दो गुरुओं के चरणों से पावन अमर यादगार !    व्रत-पर्व !    ऊंचा आशियाना... आएंगी ढेर सारी खुशियां !    आत्मज्ञान की डगर !    झूठ से कर लें तौबा !    इस समोसे में आलू नहीं !    पुस्तकों से करें प्रेम !    बिना पानी के स्प्रे से नहाएंगे अंतरिक्ष यात्री !    मास्टर जी की मुस्कान !    अविस्मरणीय सबक !    

होटल में शिष्टाचार

Posted On June - 30 - 2019

शिष्टाचार

मोनिका अग्रवाल
ज़रा सोचकर देखिये, आप किसी होटल में खाना खाने जायें और वहां कोई व्यक्ति बहुत ही गलत तरीके से वेटर से बोले या आसपास लोगों के साथ व्यवहार अच्छा न करे तो आपको कैसा लगेगा? अवश्य ही उस वक्त आप सोचने पर मजबूर होंगे कि ‘कैसा आदमी है? इसे तो बात करने का सलीका तक नहीं मालूम।’
क्या ऐसे व्यक्ति से कोई बात करना चाहेगा? शायद नहीं। तहज़ीब हमारे व्यक्तित्व की पहचान होती है फिर क्यों न तहज़ीब का परिचय दिया जाये।
हम सभी को कभी न कभी परिवार, मित्र, सहकर्मी या सहपाठी के साथ होटल में खाना खाने का अवसर मिलता रहता है। यदि ऐसे में आप कुछ बातों का ध्यान रखें तो आप अपनी एक अच्छी छाप छोड़ सकते हैं। आइए, जानते हैं कुछ होटल शिष्टाचार के बारे में।
तैयार हों मौके के अनुसार
‘सिर्फ खाना खाने ही तो जाना है’ यह सोचकर कुछ भी पहनकर होटल में चले जाना उचित नहीं। होटल का माहौल कैसा है और किस तरह के होटल में जा रहे हैं? सब कुछ सोच कर उसके अनुसार कपड़ों का चयन करें। वरना बेवजह हंसी का पात्र बनेंगे और खाने का आनंद नहीं उठा पाएंगे।
कम करें मोबाइल का प्रयोग
जहां तक संभव हो सके अपने फोन को साइलेंट मोड पर रखें। गाड़ी की चाबी या वॉलेट को अपनी जेब में रखें ताकि खाना सर्व करते समय होटल के वेटर को परेशानी न हो।
ध्यान रखें ऑर्डर देते समय
जब आप खाने का ऑर्डर देने जा रहे हैं तो इस बात का ज़रूर ध्यान रखें कि ऑर्डर अपने अतिथि को देने दें।
नैपकिन का करें प्रयोग
वेटर के टेबल पर प्लेट्स और नैपकिन रखने के बाद, नैपकिन को आराम से उठाकर अपनी गोद में रखें। कुछ लोग नैपकिन को गले से बांध लेते हैं यह उचित नहीं। यदि आप वॉशरूम जा रहे हैं तो नैपकिन को अपनी कुर्सी पर रख जाएं न की प्लेट में। खाना खत्म होने के बाद आप नैपकिन को प्लेट में या प्लेट के दाईं ओर रखें।

न करें चम्मच की आवाज़
कांटे या चम्मच से प्लेट में खाते समय आवाज़ न करें। खाना खाते समय बोलना अशिष्टता है। अगर फोन सुनने बाहर जाना है तो इस बीच ‘एक्सक्यूज़ मी’ या ‘सॉरी’ शब्द का प्रयोग करें। आप खाना तब तक शुरू न करें, जब तक सब को खाना सर्व न हो जाए।
हाथों से तोड़ें रोटी
बिज़नेस डिनर में अपनी रोटी को काटने के लिए चाकू का इस्तेमाल कभी नहीं करना चाहिए। एक बार में रोटी के एक टुकड़े को तोड़ कर खायें।
न करें डकार की आवाज़
खाते हुये डकार लेना असभ्य माना जाता है। न तो डकार की आवाज़ करें और न ही चबाने की। दोनों ही बातें अशिष्टता की निशानी है।
न करें टूथपिक का प्रयोग
खाना खाने के बाद लपक कर टूथपिक उठाना, उसका प्रयोग करना और अपनी नाक को फुलाना गलत है। खांसी होने पर मुंह को रुमाल से ढक लें।


Comments Off on होटल में शिष्टाचार
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.