कांग्रेस की हल्ला बोल पदयात्रा शुरू !    देवभूमि उत्तराखंड सेवा समिति ने पार्कों में रोपे पौधे !    राहगीरी शहर को हरा-भरा बनाने का आह्वान !    अनाथ आश्रम को दिया इन्वर्टर, पाठन सामग्री, कपड़े व राशन !    प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग में बनायें करिअर !    अटारी हेरोइन मामला : मुख्य आरोपी की जेल में मौत, बवाल !    अमृतसर में हवालात में बंद युवक ने लगाया फंदा !    चीन ‘विश्व सैन्य खेल’ की मेजबानी को तैयार !    चुनाव में निकाल देगी जनता खट्टर सरकार का अहं और वहम : रणदीप सुरजेवाला !    केंद्र तमिलनाडु में हिंदी नहीं थोप रहा : सीतारमण !    

धरने पर बैठे किसानों के साथ महिलाओं ने भी संभाला मोर्चा

Posted On July - 12 - 2019

चरखी दादरी के गांव रामनगर में बृहस्पतिवार को प्रदर्शन करती महिलाएं। -निस

चरखी दादरी, 11 जुलाई (निस)
नारनौल से गंगाहेड़ी तक निकलने वाले ग्रीन काॅरिडोर नेशनल हाईवे-152 डी की अधीग्रहीत जमीन के संशोधित रेटों के बावजूद उचित मुआवजा नहीं मिलने से खफा किसानों ने बृहस्पतिवार को प्रदर्शन किया। इस दौरान महिलाएं भी प्रदर्शन में पहुंचीं। इस दौरान महिलाओं ने कहा कि 13 जुलाई को वे दादरी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री का विरोध करेंगी। गांव ढाणी फौगाट में धरने पर बैठे किसान भी सीएम के विरोध में आएंगे।
चरखी दादरी जिले के 17 गांवों के किसानों का गांव रामनगर व ढाणी फौगाट में धरना चल रहा है। दोनों धरनों पर किसानों द्वारा मुआवजा वृद्धि की मांग की जा रही है। गांव रामनगर में धरने पर किसानों के साथ महिलाएं भी पहुंचीं। धरने की अगुवाई करते हुए महिलाओं ने कहा कि सरकार किसानों को बर्बाद करने पर तुली है। उन्होंने कहा कि सरकार ने वादा करने के बाद किसानों के साथ धोखा किया है। महिलाएं अगुवाई करते हुए 13 जुलाई को सीएम का विरोध करेंगी। उधर, गांव ढाणी फौगाट में धरने पर बैठे किसानों ने भी सीएम का विरोध करने पर रणनीति बनाई और एकजुट होकर विरोध करने का फैसला लिया। धरने पर विनोद मोड़ी, अनूप खातीवास, शांति देवी, सावित्री, संतोष, राजो, शर्मिला, पूनम, राजीव रामनगर, सुखवंत सिंह, मंदीप सरपंच उपस्थित थे।

एचएसवीपी को नहीं मिला कब्जा
सोनीपत (हप्र) : एचएसवीपी की टीम बृहस्पतिवार को नांगल कलां गांव में एचएसआईआईडीसी की अधिग्रहित जमीन का कब्जा लेने के लिए गई थी, जहां किसानों ने टीम का विरोध किया और सुप्रीमकोर्ट में लगाई याचिका का हवाला दिया। इससे अधिकारियों के साथ ड्यूटी मजिस्ट्रेट और पुलिस की टीम को बैरंग लौटना पड़ा। इधर, किसानों ने विभाग पर आरोप लगाया कि वह कोर्ट के आदेश के खिलाफ उनकी जमीन पर कब्जा लेने का प्रयास कर रहा था। नांगल कलां गांव की 55 एकड़ जमीन का एचएसआईआईडीसी ने रोड बनाने के लिए अधिग्रहण किया था। इसमें उन्होंने जिस जमीन को सेक्टर-58-59 के लिए अधिग्रहण किया था, उसके लिए किसानों ने कोर्ट की शरण ले ली और विभाग के खिलाफ सुप्रीमकोर्ट में याचिका दायर कर दी। महिला किसान सुनीता का भी हाईकोर्ट में केस चल रहा था। इसका फैसला 3 जुलाई को विभाग के पक्ष में आ गया। हाईकोर्ट के फैसले पर बृहस्पतिवार को ड्यूटी मजिस्ट्रेट हवा सिंह भांबू, एचएसवीपी के एसडीओ देवेंद्र मलिक, एसएचओ रविंद्र कुमार जेसीबी मशीन लेकर जमीन पर कब्जा लेने के लिए पहुंचे, जहां किसानों ने एचएसवीपी की टीम का विरोध किया और दावा पेश किया। एसडीओ देवेंद्र मलिक ने कहा कि वे हाईकोर्ट के आदेश पर कब्जा लेने आए हैं।


Comments Off on धरने पर बैठे किसानों के साथ महिलाओं ने भी संभाला मोर्चा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.