दोस्ती में समझदारी भी ज़रूरी !    सहयोगियों की कार्यक्षमता को समझें !    आज का एकलव्य !    सुडोकू से बढ़ाएं बच्चों की एकाग्रता !    विद्यालय जाने की खुशी !    तंग नज़रिये की फूहड़ता !    इनसान से एक कदम आगे टेक्नोलॉजी !    महिलाएं भी कर सकती हैं श्राद्ध! !    आध्यात्मिक यात्रा में सहायक मुद्राएं !    उपवास के लिए साबूदाना व्यंजन !    

कमाई भी तरक्की भी

Posted On July - 13 - 2019

नये दौर में नये तरह के कोर्स चलन में हैं। बहुत ज्यादा पढ़ाई कर एकेडेमिक में जो युवा नहीं जाना चाहते, वे ग्रेजुएशन के बाद ऐसे प्रोफेशन का रुख कर रहे हैं, जहां कम वक्त में तरक्की भी हो, पैकेज भी शानदार हो। ऐसे ही कुछ नये ज़माने के कोर्स के बारे में हम आपको बता रहे हैं।
रिलेशनशिप थेरेपिस्ट
क्वालिफिकेशन : कम से कम ग्रेजुएट
सैलरी : 30 हजार से 1 लाख रुपए तक प्रति माह
भारत में इस जॉब की शुरुआत कुछ ही साल पहले हुई है, इसलिए इस सेक्टर में बहुत से मौके हैं। रिलेशनशिप थेरेपिस्ट का काम है कपल्स के रिलेशनशिप को बेहतर तरीके से चलाने के लिए टिप्स देना। रिलेशनशिप में दरार है या रिश्ते टूटने के कगार पर हैं तो इनकी मरम्मत करने में, कड़वाहट कम करने में यही थेरेपिस्ट मदद करते हैं। भारत में यह क्षेत्र जॉब्स के लिये नया है लेकिन पश्चिमी देशों में रिलेशनशिप थेरेपिस्ट का प्रोफेशन खूब चलन में हैं।
एप डेवलपर
क्वालिफिकेशन: कम से कम ग्रेजुएट और एप डेवलपमेंट का कोर्स किया हो।
सैलरी : 50 हजार से 5 लाख रुपए तक प्रति माह
टेक्नॉलॉजी की दुनिया में एप डेवेलपर की मांग हर दिन बढ़ रही है। आये दिन हर नई कंपनी अपना एप लॉन्च कर रही हैं और उस एप से जुड़ी हर तरह की जानकारियां एप डेवेलपर के पास रहती है। यह ऐसा सेक्टर है जहां कमाई के बहुत मौके हैं। सैलरी भी उम्मीद से ज्यादा मिल सकती है।
सोशल मीडिया मैनेजर
क्वालिफिकेशन : कम से कम ग्रेजुएट
सैलरी : 30 हजार से 3 लाख रुपए तक प्रति माह
वर्तमान दौर में सोशल मीडिया का क्रेज ज़बरदस्त है। ऐसे में कंपनियां भी सोशल मीडिया पर सक्रिय रहना चाहती हैं और अपनी कंपनी के प्रचार-प्रसार के लिए अलग से टीम हायर करती हैं। इस टीम को जो हैंडल करता है वह सोशल मीडिया मैनेजर होता हैं। यह सोशल मीडिया पर कंपनी के रेपुटेशन को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं।
एसईओ एनालिस्ट
क्वालिफिकेशन : कम से कम ग्रेजुएट
सैलरी : 30 हजार से 1 लाख रुपए तक प्रति माह
सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ) की बड़ी डिमांड है। किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की सफलता के लिए एसईओ अहम प्रक्रिया है। एसईओ का इस्तेमाल करके कोई भी वेबसाइट सर्च इंजन जैसे गूगल, याहू आदि में पहले पेज पर दिखती है। यहां एनालिस्ट के करिअर में बहुत स्कोप है।
टेक्नीकल राइटर
क्वालिफिकेशन : कम से कम ग्रेजुएट
सैलरी : 50 हजार से 1.7 लाख रुपए तक प्रति माह
राइटर और कंटेंट राइटर के बारे में तो आपने सुना ही होगा, लेकिन टेक्नीकल राइटर इन सबसे बिल्कुल अलग हैं। हालांकि, टेक्नीकल राइटर काम भी लिखना होता है लेकिन इनका फोकस आईटी फर्म और उनकी टेक्नोलॉजी से जुड़ा होता है या फिर वह प्रोग्रामिंग कंपनी के लिए काम करते हैं। टेक्नीकल राइटर के लिए एडॉब, ऑरेकल और इससे जुड़े ब्रांड की जानकारी रखना बेहद ज़रूरी है।


Comments Off on कमाई भी तरक्की भी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.