बच्चों की जगह रोबोट भी जा सकेगा स्कूल !    क्रिसमस की टेस्टी डिशेज़ !    खुद से पहले दूसरों की सोचें !    आ गई समझ !    अवसाद के दौर को समझिये !    बच्चों को ये खेल भी सिखाएं !    नानाजी का इनाम !    निर्माण के दौरान नहीं उड़ा सकते धूल !    घर में सुख-समृद्धि की हरियाली !    सीता को मुंहदिखाई में मिला था कनक मंडप !    

नई सोच नयी राह

Posted On July - 13 - 2019

सामाजिक विकास की नीतियों यानी पब्लिक पॉलिसी में करिअर को अब तक कम ही युवा तरजीह देते आए हैं। पब्लिक पॉलिसी में करिअर उन्हीं लोगों के लिए है जो अपने आसपास की दुनिया बदलना चाहते हैं। मौजूदा दौर में कॉरपोरेट समूहों से लेकर स्टार्टअप्स तक में पब्लिक पॉलिसी विशेषज्ञों की ज़रूरत होती है और यहां उन्हें जॉब्स के भरपूर मौके मिल रहे हैं। ये विशेषज्ञ राजनीति, प्रबंधन, कानून के अलावा विज्ञान के क्षेत्रों में किसी न किसी रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इस क्षेत्र में महारत हासिल करने वाले युवाओं की सेवाएं केवल गैर-सरकारी संगठन ही नहीं, बल्कि सरकार भी ले रही है। एक अनुमान के मुताबिक आने वाले समय में शहरी और ग्रामीण योजनाओं में केन्द्र और राज्य सरकारों को पब्लिक पॉलिसी वैज्ञानिकों की ज़रूरत बड़े पैमाने पर होगी। पब्लिक पॉलिसी विशेषज्ञों की जरूरत केवल निजी, सरकारी, अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों को ही नहीं, बल्कि सरकारी कार्यक्रमों को भी है। सिविल सेवा से अलग युवाओं का चयन सरकार अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों में भी कर रही है, ताकि वे आज की चुनौतियों से लड़ने में मदद कर सकें। पब्लिक पॉलिसी में शामिल संस्थानों की मदद सरकारी स्तर पर भी ली जा रही है।
कैसे करते हैं काम
पब्लिक पॉलिसी से जुड़े पेशेवर मात्रात्मक विश्लेषण, अर्थशास्त्र, वित्त, प्रबंधन कौशल समेत रोजगार के क्षेत्र से जुड़ी वैश्विक चुनौतियों के समाधान निकालने की कोशिश करते हैं। फिर चाहे वह स्थानीय समुदाय हो या समाज; सार्वजनिक नीति में करिअर उन लोगों के लिए सही है, जो कुछ बदलने का माद्दा रखते हैं। कुछ सरकारी कार्यक्रमों—डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया की सार्वजनिक नीतियां भी युवाओं को आकर्षित कर रही हैं। लिहाज़ा बहुत से छात्र इनमें रुचि दिखाने लगे हैं। बढ़ती गरीबी, हिंसा, बेरोज़गारी, स्वास्थ्य की खराब स्थितियों सहित बुनियादी सुविधाओं के अभाव का समाधान अब पब्लिक पॉलिसी में महारत हासिल करने वाले भी करेंगे। देश में बेहतर बदलाव लाने की चाह से ही इसमें करिअर की संभावनाएं देखी जा सकती हैं।
ऐसे करें एंट्री
पब्लिक पॉलिसी में महारत लेने के लिए सामाजिक विज्ञान, राजनीतिक विज्ञान, मनोविज्ञान, इतिहास और कानून सहित और भी कई विषयों के अध्ययन की जरूरत पड़ती है। विषय की जटिलता को समझना होता है। युवाओं को देश के सामने मौजूद चुनौतियों से भली-भांति परिचित होना होता है। इसमें पुरानी आर्थिक नीतियों, पर्यावरण, राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मामलों की समझ भी ज़रूरी है। पब्लिक पॉलिसी पर सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और डिग्री स्तर के कोर्स देश के कई संस्थानों में कराए जा रहे हैं। अधिकतर संस्थान इसमें दो वर्षीय मास्टर्स इन पब्लिक पॉलिसी कोर्स कराते हैं। मास्टर इन पब्लिक पॉलिसी एंड पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन भी एक कोर्स है। किसी भी विषय से ग्रेजुएट छात्र कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। कई संस्थानों में मेरिट के आधार पर एंट्री होती है। इसमें पीएचडी कर सकते हैं, फेलोशिप मिल सकती है।
इन विषयों की पढ़ाई
कोर्स के दौरान लॉ, गवर्नेंस, पब्लिक पॉलिसी मेकिंग, स्टैटिस्टिकल डेटा एनालिसिस, इकोनॉमिक्स ऑफ पब्लिक पॉलिसी, एकेडेमिक राइटिंग, क्वालिटेटिव रिसर्च और कई दूसरे विषय पढ़ाये जाते हैं। कोर्स के दौरान मैनेजमेंट स्किल्स, डेमोक्रेटिक वैल्यूज़ पर भी फोकस होता है। विषय पर मजबूत पकड़ होना ज़रूरी है। समस्याओं और चुनौतियों को समझने व उनके समाधान को तलाशने का साहस और धैर्य भी चाहिए।
नौकरी के मौके
इस विषय में प्रशिक्षण के बाद मुख्य रूप से केंद्र और राज्य सरकारों की नीति-निर्माण से जुड़ी संस्थाओं, स्थानीय निकायों, बड़े उद्योगों, बैंकिंग सेक्टर, रेलवे, डिफेन्स व निजी क्षेत्र से संबंधित संगठनों आदि में नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। विशेषज्ञ युवाओं को रिसर्च एसोसिएट, पॉलिसी एनालिस्ट, पब्लिक अफेयर्स मैनेजर, स्टैटिस्टिशियन जैसे पद मिलते हैं। वे रिसर्च-डेवलेपमेंट और टीचिंग से जुड़ सकता है, स्वतंत्र शोध संस्थानों व नीतिकारों के पैनल का हिस्सा बन सकता है। कई स्वतंत्र शोध संस्थान शोध-कार्य में कुशल युवाओं को मौका देते हैं।
चुनौतियां
इससे जुड़े पेशेवरों को हमेशा परिस्थितियों, आर्थिक सूचकों व अन्य परिवर्तनों पर पैनी नज़र रखनी पड़ती है।
* राजनेताओं, उच्च प्रशासनिक अधिकारियों व अनुभवी नीति-निर्माताओं के साथ मिलकर काम करने के लिए धैर्य, प्रभावी संवाद, तर्कसंगत तरीके से अपने विचार प्रस्तुत करने की योग्यता की मांग होती है। रिपोर्ट तैयार करते समय उसके एक-एक शब्द के प्रभाव के बारे में परिचित होना पड़ता है।
संस्थान
* जामिया मिल्लिया इस्लामिया,जामिया नगर, ओखला, नयी दिल्ली-110025
* इग्नू, 93, मैदान गढ़ी, नयी दिल्ली-110068
* सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ जम्मू, राहया सुचानी (बागला), जिला सांबा, पिन-181143
* मुंबई विश्वविद्यालय, सीएसटी रोड, कोलिवरी गांव, विद्यानगरी, कलना, सांताक्रूज़ ईस्ट मुंबई, महाराष्ट्र-400098.


Comments Off on नई सोच नयी राह
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.