आधी आबादी में उत्साह घूंघट के साथ मतदान !    नाबालिग से रेप के मुख्य आरोपी को भेजा जेल !    कर्णी सिंह रेंज पर भिड़े निशानेबाज !    विवाहिता की मौत सास-ससुर और पति गिरफ्तार !    पंजाब में 70, हिमाचल में 69 फीसदी मतदान !    देश के लिए जेल गए थे सावरकर, मोदी की तारीफ !    संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से, हंगामे के आसार !    2 पर ढाई लाख का इनाम !    परिणामों पर विचार के बाद दें फैसला !    देशभर में बैंकों की आज हड़ताल !    

पाकिस्तान ने एसजीपीसी से निकाले खालिस्तान समर्थक

Posted On July - 14 - 2019

वरिंदर सिंह/ट्रिन्यू
जालंधर, 13 जुलाई
भारत-पाक के बीच करतारपुर गलियारे को लेकर रविवार को होने वाली वार्ता से एक दिन पहले शनिवार को इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान सरकार ने पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीएसजीपीसी) से खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला समेत अन्य को निकाल बाहर कर दिया है। भारत ने पाकिस्तान में सिखों की धार्मिक संस्थाओं में खालिस्तान समर्थकों को शामिल करने पर कई बार आपत्ति और चिंता व्यक्त की थी।
आज होने वाली वार्ता का मकसद करतारपुर काॅरिडोर मामले में आने वाली छोटी व तकनीकी स्तर की बाधाओं का समाधान करना है। पाकिस्तान द्वारा पुनर्गठित पीएसजीपीसी के पदाधिकारियों की सूची में अब खालिस्तान समर्थक नेताओं तारा सिंह, बिसन सिंह, कुलजीत सिंह और मनिंदर सिंह में से किसी का नाम नहीं है।
गोपाल सिंह चावला के मामले में भारत की प्रमुख आपत्ति थी कि वह जमात-उद-दावा के मुखिया हाफिज सईद का नजदीकी है तथा पाकिस्तान के गुरुद्वारों का भारत विरोधी गतिविधियों को बढ़ावा देने में इस्तेमाल करता था। पिछले साल भी चावला ने लाहौर स्िथत गुरुद्वारा में पहुंची भारतीय सिख संगत से भारतीय अधिकारियों को मिलने से रोक दिया था। तब भारत में इसकी कड़ी प्रतिक्रिया सामने आयी थी। वहीं अमृतसर में पिछले नवंबर में निरंकारी भवन पर हुए ग्रेनेड अटैक के मामले में भी जांच के बाद उसका नाम सामने आया था। उस हादसे में 3 लोग मारे गये थे।
बता दें कि काॅरिडोर मामले में बातचीत को लेकर इमरान खान सरकार को इस बात का पूरा अहसास हो गया था कि खालिस्तान समर्थकों का नाजुक मसला 14 जुलाई की बैठक में वार्ता में उठ सकता है तथा बाधा की वजह बन सकता है। भारत ने खालिस्तान समर्थकों को लेकर पहले ही पाक को स्पष्ट कर दिया था कि देश की सुरक्षा चिंताओं का निवारण यकीनी होने पर ही बातचीत आगे बढ़ सकती है। पूर्व में 2 अप्रैल को होने वाली बातचीत इस वजह से रुक गयी थी।
चावला व अन्य खालिस्तान समर्थकों को पीएसजीपीसी से बाहर का रास्ता दिखाने के बाद काॅरिडोर पर बातचीत में प्रमुख बाधा अब दूर हो गयी है। हालांकि, करतारपुर गलियारे संबंधी यात्रा को सुचारु बनाने के लिए दोनों पक्षों को अभी कई मुद्दों पर फैसले लेने हैं। तभी इस साल नवंबर में गुरु नानक देव का 550वां प्रकाश पर्व सीमा पार के गुरुद्वारे दरबार साहिब में संयुक्त तौर पर मनाना संभव होगा।

और भी मुद्दों पर बननी है सहमति
करतारपुर काॅरिडोर को लेकर भारत-पाक वार्ता में अभी रास्ते को सुगम बनाने का मुद्दा अहम होगा। भारत रास्ते में पड़ती एक बरसाती नदी पर पुल बनाना चाहता है। उस पर पाक का रुख थोड़ा अलग है। वहीं प्रतिदिन कितने यात्रियों को सीमा पार करतारपुर में दर्शन करने की अनुमति होगी इस पर भी अभी सहमति नहीं बनी है। पाकिस्तान केवल 700 श्रद्धालुओं पर हामी भर रहा है जबकि भारत प्रतिदिन 5000 यात्री भेजना चाहता है।


Comments Off on पाकिस्तान ने एसजीपीसी से निकाले खालिस्तान समर्थक
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.