चुनाव आयोग की हिदायतों का असर : खट्टर सरकार ने बदले 14 शहरों के एसडीएम !    अस्पताल में भ्रूण लिंग जांच का भंडाफोड़ !    यमुना का सीना चीर नदी के बीचोंबीच हो रहा अवैध खनन !    जाकिर हुसैन समेत 4 हस्तियों को संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप !    स्टोक्स को मिल सकती है ‘नाइटहुड’ की उपाधि !    ब्रिटेन में पहली बार 2 आदिवासी नृत्य !    मानहानि का मुकदमा जीते गेल !    शिमला में असुरक्षित भवनों का निरीक्षण शुरू !    पीओके में बाढ़ का कहर, 28 की मौत !    कांग्रेस ने लोकसभा से किया वाकआउट !    

17वीं लोकसभा: गरीब देश के अमीर रहनुमा

Posted On June - 3 - 2019

हरीश लखेड़ा

नये और युवा चेहरों में गौतम गंभीर भी।

दिन चली चुनाव प्रक्रिया के बाद देश ने 17वीं लोकसभा के लिए अपने 542 प्रतिनिधियों का चुनाव कर लिया है। संसद के निचले सदन लोकसभा के ये सदस्य अगले 5 साल तक जनता का प्रतिनिधित्व करेंगे। उनके लिए कानून बनाएंगे, उनके मुद्दे और समस्याएं संसद में उठाएंगे। नवनिर्वाचित सांसदों को 17 जून से 19 जून तक शपथ दिलाई जाएगी। लोकसभा में इस बार सदन का नजारा बदला-बदला सा है। इस बार, 265 सांसद पहली बार संसद पहुंचे हैं, इसलिए सदन में पुराने की तुलना में नये चेहरे ज्यादा दिखेंगे। हालांकि, हर बार एक तिहाई सांसद दोबारा लोकसभा नहीं पहुंच पाते। इस बार सदन में पिछली बार से ज्यादा सत्ता पक्ष के सदस्य दिखेंगे। यानी सदन की 64.45 फीसदी सीटों पर सत्ता पक्ष के लोग विराजमान रहेंगे। आजादी के बाद पहली बार सबसे ज्यादा महिला सांसद लोकसभा में दिखेंगी। लोकसभा में सदन की पहली पंक्ति पर विराजमान होने वाले कई बुजुर्ग नेता अब नहीं दिखेंगे।
हालांकि, प्रधानमंत्री और विपक्ष के नेता को लेकर स्थिति पहले जैसी ही है। इस बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही हैं और विपक्ष के नेता का पद शायद ही कांग्रेस को मिल पाए। कांग्रेस विपक्ष का नेता पद पाने के लिए सदन के कुल सदस्य संख्या का 10 फीसदी सांसद लाने में नाकाम रही है। कांग्रेस के 52 सांसद हैं। लोकसभा में नेता विपक्ष का पद पाने के लिए सांसदों की संख्या 54 होनी चाहिए।
यह पहली बार है, जब लोकसभा में सबसे ज्यादा 78 महिलाएं सदन में दिखेंगी। इसमें ओडिशा से 21 सांसदों में से 7 महिला सांसद हैं। इनमें बीजू जनता दल (बीजेडी) की 5 और भाजपा की 2 सांसद शामिल हैं। इनमें भाजपा सासंद अपराजिता सारंगी आईएएस रही हैं, जबकि बीजेडी की प्रमिला बिसोई मात्र कक्षा 5 तक पढ़ीं हैं। वे खेती करती रही हैं। केरल से कांग्रेस सासंद रेम्या हरिदास टैलेंट हंट विजेता रही हैं। वे एक मजदूर की बेटी हैं। विवादित साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर भी भाजपा की महिला सांसदों में शामिल हैं। 16वीं लोकसभा में 62 महिलाएं सासंद बनी थीं। पंचायतों और स्थानीय निकायों में महिलाओं को आरक्षण मिलने से 33 फीसदी महिलाएं इनमें चुनकर आती हैं, लेकिन विधानसभा और संसद में ऐसा नहीं हो पाया है। इस बार भले ही सबसे ज्यादा महिलाएं सांसद बनी हों, लेकिन यह आंकड़ा कुल सांसदों की संख्या का मात्र 14.39 फीसदी है। हमारे देश में महिला सांसदों का औसत कई देशों से कम है। दक्षिण अफ्रीका में 43 फीसदी, ब्रिटेन में 32 फीसदी, अमेरिका में 24 फीसदी, बांग्लादेश में 21 फीसदी और रवांडा में 61 फीसदी महिला सांसद हैं। 3 आईपीएस और एक आईएएस और 2 प्रोफेसर भी लोकसभा पहुंचे हैं। सदन में 19 वकील चुनकर आए हैं। नवनिर्वाचित सांसदों में से 40 ने खुद को व्यवसायी, 50 ने समाजसेवी, 66 ने किसान, 20 ने राजनीतिक व सामाजिक कार्यकर्ता, 13 ने मेडिकल प्रैक्टिशनर, 5 ने उद्योगपति बताया है।
17वीं लोकसभा में सांसदों की औसत उम्र 54 साल है। पिछली लोकसभा के मुकाबले यह दो साल कम है। 16वीं लोकसभा सांसदों की औसत उम्र 56 साल थी। उम्र के हिसाब से इस बार 25 साल की चंद्राणी मुर्मू सबसे युवा सांसद हैं, जबकि 89 साल के डॉ. शफिकुर रहमान बर्क सबसे ज्यादा उम्र के सांसद हैं। चंद्राणी ओडिशा के क्योंझर लोकसभा क्षेत्र से बीजेडी के टिकट पर चुनकर आई हैं, जबकि शफिकुर उत्तर प्रदेश के संभल से समाजवादी पार्टी के टिकट पर लोकसभा पहुंचे हैं। मुर्मू की तरह पश्चिम बंगाल की बशीरहाट सीट से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सांसद अभिनेत्री नुसरत जहां 29 साल की हैं तो अभिनेत्री मिमी चक्रवर्ती 30 साल की हैं। मिमी भी टीएमसी से पश्चिम बंगाल की जादवपुर सीट से सांसद हैं। लोकसभा में आधे से ज्यादा सांसद 50 साल की उम्र से ज्यादा के हैं। करीब एक-तिहाई सांसद 60 साल की उम्र के निकट पहुंच गए हैं। यह उम्र सरकारी नौकरी में रिटायरमेंट की मानी जाती है। लोकसभा में इस बार मुस्लिम सांसदों की संख्या बढ़कर 26 हो गई है। 16वीं लोकसभा में 22 मुस्लिम सासंद थे, जो अब तक की सबसे कम संख्या थी। वर्ष 1980 में लोकसभा में मुस्लिम सासंदों की सबसे ज्यादा संख्या 49 थी। बहरहाल, अब सांसदों के शपथ ग्रहण के साथ ही सदन में उनके बैठने के लिए सीटें आवंटित की जाएंगी। इसके लिए एक तय फार्मूला है। संख्याबल के अनुसार सीटें तय की जाती हैं। लोकसभा स्पीकर किसी वरिष्ठ सदस्य को अग्रिम पंक्ति में बैठने के लिए सीट अलाट कर सकते हंै। संविधान के अनुसार, लोकसभा में सांसदों की संख्या अधिकतम 552 तक हो सकती है। इनमें से 530 सदस्य अलग-अलग राज्यों से होते हैं, जबकि 20 सदस्य केंद्र शासित प्रदेशों से हो सकते हैं। 2 सदस्य राष्ट्रपति एंग्लो इंडियन समुदास ने नामित करते हैं। अभी लोकसभा सदस्यों की संख्या 545 है।

सदन में नये सितारे भी
इस बार सदन में नये अभिनेता,अभिनेत्री, क्रिकेटर व अन्य कलाकार भी दिखेंगे। अभिनेता सनी देओल, भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार रवि किशन, पंजाबी व सूफी गायक हंसराज हंस, अभिनेत्री मिमी चक्रवर्ती और नुसरत जहां के साथ-साथ क्रिकेटर गौतम गंभीर पहली बार सदन में नजर आएंगे। अभिनेत्री हेमा मालिनी व किरन खेर दोबारा, जबकि स्मृति ईरानी पहली बार लोकसभा में पहुंची हैं।

265 नये सांसद, सबसे ज्यादा भाजपा के

इस बार, 265 सांसद पहली बार संसद पहुंचे हैं, इसलिए पुराने की तुलना में नये चेहरे ज्यादा हैं। नये सांसदों में सबसे ज्यादा भारतीय जनता पार्टी के 133 प्रतिनिधि हैं। दूसरे नंबर पर कांग्रेस है। उसके 30 सांसद नए हैं। तीसरे पर वाईएसआर कांग्रेस है, जिसके 18 सांसद पहली बार लोकसभा पहुंचे हैं। डीएमके के 17, बसपा और बीजेडी के 9, टीएमसी के 7, टीआरएस के 5, शिवसेना के 4 और एलजेपी के 3 सांसद पहली बार सदन में नजर आएंगे। इसके अलावा, पांच दलों से 2-2 और 11 अन्य दलों से एक-एक सांसद पहली बार लोकसभा पहुंचे हैं।

 

78 महिलाएं, पहली बार सबसे ज्यादा
यह पहली बार है, जब लोकसभा में सबसे ज्यादा 78 महिलाएं सदन में दिखेंगी। भारतीय जनता पार्टी की सबसे ज्यादा 41 महिलाएं संसद में पहुंची हैं। दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस है, जिसकी 9 सांसद सदन में नजर आएंगी। बीजेडी और कांग्रेस की 5, वाईएसआर कांग्रेस की 4, डीएमके की 2 सांसद लोकसभा पहुंची हैं। इनके अलावा, जेडीयू, एलजेपी, एनसीपी, एनपीएफ, अकाली दल, शिवसेना, टीआरएस की एक-एक सांसदों सहित विभिन्न दलों की 12 महिलाएं लोकसभा में नजर आएंगी।

475 सांसद करोड़पति
17वीं लोकसभा को धनवान नेताओं की पंचायत भी कह सकते हैं। इस बार लोकसभा करोड़पति सांसदों से भरी हुई है। 542 सांसदों में से 475 यानी 88 फीसदी सांसद करोड़पति हैं। इनमें भाजपा के 265, कांग्रेस के 43, द्रमुक के 22, तृणमूल कांग्रेस के 20 और वाईएसआर कांग्रेस के 19, शिवसेना के 18 और जनतादल(यू) के 15 सांसद करोड़पति हैं। एमपी के सीएम कमलनाथ के बेटे व कांग्रेस सांसद नकुलनाथ इस बार चुने गए सभी सांसदों में सबसे अमीर सांसद हैं। नकुल ने अपनी कुल संपत्ति 660 करोड़ रुपये बताई है।

233 पर हैं आपराधिक मामले
इस बार पिछली लोकसभा से भी ज्यादा दागी सांसद संसद पहुंचे हैं। 542 नवनिर्वाचित सांसदों में से 233 पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। यानी 43 फीसदी सांसद दागी हैं। 2014 में 34 फीसदी सांसदों पर मुकदमे थे। दागी सांसदों की संख्या में भारतीय जनता पार्टी पहले स्थान पर है। उसके 303 में से 116 सांसदों के खिलाफ केस चल है। कांग्रेस के 52 में 29 सांसदों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। द्रमुक और वाईएसआर कांग्रेस 10-10 तथा टीएमसी के 9 सांसदों पर मुकदमे दर्ज हैं।

केरल के इडुक्की से कांग्रेस सांसद डीन कुरियाकोस के खिलाफ सबसे ज्यादा 204 मुकदमे दर्ज हैं। इसमें 37 गंभीर मामले हैं।

 

ये होता है सिटिंग  प्लान
संसद के लोकसभा सदन में सीटों की संख्या 550 है। ये सीटें 6 ब्लॉक में बंटी हैं। प्रत्येक ब्लॉक में 11 पंक्तियां हैं।
सदन में स्पीकर के दायीं ओर सत्ता पक्ष और बायीं ओर विपक्ष के सदस्य बैठते हैं। दायीं ओर की पहली पंक्ति की पहली सीट पर प्रधानमंत्री बैठते हैं, जबकि बायीं ओर की पहली पंक्ति की पहली सीट पर लोकसभा के डिप्टी स्पीकर बैठते हैं। स्पीकर के आगे लोकसभा के महासचिव व सचिवालय के अधिकारी बैठते हैं। वे सदन की
दिनभर की कार्यवाही को रिकॉर्ड करते हैं। पहली पंक्ति में कुल 20 सीटें हैं। इसलिए इनमें प्रधानमंत्री, लोकसभा के डिप्टी स्पीकर, विपक्ष के नेता और सरकार के वरिष्ठ  मंत्री व विभिन्न दलों के वरिष्ठ नेता बैठते हैं। बैठने की व्यवस्था हो जाने के बाद संसद की विभिन्न समितियांं  का गठन किया जाएगा। हर एक सदस्य किसी न  किसी समिति का सदस्य अवश्य होता है। सांसदों के  लिए संसद भवन परिसर में लाइब्रेरी भी है। कैंटीन  भी है। संसद के सेंट्रल हॉल में भी बैठने की व्यवस्था
रहती है।

ये नहीं दिखेंगे इस बार


Comments Off on 17वीं लोकसभा: गरीब देश के अमीर रहनुमा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.