधन !    त्योहारों के चलते 13 दिन बंद रहेगी लक्कड़ मंडी !    विधानसभा चुनाव तक जेनरेटर पर लगी पाबंदी हटी !    सीईटीपी पर ठोका एक करोड़ जुर्माना !    मौकों का फायदा नहीं उठाता तो कुछ भी हो सकता था: रोहित !    भाजपा को बने रहने, कांग्रेस को वापसी की उम्मीद !    पाक के 6-10 सैनिक, इतने ही आतंकी ढेर : सेना प्रमुख !    देश में गधों की संख्या हुई कम !    

भारत का विश्वकप का सपना चकनाचूर

Posted On July - 11 - 2019

मैनचेस्टर में बुधवार को न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध विश्वकप सेमीफाइनल मैच के दौरान दूसरा रन चुराने के चक्कर में सीधी थ्रो पर महेंद्र सिंह धोनी जैसे ही रनअाउट हुए, भारत की जीत की अाखिरी उम्मीद भी जाती रही। -एजेंसी

मैनचेस्टर, 10 जुलाई (भाषा)
रविंद्र जडेजा की आकर्षक पारी के बावजूद भारत के शीर्ष क्रम की नाकामी के कारण विश्वकप सेमीफाइनल में हार से उसका सफर भी समाप्त हो गया। भारत के सामने 240 रन का लक्ष्य था लेकिन शीर्ष क्रम बुरी तरह लड़खड़ा गया मगर जडेजा और महेंद्र सिंह धोनी ने 7वें विकेट के लिये 116 रन जोड़कर मैच को आखिर तक जीवंत बनाये रखा। भारत ने अाखिरी 4 विकेट 13 रन के अंदर गंवा दिये और इस तरह से न्यूजीलैंड लगातार दूसरी बार फाइनल में जगह बनाने में सफल रहा। वहीं कार्तिक के आउट होते ही भारत का स्कोर 10 ओवर में 4 विकेट पर 24 रन हो गया। यह वर्तमान विश्व कप में पहले पावरप्ले में किसी भी टीम का न्यूनतम स्कोर है। न्यूजीलैंड ने इस मैच में एक विकेट पर 27 रन बनाये थे।गेंदबाजों ने शुरू में सीम और स्विंग का बेहतरीन इस्तेमाल करके भारतीयों को परेशानी में डाला। हेनरी की आउटस्विंगर रोहित के बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर टॉम लैथम के दस्तानों में समायी। बोल्ट ने कोहली को पगबाधा आउट किया और डीआरएस भी भारतीय कप्तान के पक्ष में नहीं गया। हेनरी ने अगले ओवर में कोण लेती गेंद पर राहुल को विकेट के पीछे कैच कराया। कार्तिक ने 21वीं गेंद पर खाता खोला लेकिन हेनरी की गेंद को कदमों का इस्तेमाल किये बिना खेलना उन्हें भारी पड़ा। जेम्स नीशाम ने प्वाइंट पर डाइव लगाकर उनका बेहतरीन कैच लपका। डेजा ने 33वें ओवर में नीशाम पर छक्का जड़कर टीम का स्कोर तिहरे अंक में पहुंचाया। इसके बाद भी उनकी टाइमिंग शानदार थी और उनके निशाने पर सैंटनर ही थे। उन्होंने इसके बाद इस स्पिनर दो और छक्के लगाकर भारतीय दर्शकों में जान भर दी। वह एक छोर से स्कोर बोर्ड को चलायमान रखकर गेंद और रन के बीच का अंतर कम करते रहे। जडेजा के आक्रामक तेवरों के सामने न्यूजीलैंड के गेंदबाजों की लाइन व लेंथ भी गड़बड़ा गयी। जडेजा ने 39 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया जो विश्व कप नाकआउट मैच में भारत के आठवें नंबर के बल्लेबाज का पहला पचासा है। धोनी ने जडेजा को खुलकर खेलने की छूट दी और दूसरे छोर से क्रीज संभाले रखी। जडेजा ने लॉकी फर्गुसन पर छक्का लगाया। भारत को आखिरी पांच ओवरों में 52 रन की दरकार थी और ऐसे में बोल्ट ने गेंद थामी। जडेजा ने उन पर चौका जमाया। हेनरी के अगले ओवर में हालांकि पांच रन बने, लेकिन जडेजा ने 48वें ओवर में बोल्ट की गेंद पर लंबा शाट खेलने के प्रयास में मिड आफ पर कैच दे दिया। जडेजा ने अपनी पारी में चार चौके और इतने ही छक्के लगाये।
इससे पहले रिजर्व दिन खेले जा रहे सेमीफाइनल में जडेजा ने डीप मिडविकेट से थ्रो करके रोस टेलर को आउट किया।
आखिरी 2 ओवरों में चाहिए थे 31 रन
भारत को आखिरी 2 ओवरों में 31 रन चाहिए थे। धोनी ने फर्गुसन की पहली गेंद छक्के के लिये भेजी, लेकिन तेजी से दो रन चुराने के प्रयास में मार्टिन गुप्टिल के सीधे थ्रो पर रन आउट हो गये। विकेटों के बीच सबसे बेहतरीन दौड़ के लिये मशहूर धोनी अपने करियर के शुरू में भी रन आउट हुए थे। इसके बाद भारतीय पारी सिमटने में देर नहीं लगी।
पंत का बचकाना शाॅट, नाराज़ दिखे विराट
पंत 32 रन पर बचकाना शॉट खेलकर पवेलियन लौटे। यहां तक कि कोहली भी उनके इस शाट पर बेहद नाराज दिखे जिस पर उन्होंने मिडविकेट पर खड़े कोलिन डि ग्रैंडहोम को कैच का अभ्यास कराया। सैंटनर की पहली 4 गेंद चूकने के बाद पांचवीं गेंद को उन्होंने स्वीप किया था। इससे पहले भी पंत दबाव में ऐसे शॉट खेलते रहे हैं जो उनका विश्वकप की शुरुआती टीम से बाहर होने का प्रमुख कारण भी रहा। धोनी से ऊपर उतारे गये पंड्या ने भी पंत की गलती दोहरायी। वह भी खुद पर संयम नहीं रख पाये। सैंटनर की सीधी गेंद पर स्लॉग स्वीप खेलना उन्हें महंगा पड़ा जो बल्ले का किनारा लेकर हवा में लहरा गयी और केन विलियमसन ने उसे कैच करने में गलती नहीं की।
45 मिनट के खराब खेल से सारी मेहनत पर पानी फिरा : कोहली
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार के लिये शीर्ष क्रम की नाकामी को ही जिम्मेदार ठहराया और कहा कि 45 मिनट के खराब खेल के कारण टूर्नामेंट में शुरू से की गयी कड़ी मेहनत पर पानी फिर गया। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘जब आप पूरे टूर्नामेंट में अच्छा खेलते हो और फिर 45 मिनट की खराब क्रिकेट के कारण बाहर हो जाते हो तो बहुत बुरा लगता है। इसे पचा पाना मुश्किल है लेकिन न्यूजीलैंड को श्रेय जाता है।’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने बहुत अच्छी गेंदबाजी की। हमारे सामने जो लक्ष्य था उसे हासिल किया जा सकता था लेकिन पहले आधे घंटे में उन्होंने जिस तरह से गेंदबाजी की उससे अंतर पैदा किया। न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को श्रेय जाता है।’ कोहली ने भारतीय गेंदबाजों तथा जडेजा और धोनी की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते थे कि कल का दिन हमारे लिये अच्छा था और हमें उस पर गर्व है। जडेजा ने पिछले दो मैचों में शानदार प्रदर्शन किया। वह बेहद स्पष्ट रवैये के साथ क्रीज पर उतरा था। धोनी के साथ उसने अच्छी साझेदारी निभायी।’ कोहली ने कहा, ‘‘शाट का हमारा चयन बेहतर हो सकता था।’ न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने कहा कि यह बेहतरीन मैच था जिसमें उनकी टीम की भारत को दबाव में रखने की रणनीति में सफल रही। विलियमसन ने स्वीकार किया कि जडेजा और धोनी ने एक बार उनकी टीम को चिंता में डाल दिया था। उन्होंने कहा, ‘‘जिस तरह से जडेजा और धोनी गेंद को हिट कर रहे थे वे जीत भी सकते थे।’
स्कोरबोर्ड
न्यूजीलैंड : गुप्टिल का कोहली बो बुमराह 1, निकोल्स बो जडेजा 28, विलियमसन का जडेजा बो चहल 67, टेलर रन आउट 74, नीशाम का कार्तिक बो पंड्या 12, ग्रांडहोमे का धोनी बो कुमार 16, लाथम का जडेजा बो कुमार 10, सैंटनेर नाबाद 9, मैट हेनरी का कोहली बो कुमार 1,ट्रेंट बोल्ट नाबाद 3, अतिरिक्त : 18 रन, कुल : 50 ओवर में 8 विकेट पर 239 रन, विकेट पतन : 1-1, 2-69, 3-134, 4-162, 5-200, 6-225, 7-225, 8-232, गेंदबाजी : कुमार 10-1-43-3, बुमराह 10-1-39-1, पंड्या 10-0-55-1, जडेजा 10-0-34-1, चहल 10-0-63-1.
भारत : केएल राहुल का लैथम बो हेनरी 1, रोहित का लैथम बो हेनरी 1, कोहली पगबाधा बो बोल्ट 1, पंत का ग्रैंडहोम बो सैंटनर 32, दिनेश कार्तिक का नीशाम बो हेनरी 6, पंड्या का विलियमसन बो सैंटनर 32, धोनी रन आउट 50, जडेजा का विलियमसन बो बोल्ट 77, भुवनेश्वर बो फर्गुसन 0, युजवेंद्र चहल का लैथम बो नीशाम 5, जसप्रीत बुमराह नाबाद 0, अतिरिक्त 16, कुल (49.3 ओवर में, सभी आउट) 221,
विकेट पतन : 1-4, 2-5, 3-5, 4-24, 5-71, 6-92, 7-208, 8-216, 9-217, गेंदबाजी : बोल्ट 10-2-42-2, हेनरी 10-1-37-3, फर्गुसन 10-0-43-1, ग्रैंडहोम 2-0-13-0, नीशाम 7.3-0-49-1, सैंटनर 10-2-34-2.


Comments Off on भारत का विश्वकप का सपना चकनाचूर
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.