किशोर ने 6 वर्षीय बच्चे के साथ किया कुकर्म !    स्थानांतरण नीति को लेकर अध्यापक संघ का प्रदर्शन !    सड़क सुरक्षा समिति बैठक में छाया रहा पार्किंग का मुद्दा !    इनेलो, कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल !    शहीदों के जीवन पर प्रदर्शनी लगायेगी कांबोज सभा !    इंडिया कबड्डी टीम का कैप्टन बना अमरजीत !    एकदा !    खेड़ी गंडिया में 2 बच्चे अगवा! !    प्रशासन ने सुखना लेक को घोषित किया वैटलैंड !    सीबीआई कोर्ट का पंजाब सरकार को क्लोजर रिपोर्ट देने से इनकार !    

एकदा

Posted On July - 11 - 2019

मनोवैज्ञानिक उपचार
डॉ. सिमोन ब्राजील के बहुत ही अनुभवी डॉक्टर थे। वह असाध्य बीमारियों के अलावा मानसिक समस्याओं का समाधान भी बखूबी करते थे। वह भांप लेते थे कि किस मरीज का किस पद्धति से इलाज करना है। एक दिन उनका ड्राइवर उनके पास अपने एक रिश्तेदार जीमर को लेकर आया। जीमर को शराब की लत थी। डॉ. सिमोन को उसने बताया कि वह शराब छोड़ना तो चाहता है पर चाहकर भी नहीं छोड़ पा रहा है। जब रोज शाम को उसे तलब लगती है तो वह शराब के लिए पागल हो उठता है। सिमोन समझ गए कि यह शराबी कोरे उपदेशों से या जबरदस्ती शराब छोड़ने वाला नहीं है। वह अंदर जाकर रंगीन पत्थरों के छोटे-छोटे टुकड़े ले आए और जीमर को देते हुए बोले-देखो, आज से गिलास में शराब डालने से पहले इनमें से एक पत्थर उसमें डाल लेना। इसी तरह हर रोज एक-एक पत्थर बढ़ाते रहना। इन पत्थरों के प्रभाव से तुम्हारे नशे की आदत कम होते-होते एक दिन पूरी तरह समाप्त हो जाएगी। जीमर ने वैसा ही किया। दिनोंदिन उसके गिलास में पत्थर बढ़ते रहे और शराब कम होती रही। एक वक्त ऐसा भी आया कि शराब में उसकी रुचि ही समाप्त हो गई। जीमर जान भी नहीं पाया कि शराब छुड़ाने में पत्थरों ने नहीं, सिमोन की मनोवैज्ञानिक युक्ति ने कमाल दिखाया था।
प्रस्तुति : सुभाष बुड़ावनवाला


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.