दोस्ती में समझदारी भी ज़रूरी !    सहयोगियों की कार्यक्षमता को समझें !    आज का एकलव्य !    सुडोकू से बढ़ाएं बच्चों की एकाग्रता !    विद्यालय जाने की खुशी !    तंग नज़रिये की फूहड़ता !    इनसान से एक कदम आगे टेक्नोलॉजी !    महिलाएं भी कर सकती हैं श्राद्ध! !    आध्यात्मिक यात्रा में सहायक मुद्राएं !    उपवास के लिए साबूदाना व्यंजन !    

हर टीम दूसरी टीम से भिड़ेगी

Posted On June - 2 - 2019

संजय श्रीवास्तव
विश्व कप पर निगाह टिकाए बैठे टीम इंडिया के प्रशंसकों को कुछ इंतज़ार करना होगा क्योंकि टीम इंडिया का पहला मैच पांच जून को होगा। पहली टीम जिससे विराट कोहली के खिलाड़ी टकराएंगे, वह साउथ अफ्रीका होगी।
टूर्नामेंट के फॉर्मेट में बदलाव
टूर्नामेंट का फॉर्मेट इस बार बदला हुआ है। हालांकि, वर्ल्ड कप का फॉर्मेट और टीमों की संख्या हर बार बदलना कोई बहुत अच्छी बात नहीं कही जानी चाहिए, इस पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल को विचार करने की ज़रूरत है। इस बार हर टीम राउंड रोबिन में खेलेंगी यानी हर टीम दूसरी टीम से खेलेगी, इस तरह प्रारंभिक लीग में हर टीम को नौ मैच खेलने का मौका मिलेगा। टॉप चार टीमों में सीधे सेमीफाइनल में पहुंचने का मौका मिलेगा। हालांकि, यहां आपको ये भी बताना ज़रूरी है कि पहली बार ऐसा हो रहा है जबकि टेस्ट का दर्जा करने हासिल करने वाली 12 टीमों में 10 टीमें ही वर्ल्ड कप में खेलने की हकदार बनी हैं। इस बार जिन दो टीमों को खेलने का मौका नहीं मिल सका, वे आयरलैंड और जिम्बाब्वे की टीमें हैं। जिम्बाब्वे की टीम 1983 के बाद पहली बार वर्ल्ड कप में नहीं होगी तो आयरलैंड वर्ष 2007 से लगातार वर्ल्ड कप में आती रही थी।
इंगलैंड को 20 साल बाद मेज़बानी
इंगलैंड में 20 साल बाद और पांचवीं बार वर्ल्ड कप का आयोजन हो रहा है। 1975, 1979, 1983 और 1999 में इंगलैंड वर्ल्ड कप की मेज़बानी कर चुका है। 26 साल पहले इंगलैंड की धरती पर कपिल देव की टीम ने पहली बार वर्ल्ड कप जीता था। वह टीम जब वर्ल्ड कप में पहुंची तो कोई उसे विजेता मानने को तैयार नहीं था। लेकिन यहां हर मैच में कोई न कोई भारतीय क्रिकेटर हीरो बनकर उभरा। इस टीम में कई आलराउंडर क्रिकेटर थे, अच्छे बॉलर थे और यकीनन अच्छे बैट्समैन भी। सबसे बड़ी बात ये भी थी कि कपिल देव ने इस टीम को एक मज़बूत टीम के रूप में ढाल दिया था।
26 साल बाद
अब 26 साल बाद फिर भारतीय क्रिकेट टीम उसी धरती पर है। भारतीय टीम मौजूदा समय में आईसीसी की वन-डे रैंकिंग में दूसरे स्‍थान पर है। भारतीय टीम के क्रिकेटर आईपीएल जैसी लीग खेलने के बाद वहां पहुंची है तो ये कहा जाना चाहिए कि भारतीय टीम पूरी लय और फॉर्म में दिखेगी। आईपीएल के जरिए भारतीय क्रिकेटरों ने भरपूर प्रैक्टिस का मौका पिछले कुछ महीनों में हासिल किया है।
आईपीएल में भारतीय टीम का प्रदर्शन कुल मिलाकर बेहतर हुआ है, साथ ही नई प्रतिभाएं भी सामने आई हैं। हाल ही में एक कार्यक्रम में इंग्ालैंड के पूर्व ऑलराउंडर और 2019 आईसीसी वर्ल्ड कप के ब्रांड एंबेसडर एंड्रयू फ्लिंटॉफ़ ने कहा कि विराट कोहली सचिन तेंदुलकर से भी बेहतर खिलाड़ी हैं, शायद ऑल टाइम बेस्ट! हालांकि, ये भी सही है कि विराट का इंगलैंड में अब तक का रिकॉर्ड कोई बहुत प्रभावित करने वाला नहीं है। महेंद्र सिंह धोनी के टीम में होने का मतलब है कि टीम में एक बढ़िया मध्यक्रम के बल्लेबाज़ की मौजूदगी। बहुत हद तक भारतीय टीम की बैटिंग बढि़या ओपनिंग पर निर्भर करेगी। ओपनिंग में शिखर धवन और रोहित शर्मा ही रहेंगे, लिहाजा उन पर हमेशा एक शानदार शुरुआत करने का दारोमदार रहेगा।
केदार जाधव भले ही फिट घोषित किए गए हो, लेकिन उनकी फिटनेस भी टीम इंडिया के लिए चिंता का विषय है। जाधव न सिर्फ लंबे शॉट लगाना जानते हैं बल्कि वह पार्ट-टाइम गेंदबाजी से साझेदारियां तोड़ना भी जानते हैं। भारत के पास हार्दिक पांड्या और रवींद्र जडेजा जैसे धाकड़ ऑलराउडर्स हैं, जो बॉलिंग औऱ बैटिंग में असरदार रहे हैं। अगर बेंच स्ट्रेंथ की बात की जाए तो उसके पास केएल राहुल, विजय शंकर और दिनेश कार्तिक हैं जो ज़रूरत पड़ने पर बखूबी अपनी भूमिकाएं निभाने में सक्षम हैं।
प्रतिद्वंद्वी टीमों पर नज़र
ऑस्ट्रेलिया, इंगलैंड और दक्षिण अफ्रीका जैसी टीमों के सामने भारत का कड़ा इम्तिहान होगा। अगर उनके खिलाफ भारत ने अपने मैच जीते तो सेमीफाइनल की उसकी राह प्रशस्त हो जाएगी, लेकिन पाकिस्तान, बांग्लादेश और न्यूजीलैंड जैसी टीमें हमेशा से खतरनाक रही हैं। ये वे टीमें हैं, जो इस वर्ल्ड कप में बड़े उलटफेर कर सकती हैं। बांग्लादेश हमेशा वन-डे क्रिकेट में उलटफेर के लिए जानी गई है। वेस्टइंडीज़ की टीम इस बार क्वालीफाई करके बेशक वर्ल्ड कप में आ रही है लेकिन हमने आईपीएल में देखा है कि उनके क्रिकेटर्स कितने गजब के हैं। अगर वे एक टीम के तौर पर खेल पाएं तो किसी पर कभी भी भारी पड़ेंगे। टीम इंडिया अगर शुरुआत के अपने तीन-चार मैच अच्छे खेल गई तो फिर उसे रोकना मुश्किल होगा।


Comments Off on हर टीम दूसरी टीम से भिड़ेगी
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.